narendra modi, hike fellowship, mhrd, prakash javadekar, researchers, protest, nationwide protest

Hike Fellowship : देश को ‘विश्व गुरू’ बनाने वाले Research Scholars जेल में, वाह मोदी जी वाह…

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली, 16 जनवरी। फेलोशिप में 80 फीसदी की बढ़ोत्तरी की मांग कर के देश भर के रिसर्च स्कॉलर्स आज नई दिल्ली स्थित मानव संसाधन विकास मंत्रलाय के सामने शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन कर रहे थे। इस दौरान छात्रों ने केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात करने की मंशा जाहिर की, लेकिन जावड़ेकर किसी अन्य काम से बेंगलोर में हैं।

इसके अलावा छात्रों ने जब सुब्रमण्य स्वामी से मिलने की इच्छा जाहिर की तो सुब्रमण्यम ने दो टूक शब्दों में कहा कि मेरे पास इन रिसर्च स्कॉलर्स से मिलने का समय नहीं है। हद तो तब हो गई जब आंदोलन कर रहे इन छात्रों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया।

ये छात्र किसी राजनीति संगठन के नहीं बल्कि देश को ‘विश्व गुरू’ बनाने वाले अनुसंधान के छात्र हैं। इनमें IIT, IISER, AIIMS, BHU, JNU, DU, ISRO सहित अन्य संस्थानों के शोधार्थी थे। फेलोशिप में बढ़ाने के लिए पिछले कई महीनो से सरकार से गुहार लगा रहे ये छात्र हर बार की तरह इस बार भी सड़कों पर उतरे थे, लेकिन पहले सरकार गैरजिम्मेदाराना रवैया फिर पुलिस द्वारा इन छात्रों की बलपूर्वक गिरफ्तारी अपने पिछे कई सवाल छोड़ती है।

READ:  हाथरस में बवाल, पुलिस लाठीचार्ज में कई SP-RLD कार्यकर्ता घायल

इन सवालों में सबसे बड़ा सवाल यह है कि, एक ओर तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को विश्व गुरू बनाने की बात कर रहे हैं लेकिन वहीं दूसरी ओर इन शोधार्थियों के साथ ऐसा सलूक सरकार के दोहरा रवैया दर्शाता। दूसरा बड़ा सवाल यह है कि प्रधानमंत्री मोदी जय अनुसंधान का नारा देते हैं लेकिन अनुसंधान छात्रों के लिए सरकार के पास टाइम ही नहीं है, ऐसे कैसे अनुसंधान की जय होगी।

इससे पहले आंदोलन कर रहे छात्रों और पुलिस के बीच कई बार नोक झोक की स्थिति भी बनी। पुलिस ने इन छात्रों को कई बार यहां से खदेड़ने की कोशिश की, लेकिन छात्र अपनी मांगो को लेकर डटे रहे।

READ:  भारत बंद को लेकर पुलिस ने जारी की एडवाइज़री-जाने 5 ख़ास बातें

बहरहाल, बता दें कि देश भर के रिसर्च स्कॉलर्स की पिछले चार वर्षों से फेलोशिप नहीं बढ़ाई गई है। समान फेलोशिप पर ये छात्र शोध कर रहे हैं जबकि पिछले चार सालों में महंगाई का स्तर कई गुना बढ़ गया है। इस पूरे घटना क्रम के बाद छात्रों ने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर अपना गुस्सा जाहिर करते हुए लिखा… देश का थिंक टैंक और उसे विश्व गुरू बनाने वाला छात्र जेल में हैं… वाह मोदी जी वाह…

रिसर्च फेलो की प्रमुख मांग-
1) जेआरएफ, एसआरएफ, पीएचडी कर रहे लोगों की फेलोशिप की रकम 20 फीसदी प्रतिवर्ष के हिसाब से 80 फीसदी बढ़ाई जाए। क्योंकि यह हर चार वर्ष में एक बार बढ़ती है।

2) फेलोशिप के तहत मिलने वाली यह रकम हर महीने समय पर आए, क्योंकि अब तक यह रकम कभी तीन महीने, छह महीने या कभी 8 महीने गुजर जाने के बाद मिलती है।

READ:  Pulitzer Prize 2020 : तीन कश्मीरी फोटो पत्रकारों को मिला पत्रकारिता की दुनिया का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार

3) सरकार वेतन आयोग के तहत ऐसी गाइडलाइन बनाए जिससे यह तय हो कि फेलोशिप के तहत करने वाले रिसर्चर्स को हर महीने समय पर फेलोशिप की रकम मिले।

 

%d bloggers like this: