Home » मासूम की PM मोदी से अपील, बोली- ‘PLZ SAVE MY PAPA BCZ HE IS A…’

मासूम की PM मोदी से अपील, बोली- ‘PLZ SAVE MY PAPA BCZ HE IS A…’

Rearch Scholar hike fellowship
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश भर में रिसर्च स्कॉलर्स की राष्ट्रव्यापी हड़ताल का आज 10वां दिन है। कई जगह कैंडल मार्च, पैदल मार्च और काम के दौरान काली पट्टी का उपयोग कर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया गया। वहीं इन सबसे इतर सोशल मीडिया पर इस अभियान में एक तीन से चार साल की बच्ची की आंदोलन करती ‘क्यूट फोटो’ सामने आई है।

पिंक कलर की ड्रेस पहने बच्ची अपने हाथ में रिसर्च स्कॉलर्स के लिए फेलोशिप की मांग करती हुई तख्ती लिए हुए है। इस तस्वीर को केपी रोजलीन मोहपात्रा नामक एक फेसबूक यूजर ने शेयर किया है। इस तस्वीर में बच्ची ने तख्ती ली हुई है उसमें लिखा है…प्लीज सेव माय पापा… क्योंकि वह एक रिसर्च स्कॉलर हैं।

बच्ची की यह अपील मोदी सरकार से है। जो सरकार से न सिर्फ अपने पापा बल्की देश भर के रिसर्च स्कॉलर्स की फेलोशिप बढ़ाने की मांग कर रही है। इस बच्ची का नाम एस आर  सुरभी मोहंती है। सुरभी के पिता भी एक पीएचडी स्कॉलर हैं, जो अगरतला स्थित NIT के प्रोडक्शन डिपार्टमेंट से पीएचडी कर रहे हैं।

बता दें कि फेलोशिप में 2014 में वृद्धि हुई थी, इसके बाद आज दिनांक तक कोई फैसला नहीं आया है। उम्मीद जताई जा रही है कि 26 जनवरी के दौरान पीएम मोदी फेलोशिप के मुद्दे पर घोषित कर सकते हैें।

READ:  Chhattisgarh: Collector who slaps young man apologizes

https://www.facebook.com/groups/hrf.india/permalink/2218753885066511/

फोटो, रोजालिन महापात्रा की वॉल से साभार।

रिसर्च फेलो की प्रमुख मांग-
1) जेआरएफ, एसआरएफ, पीएचडी कर रहे लोगों की फेलोशिप की रकम 20 फीसदी प्रतिवर्ष के हिसाब से 80 फीसदी बढ़ाई जाए। क्योंकि यह हर चार वर्ष में एक बार बढ़ती है।

2) फेलोशिप के तहत मिलने वाली यह रकम हर महीने समय पर आए, क्योंकि अब तक यह रकम कभी तीन महीने, छह महीने या कभी 8 महीने गुजर जाने के बाद मिलती है।

3) सरकार वेतन आयोग के तहत ऐसी गाइडलाइन बनाए जिससे यह तय हो कि फेलोशिप के तहत करने वाले रिसर्चर्स को हर महीने समय पर फेलोशिप की रकम मिले।