Health Tips: इस वक्त सोना हो सकता है खतरनाक, देखें क्या है नुकसान?

PMS, Premenstrual Syndrome, PMS Premenstrual Syndrome, What is PMS, Periods, Gynecologist and Obstetrician Dr. Madhulika Sharma, Gynecologist, Obstetrician, Dr. Madhulika Sharma, Health OPD, girl problems, Video: क्या है PMS, Premenstrual Syndrome? समझें Periods से पहले की दिक्कतें और उपाय! what is PMS, Premenstrual Syndrome (Gynecologist and Obstetrician Dr. Madhulika Sharma) डॉ. मधुलिका सिन्हा
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दोपहर की नींद आपके लिए बीमारियों का खतरा बढ़ा सकते हैं।

दोपहर में नींद लेना (health sleeping) आपको पड़ सकता है भारी दोपहर में सोने से आपको कब्ज अपच गैस जैसी बीमारियों का हो सकता है खतरा।
सर्दियों का मौसम चल रहा है और ऐसे में दोपहर के खाने के बाद जाहिर सी बात है कि बहुत से लोगों को नींद खूब आने लगती है। लेकिन ठंड के मौसम में दोपहर की नींद हमारे सेहत के लिए ठीक नहीं होता है।
हेल्थ एक्सपर्ट की मानें तो ठंड के दिनों में दोपहर के समय सोने से आपको पेट से जुड़ी दिक्कतें जैसे गैस कब्ज अपच आदि हो सकता है। इसके अलावा आपको मोटापे और डायबिटीज जैसी बीमारियों का भी खतरा बढ़ जाता है।
आयुर्वेद के अनुसार यह भी बताया जाता है कि दिन में नहीं सोना चाहिए खासतौर पर ठंड के मौसम में । सर्दियों के मौसम में दिन के समय में सोने से कफ और पित्त से जुड़ी कई प्रकार की तमाम बीमारियां हो सकती हैं । क्योंकि ठंड के समय दोपहर की नींद लेने से शरीर में कफ और पित्त का संतुलन बिगड़ जात हैैं। हालांकि आयुर्वेद में कुछ लोगों को छूट है दिन में सोने के लिए। खासकर ऐसे लोग जो बुजुर्गों हो, स्टूडेंट हो, मजदूर हो या फिर ऐसे लोग भी जिन्हें अपना वजन बढ़ाना हो वह भी दिन में सो सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि कभी भी तुरंत खाना खाने के बाद सोया ना जाए। (health sleeping)

READ:  Health tips for Coronavirus: पालक के ये पांच फायदे, जो इसे 'सुपर पॉवर फूड' बनाते हैं

एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा को क्यों कहना पड़ा कि ‘मैं ब्राह्मण नहीं’ और अम्बेडकर मेरे भी आइकन ?

समय के अभाव में पाॅवर नैप लिया जा सकता है –
कुछ “डाइटिशियन और फिटनेस एक्सपर्ट ” का कहना है कि बहुत से लोगों को या कन्फ्यूजन होता है कि उन्हें नींद आ रही है या भूख लग रही है। इस कन्फ्यूजन में लोगों द्वारा नींद आने पर कुछ हल्का-फुल्का खाकर नींद को भगाने की कोशिश करते हैं, तो वहीं कुछ लोग जिन्हें भूख लगती है वह सोने की कोशिश करते हैं जिससे उनका भूख शांत हो जाए। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं किया जाना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से शरीर को शारीरिक और मानसिक रूप से प्रभाव पड़ता है। यदि आपके पास समय का अभाव है तो आप पाॅवर नैप ले सकते हैं।

कुछ “डॉक्टर्स एक्सपर्ट का यह भी कहना “ है कि यदि दोपहर के समय पाॅवर नैप ले रहे हैं तो ठीक है लेकिन इससे रात के समय नींद के ना आने की समस्या उत्पन्न हो सकती है हालांकि दोपहर में सोने से हमारे शरीर को रिफ्रेशमेंट जरूर मिलता है।

READ:  Dark Circles Home Remedies:  सिर्फ दो दिन में पाये डार्क सर्कल से छुटाकारा, बस अपनाएं इन नुस्खों को

सरकेडियन रिदम से समझे कि किस समय सोना और उठना है
स्टडी के मुताबिक यह पता चला है कि करीबन 50% लोगों को दोपहर की नींद लेने से कुछ ज्यादा फायदा नहीं मिलता है। ऐसे लोग में सरकेडियन रिदम होता है।
सरकेडियन रिदम वह होता है जो शरीर को बताती है कि सोना कब है और उठना कब है। अगर आपको दोपहर में नींद नहीं आ रही है। तो इसका यह मतलब हुआ कि आपके शरीर को आराम की जरूरत नहीं है क्योंकि आपके शरीर की क्षमता बनी हुई है। (health sleeping)

गर्मियों के दिनों में दोपहर में सोना फायदेमंद –
केवल गर्मी के मौसम में स्वस्थ व्यक्ति दोपहर में झपकी ले सकते हैं। क्योंकि गर्मियों के समय रातें छोटी होती हैं जिसकी वजह से कई बार लोगों की नींद अच्छे से नहीं हो पाती है। इसके अलावा गर्मियों के दिनों में शरीर में ज्यादा थकान और रूखापन महसूस होता है जिसके कारण दोपहर में सोने से शरीर को आराम मिलता है।

इसलिए सामान्य एवं स्वस्थ व्यक्ति को ठंड के मौसम में दोपहर में नहीं सोना चाहिए। जबकि गर्मी के मौसम में दोपहर में सोया जा सकता है।

किन लोगों के लिए दिन में सोना फायदेमंद हैं –
1) स्टूडेंट के लिए
2) बुजुर्गों के लिए
3) अस्वस्थ व्यक्तियों के लिए
4) मजदूरों के लिए

READ:  Medicine for Coronavirus: कोरोना वायरस के इलाज में कौन सी दवाइयां उपयोगी हैं?

दोपहर में अच्छी नींद लेने से फायदे –
1) तनाव कम होता हैं
2) याददाश्त को अच्छा बनाए रखने में मददगार
3) कैपिंग की कमी को पूरा करना
4) काम को करने की क्षमता में वृद्धि
5) शारीरिक मानसिक स्फूर्ति
6) मूड अच्छा बना रहता है

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।