Home » हाथरस गैंगरेप केस: दुष्कर्म की घटनाओं के खिलाफ भोपाल में यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स का विरोध प्रदर्शन

हाथरस गैंगरेप केस: दुष्कर्म की घटनाओं के खिलाफ भोपाल में यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स का विरोध प्रदर्शन

hathras gangrape case: stuendts peaeful protest at bhopal new market
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हाथरस में 19 वर्षीय दलित युवती के साथ हुए गैंगरेप और पुलिस द्वारा रातों-रात उसका दाह संस्कार कर देने से देश भर में गुस्सा है। देशभर में आंदोलन हो रहे है। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में भी हाथरस गैंगरेप मामले को लेकर कई जगह आंदोलन हो रहे हैं। यहां भोपाल शहर के न्यू मार्केट चौराहे पर यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया।

हाथरस जा रही प्रियंका गांधी के साथ यूपी पुलिस की बदसलूकी, कुर्ता खींचा, कपड़े फाड़ने की कोशिश

प्रदर्शन में शामिल छात्र-छात्राओं के हाथ में हाथ से बने पोस्टर थे। छात्रों ने सरकार से अपील करते हुए कहा कि देश में हो रही दुष्कर्म की वारदातें रुकनी चाहिए और हाथरस के आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए। इस प्रदर्शन में शहर के सोफिया, एलएनटी, सीए और सीएस के स्टूडेंट भी शामिल हुए प्रदर्शन के दौरान कैंडल जलाकर पीड़िता को श्रद्धांजलि भी दी।

READ:  Madhya Pradesh: Covid patient dies after being raped in hospital

बीजेपी विधायक ने हाथरस गैंगरेप जैसी घटनाओं के पीछे लड़कियों के संस्कार और चाल-चलन को बताया जिम्मेदार

सोशल मीडिया पर ओजस्विनी त्रिपाठी ने एक पोस्टर जारी करते हुए समाज के लोगों से प्रदर्शन में शामिल होने की अपील की थी। तेजस्विनी ने बताया कि उन्होंने प्रदर्शन को लेकर एक पोस्ट शेयर किया। जहां सभी से शाम 5:30 न्यू मार्केट चौराहे पर इकट्ठा होने की अपील की गई थी। उन्होंने बताया कि हाथरस में हुई घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है।

हाथरस गैंगरेप मामले में कब, कैसे, क्या हुआ, पढ़ें पूरी टाइमलाइन…

आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए। समाज में महिलाओ के खिलाफ हो रही इस तरह की वारदातों पर रोक लगाने के लिए सरकार और प्रशासन को उचित कदम उठाने चाहिए। प्रदर्शन के दौरान कोरोना गाइडलाइन का भी पालन करते हुए छात्र सोशल डिसटेनसिंग रखी और मास्क पहने रहे।

हाथरस मामले में अब तक क्या-क्या, पढ़े पल-पल की अपडेट

READ:  गौमूत्र पीने से नहीं हुआ कोरोना, मैं रोज पीती हूँ: BJP MP Pragya Thakur

बता दें कि 14 सितंबर को चार सवर्णों द्वारा गांव की ही रहने वाली दलित युवती के साथ सामुहिक बलात्कार किया और उसके साथ मार पीट की गई। इस घटना में पीड़िता को कई गंभीर चोटे आई थी। जांच में पाया गया कि उसके शरीर में कई जगह फ्रेक्चर थे और जुबान भी काट दी गई थी। आनन-फानन में पीड़िता को अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया। इसके दो सप्ताह बाद दिल्ली के एक अस्पताल में इलाज के दौरान पीड़िता की मौत हो गई।

हाथरस गैंगरेप केस: योगी सरकार ने काफिला रोका तो खुद कार चलाकर पीड़िता के घर पहुंची प्रियंका गांधी, परिवार से की मुलाकात

लेकिन इस पूरे घटनाक्रम के बाद सबसे ज्यादा परेशान करने वाली बात रही कि पीड़िता के शव को रातों-रात पुलिस प्रशासन द्वारा जला दिया गया। परिवार को अंतिम संस्कार भी नहीं करने दिया गया। जिसके बाद लोग और मीडिया आक्रोशित हो गए और पिछले कई दिनों से मामला मीडिया की सुर्खियों में छाया हुआ है।

READ:  Indore Corona: 5 सदस्य के परिवार में 3 की मौत, अस्पताल का बिल बना 16 लाख

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।