12 गांवों के ठाकुरों-ब्राह्मणों ने गैंगरेप आरोपियों की रिहाई के लिए आंदोलन चलाने का किया फैसला..

हाथरस मामले में अब तक क्या-क्या, पढ़े पल-पल की अपडेट

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दिल्ली और उत्तर प्रदेश में के बीच राजमार्ग पर नाटकीय दृश्य देखने को मिले जहा एक तरफ कांग्रेस नेता पीड़ित परिवार से मिलने की जद्दोजहद करते दिखे तो वही सूबे का पुलिस प्रसाशन अपने पूरे ज़ोश में सबको खदेड़ता हुआ दिखाई दिया। इस से पहले हाथरस पुलिस और प्रशाशन द्वारा रात ही रात में पीड़ित का जबरन अंतिम संस्कार किये जाने को लेकर पहले से ही जनता में जोरदार आक्रोश देखने को मिला है, उस से ज्यादा लोग इस बात से ख़फ़ा है की प्रसाशन द्वारा अंतिम संस्कार को लेकर झूठ बोला जाता है और बिना परिवार की मर्ज़ी और मौजूदगी के पीड़ित का अंतिम संस्कार कर दिया जाता हैं, कई लोगो यह भी मानना है कि प्रसाशन की इन हरकतों से पीड़ित का दोबारा बलात्कार हुआ हैं.

Harsh Srivastava | Hathras, U.P. |

FIR logged against Congress Leaders:-   इस संबंध में थाना इकोटेक में राहुल गांधी, श्रीमती प्रियंका गांधी सहित 153 नामजद एवं 50 अन्य लोगों के विरुद्ध अपराध 155/2020 धारा 188, 269, 270 आईपीसी (IPC) व 03 महामारी एक्ट के तहत (FIR) मामला दर्ज किया गया है।

पूरा घटनाक्रम:-   कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा कल पीड़ित परिवार से मिलने हाथरस जा रहे थे उसी दौरान यूपी पुलिस द्वारा उनका रास्ता रोका जाता है और उन्हें आगे न जाने के लिए चेताया जाता है बाद में IPC की धारा 188 का उल्लघन करने में ज़ुर्म में राहुल गांधी को गिरफ्तार कर लिया जाता है वहीं राहुल गांधी ने आरोप लगाने हुए कहा है कि पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज किया और उन्हें जमीन पर धकेल दिया, जब राहुल ने कहा की वो अकेले हाथरस जाना चाहते हैं और उनका धारा 144 का उल्लंघन करने का कोई इरादा नहीं हैं, तो पुलिस ने उनको बताया कि वो उन्हें आदेश के उल्लंघन के लिए धारा 188 आईपीसी के तहत गिरफ्तार कर रहे हैं।

एक्ला चलो:-    राहुल गांधी ने कहा अकेले जाना चाहता हूं ‘हाथरस’, उन्होंने पुलिस से पूछा कि किस नियम के तहत उन्हें गिरफ्तार किया जा रहा है ?

क्यों जाना चाहते थे हाथरस:-   गांधी परिवार उस 19 वर्षीय दलित महिला के परिवार से मिलना चाहते हैं, जिसकी उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में 04 उच्च-जाति के पुरुषों द्वारा कथित रूप से सामूहिक बलात्कार और अत्याचार करने के बाद मृत्यु हो गई, पीड़ित परिवार ने यह भी आरोप लगाया कि यूपी पुलिस ने बिना उनकी अनुमति के बेटी का जबरन अंतिम संस्कार कर दिया।

आगे क्या हुआ:-   इसके बाद उन्हें  यूपी पुलिस ने गुरुवार को हिरासत में ले लिया, धारा 144 लागू होने की वजह से यमुना एक्सप्रेसवे के पास अधिकारियों द्वारा उनकी कारों को रोक दिए जाने के बाद कांग्रेस नेता राहुल और प्रियंका यमुना एक्सप्रेसवे होते हुए हाथरस के लिए पैदल रवाना होने लगे थे.

NHRC का चला हंटर:-    उधर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग National_Human_Rights_Commission (NHRC) ने हाथरस सामूहिक बलात्कार (Hathras_Gang_Rape) के मामले में उत्तर प्रदेश सरकार (UP_Government) और राज्य के पुलिस प्रमुख (DG_UP_Police) को नोटिस जारी किया हैं। अधिकार पैनल ने एक बयान में कहा कि एनएचआरसी ने हाथरस जिले में अनुसूचित जाति से संबंधित 19 वर्षीय बालिका के साथ सामूहिक बलात्कार और बर्बरता के संबंध में मुकदमा दायर किया है।

हाथरस गैंगरेप केस में नया मोड़, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने अब किया ये दावा

Noida पुलिस ने क्या कहा:-    समाचार एजेंसी IANS से बात करते हुए, अतिरिक्त डीसीपी गौतमबुद्धनगर रणविजय सिंह, (Additinal_DCP_Ranvijay_Singh) ने कहा कि कांग्रेस नेताओं को हिरासत में ले लिया गया है और उन्हें आगे जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। वो आगे कहते हैं कि उनके पास डीएम हाथरस (DM_Hathras) का एक पत्र है, जिसमें कहा गया है कि अगर कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा  हाथरस आएंगे तो यह जिले की कानून व्यवस्था को बिगाड़ सकता है। दोनों भाई बहन, वरिष्ठ कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी, केसी वेणुगोपाल और रणदीप सुरजेवाला को हिरासत में लेने के बाद गौतम बुद्ध नगर के बौद्ध अंतर्राष्ट्रीय सर्किट में ले गए।

राहुल गांधी ने लगाए संगीन इल्ज़ाम:-    “यूपी पुलिस ने मुझे धक्का दिया, मेरे ऊपर लाठीचार्ज किया और मुझे जमीन पर फेंक दिया। मैं पूछना चाहता हूं, क्या केवल मोदीजी इस देश में चल सकते हैं? क्या इस देश में केवल भाजपा-आरएसएस (BJP-RSS) के लोग ही स्वतंत्र रूप से चल सकते हैं? क्या कोई सामान्य व्यक्ति नहीं चल सकता है? हमारा वाहन रोक दिया गया, इसलिए हमने चलना शुरू कर दिया।” राहुल ने वहां मौके पर मौजूद मीडियाकर्मियों से कहा. राहुल गांधी पुलिस से पूछते है, “कृपया मुझे बताएं कि आप किस Section के तहत मुझे गिरफ्तार कर रहे हैं.” Congress द्वारा Twitter_Handle से साँझा किये गए Video में राहुल गाँधी पूछते दिखाई देते हैं.

‘सीएम को जिम्मेदारी लेनी चाहिए’: प्रियंका गांधी “योगीजी को महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। यूपी में महिलाओं पर हो रहे अत्याचार को रोकना होगा। आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा दिए जाने की जरूरत है। पिछले साल भी हम उन्नाव बलात्कार पीड़िता के लिए लड़ रहे थे। तब से कुछ भी नहीं बदला है, ”प्रियंका ने चलते समय मीडियाकर्मियों से कहा.

कांग्रेस आलाकमान का क्या है इस पर रुख़:-     न्यूज़ एजेंसी IANS द्वारा कांग्रेस पार्टी सूत्रों ने कहा कि चलने से पहले उत्तर प्रदेश सरकार से अनुमति मांगी गई थी, लेकिन मिली नहीं.

हाथरस जिलाधिकारी ने क्या किया और कहा:-     इस से पहले गुरूवार को हाथरस के जिलाधिकारी Praveen_Kumar_Laxkar ने सुचना देते हुए बताया था कि हाथरस की सीमाओं को सील कर दिया गया हैं और धारा 144 लगा दी गई हैं। आगे कहते है “हमें प्रियंका गांधी के आने के बारे में कोई जानकारी नहीं है, विशेष जांच दल (SIT) आज पीड़ित परिवार के सदस्यों से मुलाकात करेगा, मीडिया को अनुमति नहीं दी जाएगी।”

BJP  के गुंडों ने हमारी गाडी रोकी: गांधी परिवार

जिस कार में दोनों भाई-बहन हाथरस जा रहे थे, उसे दिल्ली-नोएडा के रस्ते पर यूपी सरकार के प्रदर्शनकारियों ने रोक दिया था।

बीजेपी ने कांग्रेस पर लगाए इल्ज़ाम:     उधर दोनों पार्टी एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा रही है इसी बीच भाजपा ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं द्वारा पीड़ित परिवार से मिलने हाथरस जाने को लेकर इसे एक Political_Tourism बतया हैं और कांग्रेस को जोरदार पटखनी दी हैं. कई भाजपा नेताओं ने इस यात्रा के लिए गांधीवाद का नारा दिया और इसे ‘राजनीतिक पर्यटन’ कहा।

वहीं  केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी तल्ख़ टिप्पड़ी करते हुए कहते है कि गुनहगारों को सख़्त से सख़्त सज़ा दी जाएगी लेकिन कांग्रेस द्वारा इसको राजनीतिक मुद्दा बनाया जा रहा है. जांच दल – जांच को आगे बढ़ा रहे हैं, लेकिन मुझे लगता है कि वहां पर राजनीतिक पर्यटन नहीं होना चाहिए, “जो लोग राजनीतिक पर्यटन के माध्यम से तनाव बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं, उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए। हर कोई दुखी है और दोषियों के लिए सजा चाहता है … उत्तर प्रदेश सरकार इसके लिए काम कर रही है। आप जल्द ही परिणाम देखेंगे, ”उन्होंने कहा।

राजस्थान का मामला देखने के लिए क्यों नहीं जा रहा गांधी परिवार: सिद्धार्थ नाथ सिंह —     वहीं यूपी के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह कांग्रेस पार्टी से तीख़ा सवाल पूछा हैं कि राहुल और प्रियंका राजस्थान क्यों नहीं जा रहे हैं, जहां बारान से दो नाबालिगों का कथित तौर पर अपहरण कर लिया गया था और उन्हें जयपुर और कोटा ले जाया गया था, जहां उनके साथ तीन दिनों तक सामूहिक बलात्कार किया गया था। “वे राजस्थान क्यों नहीं जा रहे हैं? क्या सोनिया गांधी, राहुल और प्रियंका राजस्थान में हो रही घटनाओं पर जवाब नहीं देंगे? सिंह ने कहा कि वे हाथरस जिले का दौरा कर इस मुद्दे पर राजनीति करना चाहते हैं।

समाजवादी पार्टी का जबरजस्त विरोध:-

समाजवादी पार्टी ने भी हाथरस सीमा पर विरोध प्रदर्शन किया, जहाँ उन्हें महिला के गाँव में जाने से रोका गया इधर सुबह से ही मीडिया को गाँव में जाने से रोक दिया गया था और Press की स्वतंत्रता की लाख़ दुहाई देने वाले मीडिया को भी आम लोगो की तरह ही समझा गया.

पुलिस ने लगायी मार.

सरकार का दोगलापन:-      यूपी के अधिकारियों ने दावा किया कि प्रतिबंध 1 सितंबर से लागू था और इसे 31 अक्टूबर तक बढ़ा दिया गया था। एक वरिष्ठ अधिकारी ने दावा किया कि कई पुलिसकर्मियों में कोविद के लक्षण दिखाए थे। हालाँकि, कांग्रेस ने आरोप लगाया कि ये गांधी को गाँव में घुसने से रोकने के लिए प्रशाशन और सरकार की सोची समझी रणनीति हैं।

पीड़ित परिवार का आरोप:

महिला के परिवार ने आरोप लगाया कि पुलिस उनकी शिकायत का जवाब देने में धीमी रही और प्रशासन ने लापरवाही बरती क्योंकि वे दलित या दलित जातियों के थे।

हाई कोर्ट ने लिया सबको अपने घेरे में:-       उधर, हाथरस गैंगरेप (Hathras_Gang_Rape) मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट (Allahabad_High_Court) की लखनऊ खंडपीठ ने स्वत: संज्ञान लिया है। कोर्ट ने उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारियों (Senior_Officers) को नोटिस जारी किया है। इलाहाबाद हाई कोर्ट के जस्टिस राजन रॉय और जस्टिस जसप्रीत सिंह ने पीड़िता के शव का जल्दबाजी में दाह संस्कार किए जाने को लेकर संज्ञान लिया है। हाई कोर्ट ने DGP, ADG (कानून व्यवस्था), डीएम हाथरस (DM_Hathras), एसपी हाथरस (SP_Hathras) को तलब किया है।

सोनिया गांधी ने लताड़ा:

हाथरस गैंगरेप पीड़िता के शव को आधी रात जलाए जाने के मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने न्याय की मांग की है और कहा है कि “हाथरस की निर्भया की मृत्यु नहीं हुई है, उसे मारा गया है.”

उन्होंने सरकार से सवाल किया है “मरने के बाद भी इंसान की एक गरिमा होती है. हमारा हिन्दू धर्म उसके बारे में भी कहता है. मगर उस बच्ची को अनाथों की तरह पुलिस की ताक़त के ज़ोर से जला दिया गया.”

योगी की जगह किसी काबिल को बनाए मुख्यमंत्री या लगाएं राष्ट्रपति शासन:- मायावती

बहुजन समाज पार्टी (BSP) अध्यक्ष मायावती ने बृहस्पतिवार को उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर कड़ा हमला करते हुए केंद्र सरकार से राज्य में नेतृत्व परिवर्तन करने या राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की हैं।

राज्य सरकार ने इस पर पलटवार करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के रूप में मायावती के कार्यकाल में उत्तर प्रदेश में 1,000 से ज्यादा दलितों की हत्या हुई थी और आज वह सरकार पर उंगली उठा रही हैं। मायावती ने कहा कि प्रदेश में कानून-व्यवस्था और महिलाओं के प्रति अपराधों की बाढ़ के मद्देनजर जो हालात बन गए हैं उनमें केंद्र सरकार को प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की जगह किसी काबिल व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाना चाहिए और अगर ऐसा संभव ना हो तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू कर देना चाहिए।

दलित युवती के बलात्कारियों को फांसी हो: बसपा बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने हाथरस में दलित युवती के कथित बलात्कारियों और हत्यारों को फांसी की सजा देने तथा उसके शव को आधी रात को दाह संस्कार करने के लिए जिम्मेदार पुलिसकर्मियों को बर्खास्त करने की बृहस्पतिवार को मांग की। बसपा पार्टी के एक प्रति मंडल ने ऋषिकेश उपजिलाधिकारी वरुण चौधरी से मुलाकात की और उन्हें राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन सौंपा जिसमें 19 वर्षीय युवती के कथित बलात्कारियों को फांसी देने की मांग की।

राहुल-प्रियंका की गिरफ्तारी के खिलाफ प्रदर्शन करें सभी प्रदेश इकाइयां:- कांग्रेस

कांग्रेस ने गुरुवार को अपनी सभी प्रदेश कांग्रेस कमेटी से कहा कि वे राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा को उत्तरप्रदेश पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने के विरोध में प्रदर्शन करें,  पार्टी के संगठन‌ महासचिव केसी वेणुगोपाल ने ट्वीट कर दावा किया कि न्याय की मांग और हाथरस की पीड़िता के परिवार से मिलने का प्रयास करने के लिए उत्तरप्रदेश की डरपोक सरकार ने राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को गिरफ्तार किया, मैं सभी प्रदेश कांग्रेस कमिटियों और कार्यकर्ताओं से अपील‌ करता‌ हूं कि वे राहुल गांधी और प्रियंका गांधी और दूसरे नेताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ प्रदर्शन करें।

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा को हिरासत में लिए जाने के विरोध में मध्यप्रदेश कांग्रेस ने योगी सरकार का फूंका पुतला

पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी को हिरासत में लिए जाने के विरोध में मध्यप्रदेश कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने बृहस्पतिवार को प्रदर्शन किया और उत्तरप्रदेश की भाजपा सरकार का पुतला फूंका, विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे कांग्रेस के विधायक आरिफ मसूद ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जंगलराज है, वहां पर एक दलित बेटी के साथ बलात्कार होता है और जब हमारे नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा पीड़ित परिवार से मिलने जाते हैं तो उन्हें रोका जाता है, इसके साथ ही उनका कहना है कि यूपी सरकार ने बेशर्मी की सारी हदें पार कर दी हैं।