Home » हाथरस गैंगरेप केस: पीड़िता के पिता की छाती पर DM ने मारी लात, घर वालों का मोबाइल छीनकर बनाया बंधक

हाथरस गैंगरेप केस: पीड़िता के पिता की छाती पर DM ने मारी लात, घर वालों का मोबाइल छीनकर बनाया बंधक

हाथरस गैंगरेप मामला कब क्या हुआ
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हाथरस गैंगरेप केस : हाथरस गैंगरेप मामले में हर दिन एक नई बात निकलकर सामने आ रही है। हाथरस प्रशासन और उत्तर प्रदेश पुलिस दलित युवती के परिवार के साथ ऐसा बर्ताव कर रहे हैं जैसे वे खुद ही आरोपी है। मीडिया से बातचीत में परिवार ने बताया कि हाथरस के डीएम ने न सिर्फ परिवार को घर में ही कैद कर लिया बल्कि परिजनों के मोबाइल भी छील लिए। इतना ही नहीं मामला रफा दफा करने के लिए उन्होंने पीड़िता के पिता के साथ मारपीट की यहां तक कि डीएम ने पिता की छाती पर लात भी मारी।

हाथरस गैंगरेप: आधीरात परिवार के बिना यूपी पुलिस ने जला दिया पीड़िता का शव

आज मीडिया को परिवार से मिलने की इजाजत दी गई है। तमाम न्यूज चैनल और पत्रकार पीड़ित परिवार के घर पर हैं। इस दौरान मीडिया से बातचीत में पीड़िता की भाभी ने कई खुलासे करते हुए कहा कि एसआईटी की टीम परसों उनके घर आई थी और उनसे पूछताछ की थी। पीड़िता के परिवार ने कहा है कि जिले डीएम ने उनसे बेहद बदतमीजी और अभद्रता की। उन्होंने कहा कि, “डीएम ने कहा कि अगर तुम्हारी बेटी की कोरोना से मौत हो जाती तो तुम्हें मुआवजा मिल जाता।” पीड़िता के परिवार ने कहा कि एसआईटी भी मिली है। लेकिन उन्हें भरोसा नहीं है।

READ:  Sana Ramchand: पाकिस्तान की पहली हिन्दू महिला जो बनीं प्रशासनिक अधिकारी

हाथरस मामले में अब तक क्या-क्या, पढ़े पल-पल की अपडेट

इतना ही नहीं पीड़िता की मां और भाभी की एक ही मांग है कि उन्हें इंसाफ मिलना चाहिए। पीड़िता की मां ने कहा है कि वे अपनी बेटी को आखिरी वक्त में मिट्टी भी नहीं दे सकी। उनका चेहरा भी नहीं देख सकी। वहीं पीड़िता की भाभी ने तो यहां तक कहा कि पता नहीं पुलिस ने उस रात किसका अंतिम संस्कार किया है। भाभी ने कहा कि उस रात को उनकी ननद का अंतिम संस्कार भी नहीं हुआ था। हमें नहीं पता पुलिस ने किसका शव जलाया है।

पीड़िता की भाभी ने डीएम पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि जब उन्होंने बॉडी देखने की मांग की तो डीएम ने कहा कि आपको पता है पोस्टमॉर्टम के बाद डेड बॉडी का क्या हाल हो जाता है, हथौड़े से मारकर हड्डियां तोड़ दी जाती है। ऐसी लाश को तुमलोग देख पाते। 10 दिन तक खाना नहीं खा पाते। पीड़िता की भाभी ने कहा कि डीएम उन्हें बार बार कह रहे थे कि तुम्हें मुआवजा तो मिल गया। तुम्हारे खाते में कितना पैसा आया है, तुम्हें पता है?

READ:  PM CARES Fund से देश भर में 551 Oxygen Plant का निर्माण जल्द: PMO

हाथरस गैंगरेप मामले में कब, कैसे, क्या हुआ, पढ़ें पूरी टाइमलाइन…

पीड़िता की भाभी ने कहा कि उन्हें बाहर भी जाने नहीं दिया जा रहा था क्योंकि उन्हें डर था कि वे लोग सच्चाई मीडिया को न बता दें। पीड़िता की भाभी इस वक्त बेहद परेशान हैं। उन्होंने कहा कि उनका परिवार नार्को टेस्ट नहीं करवाएगा। नार्को टेस्ट डीएम का करवाना चाहिए। उन्होंने सीबीआई जांच की मांग से भी इनकार किया। इससे पहले यहां पुलिस का पहरा था। पूरे इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया गया था। पीड़िता के घर के आस-पास 200 से ज्यादा उत्तर प्रदेश पुलिस के जवान तैनात किए गए थे।

READ:  कौन है Oxygen Man, Coronavirus से जूझ रहे लोगों की कैसे बचा रहा जान?

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।