हाथरस : बेटी से छेड़छाड़ का पिता ने किया विरोध, बदमाशों ने उतारा मौत के घाट… देखें वीडियो

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उत्तर प्रदेश में क़ानून व्यवस्था की हालात महज़ एक मज़ाक जैसी हो गई है। ताज़ा मामला उत्तर प्रदेश के हाथरस ज़िले से सामने आया है। हाथरस में बेटी से छेड़छाड़ की शिकायत करना एक पिता को महंगा पड़ गया। जिले के नौजरपुर गांव में एक युवक ने अपने साथियों के साथ मिलकर 52 वर्षीय किसान को गोलियां से भून डाला।

सासनी गेट के रहने वाले एक किसान ने जिन बदमाशों के खिलाफ घर में घुसकर बेटी के साथ छेड़छाड़ करने का मुकदमा दर्ज कराया था, उन्होंने सोमवार को अचानक ऐसी वारदात को अंजाम दे डाला जिससे आसपास के लोग और परिवारवाले सन्न रह गए। आरोपियों ने खेत में आलू खोदवा रहे किसान पिता पर मौका पाते ही ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं जिससे उसकी मौत हो गई।

READ:  बुढ़ानशाह महिला कमांडो: गांव को नशामुक्त करने महिलाओं ने थामी लाठी

दरअसल मृतक पिता ने 16 जुलाई 2018 को मुख्य आरोपी गौरव के विरुद्ध घर में घुस कर छेड़खानी करने का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इस मामले में गौरव 15 दिनों तक जेल में रहा था। इसका मुकदमा अभी चल रहा है। जेल से आने के बाद से ही गौरव मुकदमा वापस लेने के लिए युवक पर दबाव बना रहा था। उन्होंने ऐसा करने से मना कर दिया था। इससे गौरव उनसे रंजिश मानता था।

READ:  प्रशासन की तानाशाही और छात्रों का डीपी विरोध, कब खुलेगा IIMC?

 पुलिस का कहना है कि मुख्य आरोपी की पत्नी और चाची मंदिर गई हुई थीं। उसी समय मृतक की दोनों बेटियां भी उसी मंदिर में थीं। इसी दौरान दोनों पक्षों के बीच पुराने मुकदमे को लेकर विवाद हो गया। आरोपी और बेटियों के पिता बाद में वहां पहुंचे और उनके बीच भी बहस होने लगी। इसी बीच आरोपी ने युवक को गोलियों से भून डाला। आनन-फानन उसे अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। आरोपियों को पकड़ने के लिए टीमें गठित की गई हैं।

 वहीं, परिवार का कहना है कि पिता अपने खेतों पर मजदूरों से आलू की खोदाई करा रहे थे। दोपहर में उनकी पत्नी अपनी पुत्री प्रियंका उर्फ पारुल के साथ उनको खाना देने के लिए खेत पर गईं थीं। इसी दौरान आरोपी गौरव अपने दो साथियों के साथ सफेद रंग की गाड़ी में आया और उन पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। गोलियों से घायल होकर वो वहीं गिर गए। इससे वहां अफरातफरी का माहौल पैदा हो गया।