haryana: Tiktok star sonali phogat Bjp leader arrested in hisar got bail

Haryana: सरकारी अफसर को पीटने के मामले में TikTok Star Sonali Phogat की गिरफ्तारी

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

टिकटॉक (TikTok Sonali Phogat) स्टार व भाजपा नेता सोनाली फोगाट (BJP Leader Sonali Phogat) को पुलिस ने अपनी गिरफ्त में ले लिया है। यह गिरफ्तारी बुधवार को हिसार में हुई। सोनाली पर अनाज मंडी के मार्केट कमेटी के अधिकारी पर हाथ उठाने का आरोप है। बताया जा रहा है कि गिरफ्तारी के बाद उन्हें हिसार कोर्ट में पेश किया गया जहां उन्हें जमानत मिल गई।

कुछ दिन पहले, सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें सोनाली फोगाट एक सरकारी अधिकारी को सार्वजनिक रूप से थप्पड़ों व चप्पल से पीट रही थीं। यह घटना हिसार जिले के बालसमंद की है। सोनाली वहां स्थानीय मंडी गई थीं और कुछ ही देर में बहस शुरू हो गई।

READ:  प्रवासी मजदूर की आपबीती सुन पिघला लुटेरों का दिल, लूट के 5,000 रुपये देकर कहा- पैदल मत जाना, बच्चों को खाना खिला देना

40 वर्षीय सोनाली ने अधिकारी पर अपमानजनक भाषा का प्रयोग करने का आरोप लगाया था। फोगाट द्वारा पिटने वाले अधिकारी की पहचान हिसार बाजार समिति के सचिव, सुल्तान सिंह (Sultan Singh) के रूप में हुई। सुल्तान ने सोनाली के खिलाफ शिकायत दर्ज की। सोनाली ने अधिकारी की थप्पड़ व चप्पल से पिटाई कि जिसका वीडियो वायरल हो गया। इस वीडियो के वायरल होने के बाद विपक्ष ने भाजपा नेता सोनाली के खिलाफ कार्यवाही की मांग की।

सोनाली फोगाट पर आईपीसी (IPC) धारा (Section) 147 (दंगा भड़काना), 149 (गैरकानूनी ढंग से इकट्ठा होना), 332 (लोक सेवक के कर्तव्य में बाधा डालना), 353 (लोक सेवक पर हमला कर ड्यूटी प्रदान करने में बाधा डालना) एवं 506 (अपराधिक धमकी) के तहत मामला दर्ज किया गया। वहीं सोनाली के शिकायत पर सुल्तान सिंह के खिलाफ आईपीसी की धारा 354 (महिला की अपमानजनक प्रवृत्ति) और 509 (महिला की विनम्रता का अपमान करने का इरादा) के तहत क्रॉस-एफआईआर (Cross-FIR) दर्ज किया।

READ:  'भाजपा शासित राज्यों में बेटियां सबसे ज़्यादा असुरक्षित'

आपको बता दें कि यह टिकटॉक स्टार व भाजपा नेता सोनाली फोगाट 2019 में हरियाणा में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार के तौर पर खड़ी हुई थी। उन्होंने यह चुनाव आदमपुर विधानसभा सीट से कांग्रेस नेता कुलदीप बिश्नोई (Kuldeep Bishnoi) के खिलाफ लड़ा था। मगर, वह पूर्व मुख्यमंत्री भजन लाल (Bhajan Lal) के छोटे बेटे कुलदीप से हार गई थी।