Home » HOME » मुसलमानों को 1947 में ही पाकिस्तान भेज दिया जाना चाहिए था !

मुसलमानों को 1947 में ही पाकिस्तान भेज दिया जाना चाहिए था !

Sharing is Important

अपने बयानों से सुर्खियों में बने रहने वाले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। बुधवार को बिहार के पूर्णिया में मीडिया से बातचीत के दौरान सिंह ने कहा- हमारे पूर्वजों से गलती हो गई। मुसलमान भाइयों को 1947 में ही वहां (पाकिस्तान) भेज दिया जाना चाहिए था।  1947 के पहले हमारे पूर्वज आजादी की लड़ाई लड़ रहे थे, उसी वक्त मोहम्मद अली जिन्ना इस्लामिक स्टेट की योजना बना रहे थे। गिरिराज के इस बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। उन्होने ये भी कहा कि पूर्वजों की गलती का खामियाजा हमें आज उठाना पड़ रहा है।

ट्रंप साहब.. आपका गणित कमज़ोर मालूम पड़ता है, अहमदाबाद की आबादी 70 लाख है एक करोड़ नहीं

गिरिराज सिंह बिहार के पूर्णिया में पत्रकारों के साथ नए नागरिकता कानून को लेकर हो रहे विरोध पर बात कर रहे थे। सिंह ने कहा, “राष्ट्र के प्रति समर्पित होने का समय आ गया है। ये बहुत बड़ी हमारे पूर्वजों से भूल हुई। इसका खामियाजा आज हम यहां भुगत रहे हैं। अगर उस समय मुसलमान भाइयों को वहां भेज दिया गया तो ये नौबत ही नहीं आती। अगर भारतवंशियों को यहां जगह नहीं मिलेगी तो दुनिया का ऐसा कौन सा देश है जो उन्हें शरण देगा।”

READ:  Is it true that BJP old guard Subramanian Swamy joining TMC?

भोपाल : गेस्ट टीचर ने अपना सिर मुंडवाकर बाल राहुल गांधी को भेज दिए

बीते 12 फरवरी को गिरिराज ने उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में देवबंद को आतंकवाद की गंगोत्री कहा था। उन्होंने कहा था, ‘देवबंद आतंकवाद की गंगोत्री है। दुनिया में जितने भी आतंकी हुए हैं या आतंकी घटनाएं हुई हैं, उनके तार कहीं न कहीं देवबंद से ही जुड़े हैं। देवबंद से आतंकवाद को हमेशा समर्थन मिला है। आतंकवादी भी यहां आकर रुके हैं, चाहे हाफिज सईद का मामला हो या अन्य घटनाएं।’

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।