Home » PM मोदी के शासन में देश का कर्ज 49% बढ़कर हुआ 80,03,253 करोड़ रुपये

PM मोदी के शासन में देश का कर्ज 49% बढ़कर हुआ 80,03,253 करोड़ रुपये

lok sabha elections 2019 : army veterans letter president ramnath kovind narendra modi government politicizing army
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली, 20 जनवरी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में देश का कर्ज 54 लाख 90 हजार से बढ़कर 82 लाख करोड़ के पार पहुंच गया है। हाल ही में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, देश का वित्तिय घाटा पिछले साढे़ चार वर्षों यानी मोदी सरकार के शासन में तेजी से कई गुना बढ़ गया है।

बीते शुक्रवार केन्द्र सरकार के कर्ज पर स्टेटस रिपोर्ट का आंठवा संस्करण जारी किया गया। इस रिपोर्ट के मुताबिक जहां जून 2014 में वित्त मंत्रालय का कर्ज 54, 90, 763 करोड़ रुपये था, जो सितंबर 2018 में बढ़कर 82,03, 253 करोड़ रुपये हो गया है।

जनसत्ता की खबर के मुताबिक, कर्ज में बढ़ोत्तरी का कारण पब्लिक डेट में 51.7 फीसदी की वृद्धि हुई है। पीएम मोदी के कार्यकाल में बीते साढ़े चार साल में देश का कर्ज 48 लाख करोड़ रुपये से बढ़कर 73 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया। इतना ही नहीं पीएम मोदी के कार्यकाल में मार्केट लोन भी 47.5 फीसदी बढ़कर 52 लाख करोड़ रुपये से भी ज्यादा बढ़ गया है।

READ:  All-round development of J&K top priority of Modi govt: Amit Shah

इस मामले में वित्त मंत्रालय ने कहा कि भारत सरकार हर साल स्टेटस रिपोर्ट के आधार पर केन्द्र सरकार के कर्जों के आंकड़ों को पेश करती है। यह प्रक्रिया 2010-2011 से जारी है। इस स्टेटस रिपोर्ट में कहा कि, केन्द्र सरकार की पूरी देनदारी मिडियम टर्म में गिरावट की ओर बढ़ रही है। सरकार अपने राजकोषीय घाटे को खतम करने के लिए मार्केट-लिंक्ड बारोइंग्स की मदद ले रही है।