Home » ब्लैक फंगस पर सरकार की एडवाइजरी क्या कहती है?

ब्लैक फंगस पर सरकार की एडवाइजरी क्या कहती है?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पूरे देश में कोविड-19 के बाद अब ब्लैक फंगस यानी म्यूकरमाइकोसिस ने भी अपना पैर पसारना शुरू कर दिया है। इस इंजेक्शन को देखते हुए सरकार ने इसके रोकथाम के लिए एक एडवाइजरी जारी किया है। इसमें बताया गया है कि यदि किसी भी मरीज को कोविड-19 संकलन होने के बाद ब्लैक फंगस या म्यूकरमाइकोसिस होता है तो यह चेहरा नाक साइनस आंखों और दिमाग में फैलकर उसे नष्ट कर देता है।

सरकार द्वारा जारी की गई एडवाइजरी को विस्तार से जानते हैं-

किस से हो सकता है?

* कोविड-19 स्टेराॅयड दवा दी गयी हो- डेक्सामिथोजन, मिथाइल प्रेडनिसोलोन इत्यादि।
* कोविड-19 को ऑक्सीजन पर रखना पड़ा हो या आईसीयू में रखना पड़ा हो।
* डायबिटीज का अच्छा नियंत्रण ना हो।
* कैंसर किडनी ट्रांसप्लांट इत्यादि के लिए दवा चल रही हो।

क्या है लक्षण?

* चेहरे में एक तरफ दर्द हो सो जाओ या सुन्न हो (छूने पर छूने का एहसास ना हो)।
* दांत में दर्द हो दांत हिलने लगे चबाने में दर्द हो।
* उल्टी में या खास ने पर बलगम में खून आये।

क्या करें?

ऊपर बताए गए लक्षण में से कोई भी लक्षण होने पर तत्काल सरकारी हॉस्पिटल में या किसी अन्य विशेषज्ञ डॉक्टर से जांच कराएं नाक कान गले आंख मेडिसिन चेंज दिया प्लास्टिक सर्जरी विशेषज्ञ से तुरंत चेक कराएं और जल्द से जल्द इलाज शुरू करें।

READ:  Health Alerts: मौत के करीब ला रही है ये आदत, कहीं आप भी इसके शिकार तो नहीं

सावधानियां-

* स्वयं या किसी गैर विशेषज्ञ डॉक्टर के दोस्त मित्र या रिश्तेदार के कहने पर बिल्कुल भी स्टेराॅयड दवा लेना शुरू ना करें । स्टेराॅयड दवाई जैसे डेक्सोना मेड्रोल इत्यादि।

* स्टेराॅयड का प्रयोग करने के लिए विशेषज्ञ डॉक्टर कुछ ही मरीजों को केवल 10 – 5 दिनों के लिए देते हैं वो भी तब जब बीमारी शुरू होने के 5 – 7 दिन बीत जाते हैं तो केवल गंभीर मरीजों को ही दी जाती है इसे देने से पहले भी कई सारी और भी जांच आवश्यक होती हैं।

* लक्षण से पहले 5 से 7 दिनों में स्टेराॅयड देने से दुष्परिणाम होते हैं बीमारी शुरू होते ही स्टेराॅयड शुरू न करें इससे बीमारी बढ़ जाती है।

* इलाज शुरू होते ही डॉक्टर से पूछे कि इन दवाओं में स्टेराॅयड तो नहीं है अगर है तो ये दवाएं मुझे क्यों दी जा रही हैं? स्टेराॅयड शुरू होने पर विशेषज्ञ डॉक्टर से नियमित रूप से संपर्क में रहें।

READ:  Mother and son hanged themselves : मां बेटे मिले फांसी के फंदे पर लटके, पुलिस ने जताई घरेलू मतभेद की आशंका

इस जानकारी को दूसरे तक पहुंचा कर उनकी मदद करें –
इस जानकारी को अपने तक ना रखकर अधिक से अधिक लोगों को शेयर करें। क्योंकि इस जानकारी के बारे में सभी को पता होना चाहिए। आपके द्वारा शेर की गई इस जानकारी से किसी की जिंदगी बच सकती है और बचाई जा सकती हैं। जिससे कि वह खुद का और अपने परिवार का ब्लैक फंगस से बचाव कर सकें।