Google Doodle Arati Saha : जानें, कौन थीं 'भारत की जलपरी' आरती साहा

Google Doodle Arati Saha : जानें, कौन थीं ‘भारत की जलपरी’ आरती साहा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Google Doodle Arati Saha : Google अपने Doodle से खास मौकों को सेलिब्रेट करता रहता है। आज (गुरुवार) का Google Doodle प्रसिद्ध भारतीय तैराक आरती साहा (Arati Saha) की 80वीं जयंती मना रहा है।

सर्च इंजन गूगल (Google) ने गुरुवार को दिग्गज भारतीय महिला तैराक आरती साहा को याद किया। आरती की आज यानी 24 सितंबर 2020 को 80वीं जयंती है। वह साल 1959 में तैरकर इंग्लिश चैनल पार करने वालीं पहली एशियाई महिला बनी थीं। ‘भारत की जलपरी’ साहा को समर्पित आज के डूडल में उन्‍हें इंग्लिश चैनल पार करते हुए दिखाया गया है।

कोलकाता में जन्मीं आरती साहा ने 16 घंटे और 20 मिनट में 67.5 किमी की दूरी तय की थी। उन्हें साल 1960 में देश के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मश्री से नवाजा गया था और वह इस सम्मान को पाने वालीं पहली भारतीय महिला खिलाड़ी रहीं। साल 1994 में 23 अगस्त को कोलकाता में उनका निधन हो गया था।

BJP का ‘हिन्दू-मुस्लिम’ एजेंडा फेल, AAP के इस मुस्लिम उम्मीदवार को शाहीन बाग से मिले झोली भर के वोट

साहा 1952 में फिनलैंड के हेलसिंकी में आयोजित ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में नए स्वतंत्र भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली पहली टीम की सबसे कम उम्र की सदस्य थीं। तब उनकी उम्र मात्र 11 साल थी।

साहा ने 18 साल की उम्र में इंग्लिश चैनल को पार करने का पहला प्रयास किया। इस प्रयास में वे सफल नहीं हुईं। हालांकि, उन्होंने हार नहीं मानी। इसके ठीक एक महीने बाद दूसरे प्रयास में 29 सितंबर 1959 को आरती साहा ने 16 घंटे 20 मिनट तक लहरों और पानी के तेज बहाव से टक्कर लेने के बाद इंग्लिश चैनल को पार करने का कारनामा कर दिखाया था।

यूपी पुलिस ने तीन साल में किए 6,476 एनकाउंटर्स, मरने वालों में सबसे ज़्यादा मुस्लिम : रिपोर्ट

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।