angela merkel in delhi pollution

जर्मन चांस्लर मर्केल को आज प्रधानमंत्री मोदी दिखाएंगे दिल्ली का ऐतिहासिक प्रदूषण

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विचार | पल्लव जैन

आज जर्मन चांस्लर जो प्रधानमंत्री मोदी की बहुत अच्छी मित्र भी हैं दिल्ली पधारी हैं। वो भारत और जर्मनी के बीच आर्थिक साझेदारी को और मजबूत करेंगी। मर्केल ऐसे समय में दिल्ली आई हैं, जब दिल्ली में प्रदूषण सबसे खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है। दिल्ली का प्रदूषण भारत में हुए विकास कार्यों को इस समय दिल खोलकर बयां कर रहा है। लोगों को सांस लेने में तकलीफ हो रही है, आंखे जल रही हैं, प्रदूषण मापने वाले यंत्रों में अब इतनी धारियां नहीं बची जो दिल्ली के पीएम 2.5 के लेवल को माप सकें, यह 400 से ऊपर पहुंच चुका है।

दिल्ली की ज़हरीली हवा में सांस लेंगी मर्केल

सुनने में आया है कि एंगेला मर्केल को राजघाट ले जाया जाएगा और वे द्वार्का मेट्रो स्टेशन भी जाएंगी, उसके बाद प्रधानमंत्री मोदी के लोक कल्याण मार्ग स्थित निवास पर दोनों नेता सभी ज़रुरी मुद्दों पर चर्चा करेंगे। उम्मीद है प्रधानमंत्री मोदी के निवास पर 2018 में खरीदे गए एयर प्यूरीफायर काम कर रहे होंगे।

पीएम आवास के लिए खरीदे गए एयर प्यूरीफायर, जनता दम घोटू हवा में ले रही सांस (2018 की रिपोर्ट)

प्रधानमंत्री मोदी ने 2017 के बाद कभी दिल्ली के प्रदूषण पर चिंता जाहिर नहीं की। उन्होने कई भाषण दिये, कितनी ही मन की बात बीते बरसों में की लेकिन एक भी बार वे दिल्ली के प्रदूषण पर कुछ न बोल सके। शायद बिज़ी रहे होंगे या फिर यह सिर्फ केजरीवाल की ही ज़म्मेदारी है।

आज दिल्ली वालों को मास्क बांटेंगे केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल आज से लोगों को मुफ्त मास्क बांटेंगे, ट्वीट कर उन्होंने कहा की दिल्ली अब गैस चैंबर बन चुका है।

मेरा केजरीवल जी से निवेदन है कि पहला मास्क जर्मन चांस्लर एंगेला मर्केल को दे दें। क्योंकि मेहमान भगवान के समान होता है। और भगवान को हम गैस चैंबर में कैसे छोड़ सकते हैं। वैसे गैस चैंबर दुनिया को जर्मनी से ही मिला है। चलिए इतिहास छोड़ वर्तमान में आते हैं।

प्रधानमंत्री 360 में से कुछ दिन इसी दिल्ली की हवा में सांस लेते हैं फिर उन्होंने इस पर कोई कदम क्यों नहीं उठाया। 2017 में नृपेंद्र मिश्रा की अगुवाई में बनाई गई एक टास्क फोर्स में प्रधानमंत्री मोदी ने दिल्ली का प्रदूषण कम करने के लिए 12 प्वाईंट का एजेंडा तैयार किया था। एजेंडा कागज़ पर तो उतर गया लेकिन दो साल बाद भी इसका को असर हवा में नहीं दिखाई देता।

12 Point Ajenda Report Read Here

12 प्वाईंट का ये एजेंडा किधर है किसी को सुध नहीं। आप इंटरनेट खंगाल कर देख सकते हैं, सर्च कीजिएगा प्राईम मिनिस्टर मोदी ऑन डेल्ही पॉल्यूशन, मैं दावा करता हूं आपको कोई बयान नहीं मिलेगा।

इस लेख में व्यक्त किये गए विचार लेखक के निजी विचार हैं, इसमें ग्राउंड रिपोर्ट ने किसी प्रकार का कोई संपादन नहीं किया है। इस लेख में दिए गए तथ्यों की भी ग्राउंड रिपोर्ट पुष्टी नहीं करता।