Home » देश के टॉप पांच सुशासित प्रदेशों में केवल एक भाजपा शासित

देश के टॉप पांच सुशासित प्रदेशों में केवल एक भाजपा शासित

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

न्यूज़ डेस्क।। देश के 29 में से 18 राज्यों में भारतीय जनता पार्टी और भाजपा नीत गठबंधन की सरकारें हैं। यानी देश की 63 प्रतिशत आबादी आज भाजपा के शासन के तले है। लेकिन पब्लिक अफेयर इंडेक्स द्वारा किए गए सर्वे के अनुसार इन में से केवल एक राज्य हिमाचल प्रदेश ही देश के टॉप 5 सुशासित प्रदेशों की लिस्ट में अपनी जगह बना पाया है।

बेगलुरु स्थित थिंक टैंक पब्लिक अफेयर सेंटर ने 10 व्यापक परीपेक्ष्य, 30 विषयों और 100 इंडीकेटर्स के आधार पर यह पब्लिक अफेयर इंडेक्स तैयार किया है। जिसमें राज्य की कानून व्यवस्था, आर्थिक आज़ादी, पर्यावरण, पारदर्शिता और जीवन स्तर का विशेष आंकलन किया गया है। और इन मानकों पर भाजपा शासित राज्य बहुत ज़्यादा खरे उतरते नहीं दिख रहे हैं।

पब्लिक अफेयर इंडिक्स की रैंकिंग में टॉप 5 राज्य हैं- केरल, तमिलनाडू, तेलंगाना, हिमाचल प्रदेश और कर्नाटका। हिमाचल प्रदेश को छोड़ दें तो बाकि सभी राज्यों में गैर भाजपा सरकारें हैं। केरल में कम्युनिस्ट पार्टी, तमिलनाडू में एआईएडीएमके, तेलंगाना में टीआरएस, और कर्नाटक में कांग्रेस+जेडीएस की गठबंधन सरकार का शासन है।

READ:  PLA soldiers infiltrated Demchok to stop Dalai Lama's birthday

इस रैंकिंग में भाजपा नीत राज्यों का पिछड़ना यह साफ बताता है की सबका साथ सबका विकास का वादा कर सत्ता में आई भाजपा सरकार अभी तक धरातल पर कोई खास कमाल नहीं दिखा पाई है। मिनिमम गवर्मेंट, मैक्सीमम गवर्नेंस, गुड गवर्नेंस, काला धन, भ्रष्टाचार, महंगाई जैसे मुद्दे भाजपा के घोषणापत्र में शामिल रहे हैं। लेकिन करीब से देखने पर भ्रष्टाचार, महंगाई, रोज़गार, कालाधन जैसी समस्याएं जस की तस दिखाई देती हैं।

छोटे राज्यों में भाजपा शासित हिमाचल प्रदेश टॉप पर है, 2 करोड़ जनसंख्या वाला यह राज्य पब्लिक इंडेक्स के सभी मानकों पर खरा उतरता दिखाई देता है। बड़े राज्यों में टॉप 4 पर दक्षिण के राज्य हैं, उसके बाद पांचवे और छठे नंबर पर भाजपा शासित गुजरात और महाराष्ट्र हैं। इस इंडैक्स में सबसे खराब प्रदर्शन बिहार का रहा, उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश की स्थिति भी ज्यादा बेहतर नहीं है।

आर्थिक आज़ादी के मामले में गुजरात ने बाज़ी मारी है, दूसरे और तीसरे नंबर पर क्रमशः महाराष्ट्र और तेलंगाना है। दक्षिणी राज्य, गुजरात की तुलना में ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस में पीछे हैं लेकिन इन राज्यों ने विदेशी निवेश खूब आकर्षित किया।

READ:  RSS ideology come in midst of Ind-Pak relationship: Imran Khan

कानून व्यवस्था के मामले में सबसे खराब प्रदर्शन दिल्ली और त्रिपुरा का रहा। इस मामले में तमिलनाडू, केरल और महाराष्ट्र में स्थित अच्छी है। इस सर्वे में पर्यावरण के मामले में भी दिल्ली फिसड्डी रहा।

DATA SOURCE- INDIASPEND.COM