Hike Fellowship : Research Scholars आज करेंगे MHRD का घेराव, फेलोशिप में 80% वृद्धि की मांग

fellowship hike, research scholars, research scholars protest, mhrd, new delhi, iit, aiims, jnu, iiser, du, bhu, ignou
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली, 16 जनवरी। फेलोशिप में 80 फीसदी की बढ़ोत्तरी की अपनी मुख्य मांग को लेकर देश भर के रिसर्च स्कॉलर्स आज यानी 16 जनवरी को सुबह 11 बजे से नई दिल्ली स्थित मानव संसाधन विकास मंत्रालय का घेराव करेंगे। बीते 6 महीनों से मानव संसाधन विकास मंत्रालय सहित अन्य संबंधित मंत्रालयों के चक्कर काटने के बावजूद भी रिसर्च स्कॉलर्स को फेलोशिप में वृद्धि के मामले में सरकारी की ओर से सिर्फ आश्वासन मिलता आ रहा है, जिसके चलते ये रिसर्च स्कॉलर्स अब सड़कों पर उतरने को मजबूर हैं।

IIT, IIM, JNU, AIIMS, IISER, DU, BHU, IGNOU सहित देश भर के तमाम संस्थानों के कई रिसर्च स्कॉलर्स अपने-अपने शोध कार्य छोड़ दिल्ली पहुंच चुके हैं। छात्रों के कहना है कि वे शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन कर सरकार तक अपनी आवाज पहुंचाएंगे, ताकि जल्द से जल्द हमारी मांगे पूरी हो सके। हम कई महीनों से सरकारी दफ्तरों के चक्कर काट चुके हैं लेकिन अब तक कुछ नहीं हुआ।

READ:  कुपोषण मिटाने के लिए महिलाओं ने पथरीली ज़मीन को बनाया उपजाऊ

बता दें कि इससे पहले रिसर्च स्कॉलर्स ने मोदी सरकार के कई मंत्रियों जैसे केन्द्रीय मानव संसाधन और विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, केन्द्रीय मंत्री डॉ हर्षवर्धन, डिपार्टमेंट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलोजी और अन्य दफ्तरों के आलाअधिकारियों से मुलाकात कर 31 दिसंबर तक फेलोशिप बढ़ाने की मांग की थी, लेकिन डेडलाइन के बावजूद भी सरकार की ओर से कोई ठोस जवाब अब तक नहीं मिला है, जिसके चलते रिसर्च स्कॉलर अपनी आवाज तेज करते हुए आंदोलन कर रहे हैं।

रिसर्च फेलो की प्रमुख मांग-
1) जेआरएफ, एसआरएफ, पीएचडी कर रहे लोगों की फेलोशिप की रकम 20 फीसदी प्रतिवर्ष के हिसाब से 80 फीसदी बढ़ाई जाए। क्योंकि यह हर चार वर्ष में एक बार बढ़ती है।

READ:  Coronavirus के डर से Holi खेले या नहीं?

2) फेलोशिप के तहत मिलने वाली यह रकम हर महीने समय पर आए, क्योंकि अब तक यह रकम कभी तीन महीने, छह महीने या कभी 8 महीने गुजर जाने के बाद मिलती है।

3) सरकार वेतन आयोग के तहत ऐसी गाइडलाइन बनाए जिससे यह तय हो कि फेलोशिप के तहत करने वाले रिसर्चर्स को हर महीने समय पर फेलोशिप की रकम मिले।