Home » Madhya Pradesh: बैंक से अपना ही पैसा निकालने के लिए रात भर से कतार में लगे हैं किसान

Madhya Pradesh: बैंक से अपना ही पैसा निकालने के लिए रात भर से कतार में लगे हैं किसान

Madhya Pradesh : अपना ही पैसा निकालने के लिए रात भर कतार में लगे किसान
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk | Madhya pradesh | एक तरफ जहाँ कोरोना के कारण लोग अस्पतालों व मेडिकल दुकानों के बाहर कतार में खड़े रहने को मजबूर है, तो वही दूसरी ओर मध्य प्रदेश के विदिशा से चौंका देने वाली खबर सामने आयी है, जहाँ किसान बैंक के आगे कतार लगाकर खड़े है। अलगे दिन नंबर आ सके इसलिए वह एक रात पहले से ही वहां बैंक के आगे पासबुक पर पत्थर रख कर सोने के लिए मज़बूर है।

Randeep Hooda को गिरफ्तार करने की मांग? पूर्व मुख्यमंत्री पर की आपत्तिजनक टिप्पणी !

इसको सरकार की अनदेखी कहे या मैनेजमेंट की विफलता का नतीजा। बदरअसल ये घटना विदिशा (Vidisha, Madhya Pradesh) के शमसाबाद इलाके की है, जिला सहकारी बैंक के कर्मचारियों को कोरोना होने के कारण 14 दिन से बैंक बंध था। बैंक के खुलते ही भीड़ का आना शुरू हो गया। इस वक़्त जब देश में कोरोना का कहर जारी है और लोगों से अपील की जा रही है की वह घर में रहे, उस वक़्त देश के अन्नदाताओं को रात भर बैंक के सामने इंतज़ार करना पड़ रहा है। ये सभी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से आये पैसे को निकाल कर साहूकार को देने के इंतज़ार में है। अक्षम होने पर उनके लिए दिक्कतें बढ़ सकती हैं।

READ:  मध्यप्रदेश में टीकाकरण की सफलता के पीछे है इन युवाओं का हाथ

दरअसल एक दिन में 150 लोगों को पैसा देकर बाकियों को वापस भेज दिया जा रहा है। ये किसान रात भर ऐसे ही खुले आसमान में ज़मीन पर सोने को मजबूर थे, सुबह जब बैंक खुली तब तहसीलदार आये और उन्होंने काम देखा। उन्होंने किसानो को टोकन दिलवाया, किसानो से बातचीत के दौरान पता चला की हालत बहुत खराब है। किसानो के पास डीजल आदि तक के लिए पैसे नहीं है। प्रदेश की राजधानी से कुछ दूर ही ऐसे हालत है कि उन्हें रोज़ आकर खाली हाथ वापस जाना पड़ता है इसलिए वह रात में वही रुक गए।

Godi Media : क्या है गोदी मीडिया? कौन है इसके टॉप पत्रकार?

READ:  Farmers' debt increased by 57.7 percent in five years

बैंक के मैनेजर, विनोद अहिरवार, ने जानकारी दी की जो लोग अस्पताल में भर्ती होने और अन्य मेडिकल खर्चे के लिए पैसे निकालने आ रहे है उन्हें बिना टोकन के ही सुविधा दी जा रही है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।