किसान मोर्चा

टीकरी बॉर्डर पर एक और किसान ने फांसी लगाकर दी जान, सुसाइड नोट पर लिखा..

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हरियाणा के बहादुरगढ़ में कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार से नाराज एक किसान ने सेक्टर-9 बाईपास के पार्क में फांसी लगाकर जान दे दी। मृतक कर्मबीर के पास से एक सुसाइड नोट मिला है। किसान की पहचान जींद के सिंघवाल गांव के कर्मबीर के तौर पर हुई।

किसान ने सुसाइड नोट पर लिखा है कि सरकार तारीख पर तारीख दे रही है। पता नहीं कब ये काले कानून रद्द होंगे। जब तक काले कानून रद्द नही होंगे। तब तक यहां से नहीं जाएंगे। उधर, पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए नागरिक अस्पताल भिजवा दिया है।

दो और किसानों की मौत

टीकरी बॉर्डर पर ही दो और किसानों की मौत की खबर है। इनमें एक किसान पंजाब के संगरूर और दूसरा मोगा जिले का रहने वाला था। हालांकि अभी मौत की वजह की पुष्टि नहीं हुई है। अनुमान लगाया जा रहा है कि हार्ट अटैक से दोनों की जान गई है। मृतकों में एक की आयु 60 और दूसरे की 70 साल थी।

READ:  पालघर मॉब लिंचिंग के 101 आरोपियों की लिस्ट जारी, मीडिया के मनमुताबिक़ नहीं निकली भीड़

मानसा और जींद के किसान की गई जान

पंजाब के रहने वाले एक किसान की मौत नया गांव चौक के नजदीक बस की चपेट में आने से हुई तो वहीं जींद जिले के रहने वाले एक किसान की हृदयाघात से मौत होने की आशंका जताई गई है। पुलिस ने दोनों के शव परिजनों को सौंप दिए हैं। 

पंजाब के मानसा जिले के गांव बाघड़ा के रहने वाले किसान बबली सिंह टीकरी बार्डर पर चल रहे आंदोलन में शामिल थे। वह बहादुरगढ़ बाईपास पर नयागांव चौक के नजदीक किसानों के जत्थे में ठहरे थे। दो फरवरी को आंदोलन में हिस्सा लेने बहादुरगढ़ आए थे। 

READ:  क्या है APMC और MSP, जिसे बचाने के लिए किसान कर रहे हैं आंदोलन?

जींद के गांव मोहनगढ़ के किसान रणधीर सिंह की अचानक तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई। बताया गया है कि रणधीर सिंह तीन सप्ताह से टीकरी बार्डर पर लगभग हर रोज किसानों की सभा में भाग लेते थे। रणधीर सिंह की मौत की असल वजह का अभी पता नहीं लग पाया है। हृदयाघात होने का अनुमान लगाया है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

%d bloggers like this: