कोरोना हॉटस्पॉट इलाकों की धार्मिक आधार पर पहचान नहीं की जाएगी

Communal Mapping of Corona Hotspot Fake News
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk

कोरोनावायरस के साथ-साथ देश फेक न्यूज़ (Fake News) नामक भयानक बीमारी से भी लड़ रहा है जो अब सोशल मीडिया से निकलकर देश के प्रतिष्ठित मीडिया घरानों तक पहुंच चुकी है। हमने देखा की मीडिया चैनलों और अखबारों में आजकल बिना पुष्टी करे भ्रामक और गलत खबरों प्रसारित की जा रही हैं। कई मीडिया घराने सूत्रों के आधार पर फेक न्यूज़ फैला रहे हैं। इन खबरों से समाज में न सिर्फ भय का माहौल पैदा होता है बल्कि देश का सांप्रदायिक सौहार्द भी बिगड़ सकता है। ऐसी ही एक खबर प्रतिष्ठित अखबार ‘द एशियन ऐज’ में छापी गई, जिसमें सूत्रों के हवाले से यह दावा किया गया कि सरकार धर्म के आधार पर कोरोना संक्रमित इलाकों की मैपिंग करने का प्लान कर रही है, जिससे पता चल सके कि कोरोना संक्रमितों में किस धर्म के लोगों की संख्या ज्यादा है। सरकार ने इस खबर का खंडन किया है। साथ ही इसे गैर ज़िम्मेदाराना पत्रकारिता करार दिया है।

READ:  States, UTs can impose local curbs to control rising covid-19 cases: Centre

The Asian Age अखबार की खबर में दावा किया गया था सरकार बंद दरवाज़े के पीछे प्लान कर रही हैं कि देश में सांप्रदायिक (Communal Mapping) आधार पर कोरोना हॉटस्पॉट की मैपिंग की जाए जिससे पता चल सके कि किस कम्यूनिटी में कोरोना संक्रमण अधिक फैल रहा है। रिपोर्ट में विश्वसनीय सूत्रों के आधार पर कहा गया कि कोरोना क्लस्टर का पता लगाने के लिए ऐसा किया जा रहा है। सरकार धर्म के आधार पर कोरोना संक्रमितों की पहचान कर अन्य लोगों को संक्रमण से बचाने का प्रयास करेगी। सरकार के दिमाग में यह ख्याल तब आया जब दिल्ली में मरकज़ में तब्लीगी जमात में कोरोना संक्रमण फैलने के बाद पूरे देश में कोरोना के मामले सामने आने शुरु हो गए थे।

READ:  Strict on Holi due to Covid-19, these are guidelines in these states

सरकार ने इस खबर को गैरज़िम्मेदारान बताते हुए इसका खंडन किया और कहा कि कोरोनावायरस जात, धर्म और लिंग देखकर हमला नहीं करता। इस तरह की खबर बहुत ही गैरज़िम्मेदाराना और माहौल खराब करने वाली हैं।

आपको बता दें कि आजकल देश के बड़े-बड़े मीडिया संस्थान बिना जांच करे सूत्रों के आधार पर भ्रामक खबरें फैला रहे हैं। जब तक सरकार की ओर से खबर की पुष्टी न हो तब तक किसी खबर पर भरोसा न करें । अक्सर मीडिया संस्थान सूत्रों के आधार पर खबर चलाकर अपना एजेंडा चलाने का प्रयास करते हैं। कोरोना काल में फेक न्यूज़ का प्रसार बेहद ही चिंताजनक है।

READ:  Covid-19: New 'double mutant' variant found in 18 states of India

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।