Home » लॉकडाउन में बनवाया फ़र्ज़ी शादी का कार्ड, कलेक्ट्रट ने पकड़ा

लॉकडाउन में बनवाया फ़र्ज़ी शादी का कार्ड, कलेक्ट्रट ने पकड़ा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

लॉकडाउन में छूट के बाद कई लोग दूसरे जिले और राज्य में जाने की कोशिश कर रहे है. इनमे से एक है तमिल नाडु के कुरिची गांव के वैन चालक. तीन बार नाकामयाबी के बाद इन्होने अपने दोस्त के कहने पर एक फ़र्ज़ी शादी का कार्ड बनवाया. जिन्होंने इरोड (Erode) जिले से 30 km दूर कुरीची गांव (Kuruchi Village) से थूथुकुदी (Thoothukudi) जाने का प्रयास किया लेकिन सफल न हो सके. इनकी कहानी थोड़ी मज़ाकिया ज़रूर है लेकिन हमें ये सीख देती है कि गलत तरीके से दस्तावेज़ दिखाना कितना मुश्किल साबित हो सकता है. इन्हे थूथुकुदी (Thoothukudi) में अपने रिश्ते की बात करने जाना था. लेकिन शुरूआती तीन प्रयास असफल रहे क्यूंकि उस समय लॉक डाउन सख़्त था.

ALSO READ: रमेश सक्सेना ने कहा- हनुमान चालीसा का पाठ करें तो नहीं छू पाएगा कोरोना!

कुरीची गाँव जाने की ऑनलाइन ई-पास में उन्होंने नकली शादी के कार्ड को लगाया ताकि वह विश्वसनीय लगे जिससे उन्हें दूसरे गाँव जाने की अनुमति मिल जाए. यह कदम लेने की वजह थी तीन बार पास पाने में असफल होना था. वह अपनी शादी की बात करने जा रहे थे. ई-पास के लिए सारे डाक्यूमेंट्स जमा होने के बाद थूथुकुदि कलेक्ट्रट (Thoothukudi Collectorate) के एक अधिकारी ने पाया कि यह भवानी तालुक के इस आवेदक के दस्तावेज में जानकारी फ़र्ज़ी है. उन्होंने पाया कि कार्ड में विवाह का स्थान चेन्नई है परन्तु ई-पास के लिए थूथुकुदि (Thoothukudi) की अनुमति मांगी गयी है.

READ:  Mu variant of covid-19 found in 39 countries, how dangerous it is?

इरोड कलेक्ट्रट ने जानकारी दी कि आवेदक ने एक फ़र्ज़ी शादी का कार्ड बनवाकर दूसरे गाँव जाने की कोशिश की है. यह कार्ड उसके साथी ने ई-पास के अर्जी के लिए कुरुप्पनाईकन पलयाम गांव में स्थित एक इंटरनेट सेंटर का इस्तेमाल किया था. थूथुकुदि कलेक्ट्रट (Thoothukudi Collectorate) के एक अधिकारी ने उसे फोन किया. व्यक्ति ने पूछा “मुझे मेरा ई पास कब मिलेगा”, अधिकारी ने जवाब दिया कि उसकी अर्ज़ी फ़र्ज़ी है और शुक्रवार को उन्हें इसके पुष्टि के लिए कलेक्ट्रट में पेश होना होगा.

ALSO READ: पतंजलि आयुर्वेद ने ढूंढा कोरोना का इलाज, जल्द शुरु होगा ट्रायल

पूछताछ के दौरान आवेदक ने बताया की यह फर्जी आमंत्रण का सुझाव इंटरनेट सेंटर के एक स्टाफ ने दिया. आवेदक के तीन बार नाकामियाब होने पर उस स्टाफ ने दावा किया कि विवाह निमंत्रण जमा करने पर ही उसे ई-पास जारी किया जा सकता है. इसके बाद वैन चालक को निमंत्रण जमा करने का सुझाव आया. आवेदक ने निवेदन किया है कि इंटरनेट सेंटर के स्टाफ से पूछताछ की जाए क्यूंकि उसे शक है कि उसने फर्जी निमंत्रण अपलोड किया होगा जिसकी कोई जानकारी आवेदक को नहीं है.

Written by Ambika Rattanmani, She is a Post-Graduate Final Year Student of Journalism & News Media from GGSIPU, New Delhi.

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups.