ट्विटर पर रोज़गार ट्रेंड

ट्विटर पर ट्रेंड के ज़रिए सरकार से रोज़गार मांग रहे हैं देश के युवा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ट्विटर (Twitter) पर कर रहा ट्रेंड #रोज़गार दो (#RozgarDo), भारतीय युवा कांग्रेस (Indian Youth Congress) द्वारा 9 अगस्त से बेरोजगार युवाओं के लिए एक राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू किया गया है.  ट्वीट (tweet) की संख्या अब तक 2 लाख से ज्यादा हो चुकी है और लगातार बढ़ती जा रही है और कहाँ तक पहुंचेगी ये संख्या ये तो ट्विटर ही जाने. ट्विटर पर ही पांचवे नंबर पर मोदीजी रोज़गार दो भी ट्रेंड कर रहा है।

IYC के अनुसार #रोज़गार दो अभियान IYC प्रमुख श्रीनिवास बी.वी. द्वारा शुरू किया गया है और इसका मुख्य उद्देश्य बेरोजगारी के खिलाफ युवाओं की आवाज उठाना है.

ALSO READ: Rising debt, unemployment mar tourism in Valley as lockdown continues

अब तक किये गए ट्वीटस् (tweets) में ज्यादातर सवाल मोदी सरकार द्वारा वादों और कामों पर उठाये गए है. जैसे-

  • मोदी सरकार ने प्रति वर्ष 2 करोड़ नौकरियों का वादा किया था, लेकिन आज न केवल 45 वर्षों में बेरोजगारी की दर सबसे अधिक है, पिछले कुछ वर्षों में देश को 1 करोड़ से अधिक का नुकसान भी हुआ है.
  • पहले नोटबंदी, फिर जीएसटी के गलत क्रियान्वयन और मोदी सरकार द्वारा अप्रत्याशित तालाबंदी जैसे फैसलों ने देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया।
  • भारत के युवाओं के लिए 2 करोड़ नौकरियां कहां हैं?@नरेंद्र मोदी
  • युवाओं के पास काम करने के लिए कोई नौकरी नहीं है।
  • साल दर साल बेरोजगारी दर बढ़ रही है।
  • सरकार ने युवाओं को उनकी नौकरी से वंचित किया है।
  • बेरोजगार युवा मानसिक रूप से कमजोर हैं और आत्महत्या कर रहे हैं। मोदीजी #RozgarDo
  • पिछले 6 वर्षों में भाजपा सरकार ने नौकरियों के बजाय झूठे वादों और झूठ की विशाल पीढ़ियों को देखा है। आज, भारत में 33% कुशल युवा बेरोजगार हैं। एक बार भाजपा सरकार के “स्किल इंडिया मिशन” का विज्ञापन करने के बाद अब इसे ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है.
  • वर्तमान नौकरी संकट सरकार के कुछ बुरे निर्णय का परिणाम है।इससे पिछले 45 वर्षों में सबसे ज्यादा नौकरी का संकट आया और सरकार अभी भी समस्या को हल कर रही है. #RozgarDo
  • 50 लाख नौकरी में कटौती, कारखाने बंद, ऑटोमोबाइल सेक्टर अपंग, संकट में अर्थव्यवस्था, बेरोजगारी व्यापक।हम भारत के युवाओं से सुरक्षित भविष्य की मांग करते हैं. #Rozgardo

ये वो सवाल है जो लोग ट्विटर के माध्यम से #रोज़गारदो अभियान के ज़रिये मोदी सरकार से कर रहे है. 

ALSO READ: Unemployment delay marriages in Kashmir

CMEI डाटा

Centre for Monitoring Indian Economy (CMEI) के डाटा के अनुसार भारत में बेरोजगारी दर अगस्त माह 2020 में 7.7% मापी गयी है जिसमे शहरी (urban) की 9.7% और ग्रामीण (rural) की 6.7% बेरोज़गारी दर है.

देश में लॉक डाउन लगने के बाद बेरोज़गारी दर अप्रैल माह में 23.52% और मई माह में 23.48% तक अफुंच गयी थी जोकि अब तक की सबसे ज्यादा मापी जाने वाली बेरोज़गारी दर है किसी भी सरकार के कार्यकाल में. 

कंग्रेस सरकार जो की विपक्ष की सरकार है, अपने अभियान के ज़रिये युवा के रोज़गार के लिए कितनी चिंतित है या इसमें कितनी राजनीती है यह तो वे ही जाने पर जो मुद्दा है बेरोज़गारी ये ज़रूर गौर करने वाला है साथ ही काफी चिंतित भी. 

रही बात इन ट्वीटस् की जो #रोज़गारदो के ज़रिये किये जा रहे है इसमें यह देखना काफी दिलजस्प रहेगा की ये ट्वीटस् बीजेपी सरकार देखेगी भी या नहीं और अगर देखती है भी तो इस पर क्या एक्शन लेती है क्यूंकि जो मुद्दा है वह काफ़ी ज्यादा बड़ा मुद्दा है इस वक्त में क्यूंकि रोज़गार काफी युवाओं का गया भी है और जो इस उम्मीद में थे की रोज़गार उन्हें मिल जायेगा इस साल तो वह भी इस उम्मीद को कहीं न कहीं खो बैठे है, चाहे वो सरकारी नौकरी की तैयारी करने वाले युवा हो या जो अपने कॉलेज प्लेसमेंट से प्राप्त करने वाले छात्र हों. 

यह लेख श्रेय श्रीवास्तव द्वारा लिखा गया है, भारतीय जनसंचार संस्थान, नई दिल्ली से पत्रकारिता स्नातक है। वह राजनीति, शिक्षा और अंतर्राष्ट्रीय मामलों के लिए लिखते हैं।

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।