‘मोदी सरकार की ग़लत नीतियों से डूब रही अर्थव्यवस्था’:पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Nehal Rizvi| Ground Report

देश के पूर्व प्रधानमंत्री एंव अर्थशास्त्री डॉ. मनमोहन सिंह ने आज देश में आए आर्थिक संकट पर अपनी चिंता ज़ाहिर करते हुए मोदी सरकार की नीतियों को ज़िम्मेदार ठहराया. अपने 4 मिनट के संबोधन में मनमोहन सिंह ने देश में आई आर्थिक मंदी पर मोदी सरकार की ग़लत नातियों की पोल ख़ोल कर रख दी. मनमोहन सिंह के संबोधन का वीडियो नेशनल कांग्रेस के फेसबुक पर जारी किया गया था.

अपने संबोधन में मनमोहन सिंह ने जिन महत्वपूर्ण बिंदूओं का ज़िक्र किया : पढ़ें

GDP ग्रोथ रेट का 5% पर आना बताता है कि भारत एक लंबी मंदी के दौर में हैं

भारत में इससे ज्यादा अधिक तेज़ी से विकास करने की क्षमता है

मोदी सरकार की चौतरफा कुप्रबंधन के कारण छाई है ये मंदी

मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में मात्र 0.6% की ग्रोथ बेहद ही चिंताजनक है

नोटबंदी और जीएसटी जैसे ग़लत फैसलों के कारण आई ये बदहाली

नॉमिनल जीडीपी दर 15 साल के सबसे निचले स्तर पहुंच गई है

व्यवसायियों के साथ ज़बरदस्ती करके टैक्स वसूला जा रहा है

निवेशकों में उदासी है, अर्थव्यवस्था में सुधार के अभी कोई आसार नहीं

मोदी सरकार की नीतियों के चलते खत्म हो रही नौकरियां

ऑटोमोबाइल सेक्टर में सिर्फ साढे तीन लाख लोग निकाले दिए गए

किसानों की आय घटाकर कम महंगाई दर पर जश्न मना रही है मोदी सरकार

RBI से 1.76 लाख का रिज़र्व ले रही है सरकार

मनमोहन सिंह आगे कहते हैं- संस्थाएं खतरे में हैं और उनकी स्वायत्तता को रौंदा जा रहा है. सरकार ने आरबीआई से 1.76 लाख करोड़ रुपये लिए, लेकिन उसके पास कोई योजना नहीं है कि इस पैसे के साथ क्या होगा. उन्होंने कहा कि इस सरकार में भारतीय डेटा की विश्वसनीयता सवालों के घेरे में आ गई है. बजट की घोषणाओं को वापस लिया गया, जिससे अंतरराष्ट्रीय निवेशकों का विश्वास डगमगा गया.