Home » HOME » Amit Shah: अमित शाह का चेन्नई दौरा, सोशल मीडिया पर ट्रेंड #GoBackAmitShah और #Goback_Mr_420

Amit Shah: अमित शाह का चेन्नई दौरा, सोशल मीडिया पर ट्रेंड #GoBackAmitShah और #Goback_Mr_420

Sharing is Important

केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह(Amit Shah) चेन्नई दौरे पर हैं। द्रविड़ समाज के लोग इस बात से खुश नहीं लग रहे हैं। आपको बता दें की ट्विटर पर कल रात से ही #GoBackAmitShah टॉप ट्रेंड पर है, इसके साथ कई और हैशटैग भी ट्रेंड में हैं। वहां गृहमंत्री कई परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे और पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता और एमजी गोपालन रामचंद्रन को श्रद्धांजलि भी अर्पित करेंगे। साथ ही उनके आज के प्लान में दक्षिण के सुपरस्टार रजनीकांत से मुलाकात करने की बात भी है।

Delhi Lockdown: क्या दिल्ली में बस लगने ही वाला है लॉकडाउन?

लेकिन इस दौरे में मुख्य कारण है अगले साल होने वाले तमिलनाडु विधानसभा चुनाव। तमिलनाडु में 2021 के अप्रैल- मई महीने में विधानसभा चुनाव होने हैं। बिहार में चुनाव जीतने के बाद अब बीजेपी की नज़र अन्य राज्यों पर है, इन राज्यों में बंगाल के अलावा तमिलनाडु जी है। वैसे शाह(Amit Shah) जिस राज्य का भी दौरा करते हैं उस राज्य के राजनीतिक गलियारों में राजनीतिक हलचल तेज़ हो है। इसीलिए विधानसभा चुनाव से पहले शाह के तमिलनाडु दौरे का विरोध हो रहा है।

READ:  Big role of police in border management: NSA Ajit Doval

विधानसभा चुनाव से पहले अमित शाह का दौरा और बीजेपी की वेल यात्रा का भारी विरोध देखने को मिल रहा है। इस यात्रा का विरोध केवल विपक्षी पार्टियाँ ही नही बल्कि सत्ताधारी दल भी कर रहे है। आपको बतादें बीजेपी और एआईएडीएमके की राज्य में गठबंधन सरकार है फिर भी वेल यात्रा का विरोध हो रहा है। 6 नवंबर से 6 दिसंबर तक की वेल यात्रा की इज़ाजत बीजेपी ने मांगी थी लेकिन राज्य सरकार ने कोरोना का हवाला देते हुए यात्रा का इज़ाजत नहीं दी गयी। लेकिन बीजेपी ने अपने राज्य प्रमुख एल मरुगन अगुवाई में यात्रा जारी रखी जिस दौरान कई बीजेपी नेता गिरफ्तार भी हुए।

क्या अगरबत्ती और हवन का धुआं जानलेवा है? देखें क्या कहा डॉ. विक्रम जग्गी ने

तमिलनाडु की राजनीति में द्रविड़ आंदोलन का अलग महत्त्व रहा है, इसी आंदोलन ने राज्य को एम.करुणानिधि और जयललिता जैसे नेता दिए जिन्होंने बादमें पूरा राज्य संभाला। द्रविड़ आंदोलन की शुरुआत ब्राह्मणवादी विचारधारा के विरोध में हुई थी इसके जनक ईवीके रामास्वामी पेरियार थे। बीजेपी की छवि ब्राह्मण प्रमुख रही है यही वजह है आज गृहमंत्री(Amit Shah) का विरोध इतना ज्यादा हो रहा है।

READ:  Tripura Violence: UAPA on SC lawyers, who went Agartala to find facts

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups.