चीन ने वुहान से दुनियाभर की फ्लाईट समय से बंद क्यों नहीं की?

donald trump blame china for covid 19 pandemic
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk

कोरोनावायरस (Covid-19) से अमेरिका में अब तक 57 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और यहां दुनिया में सबसे ज्यादा संक्रमित मरीज हैं जिनकी संख्या 10 लाख से भी ज्यादा है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( Donald Trump) बौखलाए हुए हैं और लगातार चीन (China) पर कोरोनावायरस को लेकर लापरवाही बरतने का आरोप लगा रहे हैं। डोनाल्ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) को भी इसके लिए ज़िम्मेदार ठहराया और कहा कि डब्ल्यूएचओ इस महामारी को रोक सकता था उन्होंने समय से कुछ नहीं किया, वे चीन के हाथ की कठपुतली हैं। चीन ने दुनिया को गुमराह किया और WHO ने उनकी गलती पर पर्दा डाला। जब वुहान में महामारी फैली तो वुहान (Wuhan) से चीन के अन्य राज्यों में जाने पर तो रोक लगा दी गई लेकिन वहां से अन्य देशों में जाने के लिए फ्लाईट को बंद नहीं किया जिससे इटली, जर्मनी, इंग्लैंड और अमेरिका में संक्रमित मरीज़ फैल गए। अगर चीन वहां से परिचालन बंद कर देता तो वायरस को दुनियाभर में जाने से रोका जा सकता था।

READ:  Chinese lab leak unlikely, says WHO's coronavirus taskforce

आपको बता दें की चीन में संक्रमण फैलने के बाद भारत समेत कई देशों ने चीन जाने वाली फ्लाईट्स रद्द कर दी थी। लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।

ट्रंप ने कहा कि अमेरिका डब्ल्यूएचओ को औसतन 40-50 करोड़ अमेरिकी डॉलर की सहायता देता है और चीन 3.8 करोड़ अमेरिकी डॉलर देता है। फिर भी डब्ल्यूएचओ चीन के लिए काम करता है। ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को दी जाने वाली फंडिंग रोक दी है और कहा कि हम यह राशी ऐसे संगठनों को दे सकते हैं जिन्हें ज़रुरत है और वे हमारे लिए कारगर भी साबित होंगें। अमेरिका में अब WHO की भूमिका पर जांच हो रही है। इस जांच में यह भी पता लगाया जाएगा की चीन से यह वायरस दुनियाभर में कैसे फैल गया। तबतक WHO की फंडिंग पर रोक जारी रहेगी।

READ:  India's 2021 economic output likely to remain below 2019 level: UN report

दुनिया के अन्य देशों ने ट्रंप के इस कदम को गलत ठहराते हुए कहा है कि WHO ने सभी देशों में कोरोनावायरस को लेकर जागरुकता फैलाने के लिए अभूतपूर्व काम किया है। विकासशील देशों के साथ मिलकर WHO लगातार काम कर रहा है। अमेरिका के इस कदम से WHO द्वारा किये जा रहे प्रयासों को ध्क्का लगेगा।

क्या काम करता है WHO?

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन, स्‍वास्‍थ्‍य के लिए संयुक्‍त राष्‍ट्र की विशेषज्ञ एजेंसी है। यह एक अंतर-सरकारी संगठन है जो आमतौर पर सदस्‍य देशों के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालयों के जरिए उनके साथ मिलकर काम करता है। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन दुनिया में स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी मामलों में नेतृत्‍व प्रदान करने, स्‍वास्‍थ्‍य अनुसंधान एजेंडा को आकार देने, नियम और मानक तय करने, प्रमाण आधारित नीतिगत विकल्‍प पेश करने, देशों को तकनीकी समर्थन प्रदान करने और स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी रुझानों की निगरानी और आकलन करने के लिए जिम्‍मेदार है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के 194 सदस्य देश तथा दो संबद्ध सदस्य हैं।

READ:  States, UTs can impose local curbs to control rising covid-19 cases: Centre

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।