Home » HOME » जानिये कौन हैं राज्यसभा से इस्तीफा देकर ममता को तगड़ा झटका देने वाले Dinesh Trivedi

जानिये कौन हैं राज्यसभा से इस्तीफा देकर ममता को तगड़ा झटका देने वाले Dinesh Trivedi

Dinesh Trivedi
Sharing is Important

पश्चिम बंगाल में जैसे जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं वैसे वैसे सियासी दलों में भगदड़ मच गई है। नेताओं का इधर से उधर दाने का दौर थम नहीं रहा। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को एक बहुत बड़ा झटका लगा है। ममता बनर्जी के सबसे करीबियों में एक राज्यसभा सांसद दिनेश त्रिवेदी (Dinesh Trivedi) ने शुक्रवार को राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे कर बंगाल की सियासत में एक और मोड़ ला दिया है।

नाटकीय अंदाज में राज्यसभा के फ्लोर पर ही सदन से इस्तीफे का ऐलान करने वाले दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि TMC में उन्हें घुटन हो रही है। दिनेश त्रिवेदी (Dinesh Trivedi) बंगाल की राजनीति के दिग्गज नेता माने जाते हैं। राज्यसभा के पटल पर इस्तीफा देकर उन्होंने सभी को चौंका दिया।

दिनेश त्रिवेदी (Dinesh Trivedi) ने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत 1980 के दौर में कांग्रेस से की थी, लेकिन 1998 में जब ममता बनर्जी ने तृणमूल कांग्रेस की स्थापना की तो वह भी TMC में आ गए और पार्टी के पहले महासचिव बनाए गए थे। टीएमसी में आने से पहले वह 1990 से 1996 तक गुजरात से राज्यसभा सदस्य थे। दिनेश त्रिवेदी को पिछले साल 3 अप्रैल 2020 को TMC ने राज्यसभा भेजा था। अभी उनके कार्यकाल को कई साल बाकी थे।

READ:  सावधान! ATM कार्ड से खरीदते हैं शराब, तो लग सकता है लाखों का चूना

TMC ने पश्चिम बंगाल से उन्हें राज्यसभा भेजा और वह 2002 से 2008 तक सांसद रहे। 2009 के लोकसभा चुनाव में दिनेश त्रिवेदी बैरकपुर सीट से लड़े और जीते थे। 2009 में उन्हें केंद्र में राज्य मंत्री बनाया गया। ममता बनर्जी के सीएम बनने के बाद दिनेश त्रिवेदी को 13 जुलाई 2011 को देश का रेल मंत्री बनाया गया था।

सियासी गलियारों में लोग अटकलें लगा रहे हैं कि दिनेश त्रिवेदी बंगाल चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हो सकते हैं। राज्यसभा में उन्होंने जिस तरीके से अचानक इस्तीफा दिया, उससे सभी लोग हैरान रह गये। भाजपा नेता और बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) ने कहा कि बंगाल के लोगों की सेवा करने वाले एक नेता टीएमसी में सम्मान नहीं किया गया। यदि वह बीजेपी में आते हैं तो हम उनका स्वागत करेंगे।

READ:  अभिव्यक्ति की आज़ादी पर मंड़राते ख़तरे को पहचानना ज़रूरी…!

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@gmail.com पर मेल कर सकते हैं।

Scroll to Top
%d bloggers like this: