Home » दिग्विजय नें खोदी कमलनाथ सरकार की कब्र?

दिग्विजय नें खोदी कमलनाथ सरकार की कब्र?

दिग्विजय बोले- बीजेपी चुनाव अधिकारियों के दम पर जीतना चाहती है उपचुनाव
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | Bhopal

मध्यप्रदेश में कांग्रेस का दूसरा धड़ा बागी हो चुका है। हम बात कर रहे हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया की जिन्होंन प्रधानमंत्री मोदी से मिलने के बाद कांग्रेस से अपना इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफे में उन्होंने साफ लिखा कि पिछले एक साल से बन रहे हालातों के बाद मेरा कांग्रेस छोड़ना ज़रुरी हो गया था। आखिर वो क्या हालात थे जिनकी वजह से ज्योतिरादित्य का कांग्रेस में दम घुटने लगा था।

राज्य में कमलनाथ के मुख्यमंत्री बनते ही ज्योतिरादित्य को राज्य से दरकिनार किया जाने लगा था। दिग्विजय सिंह ने सरकार का रिमोट कंट्रोल अपने हाथ में ले लिया था। वे कतई नहीं चाहते थे कि ज्योतिरादित्य कमलनाथ सरकार के आस पास भी दिखाई दें। दिग्विजय ने ऐसा चक्रव्यहू रचा जिसमें कमलनाथ सरकार ही घिर गई। कहते हैं दिग्विजय करते कांग्रेस की भलाई हैं लेकिन उनका हर वार कांग्रेस को भारी ही पड़ता है। पहले दिग्विजय नें सिंधिया की प्रदेश अध्यक्ष की दावेदारी को ध्वस्त किया, फिर एक सुरक्षित राज्यसभा सीट पर सिंधिया की दावेदारी में रोड़ा बन गए। यहीं से शुरु हो गई कमलनाथ सरकार की उल्टी गिनती। दिग्विजय खुद इस सीट से राज्यसभा जाना चाहते थे वे सिंधिया को यह सीट देने के पक्ष में नहीं थे और यह एक सीट, या कहें कि दिग्विजय की हट ने कमलनाथ सरकार की कब्र खोद दी।

सिंधिया मध्यप्रदेश से राज्यसभा जाना चाहते थे। लेकिन कमलनाथ और दिग्विजय इसके खिलाफ थे क्योंकि एक सीट पर दिग्विजय की दावेदारी थी जो पक्की सीट थी और दूसरी सीट पर जोड़ तोड़ कर अपने सदस्य को राज्यसभा भेज सकती थी। इस सीट पर भी केटीएस तुलसी और प्रियंका गांधी के राज्यसभा भेजे जाने के कयास लगाए जा रहे थे। कांग्रेस में एक नियम है कि जो लोकसभा चुनाव हार जाता है उसे राज्यसभा सीट नहीं दी जाती। ज्योतिरादित्य सिंधिया गुना से लोकसभा चुनाव हार गए थे। ये सारी बातें सिंधिया के खिलाफ जा रही थी। अगर दिग्विजय अपनी सीट सिंधिया को दे देते तो शायद राज्य में इतना बड़ा संकट पैदा नहीं होता। हालांकि कांग्रेस दूसरे राज्य से सिंधिया को राज्यसभा भेजने के लिए तैयार थी लेकिन सिंधिया केवल मध्यप्रदेश से ही राज्यसभा जाना चाहते थे।

READ:  भोपाल: LNCT University में तीन दिवसीय आर्टस ऑफ फिल्म मेकिंग कार्यशाला का समापन

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।