Home » कोरोना की दूसरी लहर ज़्यादा खतरनाक क्यों है?

कोरोना की दूसरी लहर ज़्यादा खतरनाक क्यों है?

कोरोना की दूसरी लहर क्यों है खतरनाक
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दूसरी लहर पहली लहर में क्या है बुनियादी अंतर इसे समझना है ज़रुरी: प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम पिछली बार की तरह कोरोना पर विजय पा कर ही रहेंगे। लेकिन देश में लगातार बिगड़ते हालातों को देखकर ऐसा नहीं लगता।

कोरोना (Covid-19) से लड़ने वाले सरकारी इंतज़ाम लगातार कम पड़ते जा रहे हैं। सूबे के मुख्यमंत्रियों के चेहरे पर मायूसी साफ दिखाई पड़ रही है। राज्य सरकारें ऑक्सीज़न, दवाईयों और बेड की कमी के बारे में कह रही हैं।

Coronavirus second wave India
Photo by Mufid Majnun on Unsplash

देश के स्वास्थ्य मंत्री एम्स में जायज़ा लेने पहुंचे तो डॉक्टर्स ने उन्हें मौजूदा हालातों से अवगत करवाया। उनके चेहरे पर शिकन साफ दिखाई दी। तो ऐसा क्या है जो दूसरी लहर को इतना खतरनाक बना रही है। आईये समझते हैं-

क्या है दूसरी और पहली लहर में बुनियादी अंतर?

दोनो लहर एक दूसरे से अलग हैं क्योंकि इस बार वायरस अपना प्रकार बदल चुका है। भारत में इस समय कोरोना के चार अलग-अलग स्ट्रेन एक्टिव हैं।

पिछली लहर में प्राईमेरी स्ट्रेन का प्रकोप था। जबकि इस बार ब्राज़ील, दक्षिण अफ्रीका और यूके स्ट्रेन भी एक्टिव हैं। भारत सरकार की ओर से अब तक इस पर कोई विस्तृत जानकारी नहीं दी गई है। फिल्हाल हमें पता नहीं है कि कौन सा स्ट्रेन भारत में कहर बरपा रहा है।

डॉक्टर्स की मानें तो कोरोना का बदला स्वरुप तेज़ी से फैल रहा है। हर आयु वर्ग के लोगों को अपना शिकार बना रहा है। मौत के मामलों में भी तेज़ी से इज़ाफा हो रहा है। रोज़ाना हो रहे टेस्ट में पॉज़िटिव हो रहे लोगों की संख्या तेज़ी से बढ़ रही है।

ALSO READ: घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

चिंता की बात

  • वायरस बच्चों और वयस्कों को तेज़ी से चपेट में ले रहा है।
  • वैक्सीन का पहला और दूसरा डोज़ ले चुके लोगों में भी संक्रमण देखा जा रहा है।
  • दोबारा संक्रमण के मामले भी सामने आ रहे हैं। हालांकि ऐसे लोगों की संख्या कम है।
  • कई परिस्थितियों में आरटीपीसीआर टेस्ट में भी संक्रमण का पता नहीं चल रहा है।
  • लक्षण भी अलग-अलग हैं और काफी अधिक हैं।
  • निमोनिया और सांस लेने में दिक्कत के मामले तेज़ी से सामने आ रहे हैं।
READ:  Gender gap in vaccination: digital divide, hesitancy to blame

क्या हैं दूसरी लहर के लक्षण

  • खांसी, बुखार, सांस लेने में दिक्कत, डायरिया जैसे लक्षण इस बार आम तौर पर नज़र आ रहे हैं।
  • म्यूटेंट वायरस से जो कोरोना हो रहा है, उसमें बुख़ार ज़्यादा दिन तक रहता है।
  • कई दिनों तक बुखार रहता है तो यह कोरोना का लक्षण है।

वैक्सीन के बाद कोरोना के लक्षण

वैक्सीन के बाद कोरोना के लक्षण
Photo by Mufid Majnun on Unsplash

वैक्सीन की एक डोज़ भी ली है और कोरोना हो जाता है तो घबराने की ज़रुरत नहीं है। आपको कुछ दिन बुखार रहेगा लेकिन कोरोना आपके लंग्स पर असर नहीं करेगा। वैक्सीन की पहली डोज़ लेने के बाद शरीर में कुछ एंटीबॉडी बन जाती है।

ALSO READ: अगर आपकी रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है तो यह आर्टिकल ज़रुर पढ़ें

दूसरी लहर में नौजवान और बच्चे भी चपेट में

सरकार की तरफ से इस पर भी अभी तक कोई डेटा जारी नहीं हुआ है। अस्पतालों में मरीज़ों की संख्या को देखते हुए डॉक्टर्स का कहना है कि यंग लोग कोरोना की चपेट में आ रहे हैं।

जो वैज्ञानिक आधार है वह यह है कि जब वायरस म्यूटेंट होगा, तो उस जनसंख्या पर ज़्यादा अटैक करेगा, जहाँ प्राथमिक टीकाकरण नहीं हुआ है। हमारे देश में अभी केवल 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को टीका दिया जा रहा है। ऐसे में वायरस उससे कम उम्र के लोगों को शिकार बना रहा है। क्योंकि वायरस भी खुद को ज़िंदा रखने की कोशिश में लगा हुआ है।

बच्चों की इम्यूनिटी अच्छी होती है उनके लिए घबराने वाली बात नहीं है। देश में जल्द 18 साल से उपर के लोगों के लिए टीकाकरण शुरु करना होगा।

दोबारा होने वाला कोरोना कितना खतरनाक है?

  • दोबारा हुए संक्रमण में यह देखना होता है कि वायरस कौनसा है।
  • यूके वायरस है तो तो वो बच्चों और नौजवानों पर ज़्यादा असर करेगा।
  • ब्राज़ील वाला है, तो उससे जान पर ख़तरा ज़्यादा होगा।
  • दक्षिण अफ्रीका वाला है, तो जाँच में पकड़ में आने में थोड़ी देरी होती है।
READ:  488 deaths in India during Covid vaccination drive

कैसे करें अपना बचाव?

चाहे वैक्सीन लगी हो या आप पहले संक्रमित हो चुके हों, आप चैन से नहीं बैठ सकते। आपको सतर्क रहने की ज़रुरत हर वक्त है। देश में चिकित्सा व्यवस्था चरमरा चुकी है। पूरी कोशिश करनी है कि आप इस लहर से किसी भी तरह बचे रहें।

इसके लिए आपको रखना होगा इन बातों का खास ख्याल-

  • मास्क पहने रखें, उसे बार-बार न छुएं, जब नौबत आए तो हाथ सैनेटाईज़ करके ही छुएं या निकालें।
  • जितना हो सके कम लोगों के संपर्क में आएं। दूरी बनाएं और कम से कम घर से निकलें।
  • भीड़ न लगाएं न ऐसी जगह पर जाएं।
  • घर पर कम से कम 15 मिनट एक्सरसाईज़ ज़रुर करें।
  • योग को जीवन का हिस्सा बनाएं।
  • खाना घर पर ही खाएं और किसी के साथ उसे शेयर न करें।
  • भूखे न रहे पौष्टिक आहार खाएं, पानी भी खूब पिएं।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।