Home » HOME » कोरोना संकट में उठी डॉ कफ़ील खान की रिहाई की मांग, ट्रेंड हुआ #ReleaseDrKafeelkhan

कोरोना संकट में उठी डॉ कफ़ील खान की रिहाई की मांग, ट्रेंड हुआ #ReleaseDrKafeelkhan

Sharing is Important

ग्राउंड रिपोर्ट, ललित कुमार सिंह:
देश में कोरोना मामलों की संख्या रोज़ बढ़ रही है. आज कुल मामले 5,194 हो गए और मरने वालों की बात करें तो अभी तक इस वायरस ने 149 लोगों की जान ले ली है. इस बीच सोशल मीडिया पर मथुरा जेल में बंद डॉक्टर कफील खान की रिहाई की मांग शुरू हो गयी है. हमारे देश में हालत पर काबू पाने और पीड़ितों के इलाज को स्वस्थ्य कर्मी पूरी जान से जुटें हैं. लोगो का कहना है कि ऐसे संकट में एक काबिल डॉक्टर का जेल में होना दुर्भाग्यपूर्ण है.

ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है कफील खान की रिहाई मांगने वाला हैशटैग, #ReleaseDrKafeelkhan. अब तक इस हैशटैग के 30 हज़ार से भी ज्यादा ट्वीट्स हो चुके हैं.

यह भी पढ़ें: भारत में कोरोना के कम मामले आने का क्या है कारण ? पढ़िए…

कफील खान की रिहाई की मांग में हंसराज मीणा लिखते हैं, “प्रिय, देशवासियों। देश कोरोना जैसी विकट ग्लोबली महामारी से जूझ रहा है। लॉकडाउन सरकार का एक अच्छा प्रयास है। लेकिन इस माहमारी में देश के एक जुझारू डॉक्टर को दुर्भावनापूर्ण सलाखों में बंद कर देना,हमें कचोटता है। आओ उनको इस संकट में बाहर निकलवाने का प्रयास करें। #ReleaseDrKafeelKhan

READ:  Bank Sakhis to the Rescue

वहीँ कांग्रेस के सचिन चौधरी ने ट्वीट कर लिखा, “द्वेषपूर्ण भावना के तहत निडर निर्भीक डॉ @drkafeelkhan के ऊपर रासुका लगाकर जेल में बंद कर देना निंदनीय है, डॉक्टर के लिए मानवता की सेवा ही सर्वोपरि है। डॉ काफिल को सरकार तुरंत रिहाई दे और कोरोना के मरीजों का इलाज करनें की अनुमति भी दे। #ReleaseDrKafeelKhan

यह भी पढ़ें: दुनिया के सबसे प्रदूषित इन शहरों को लॉक डाउन ने बना दिया स्वच्छ…

READ:  दिल्ली से छत्तीसगढ़ जा रही दुर्ग एक्सप्रेस की 4 बोगियों में लगी आग, देखें वीडियो

डॉक्टर कफील खान कुछ दिन पहले प्रधानमंत्री मोदी को एक चिट्ठी लिखी थी. उस चिट्ठी में उन्होंने भारत में कोरोना की महामारी से बचाने के लिए CORONA STAGE-3 के खिलाफ एक रोडमैप का ज़िक्र किया था. उन्होंने लिखा था “20 वर्ष के अनुभव के आधार पर कोरोना स्टेज ३ के खिलाफ कैसे लड़ा जाए, उसका रोड मैप आपको देना चाहता हूँ. जिससे इस महामारी से फैलते संक्रमण पर अंकुश लगाया जा सके”.

प्रधानमंत्री मोदी को लिखा उनका पत्र…

यह भी पढ़ें: ज़रा चेक कीजिये आपकी EMI कटी या नहीं? नहीं तो चुकाना होगा ब्याज…

डॉक्टर कफील खान को यूपी पुलिस ने दिसंबर में अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में भड़काऊ के आरोप में गिरफ्तार किया था. लेकिन फरवरी में उनकी रिहाई से पहले उनपर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लगा कर रिहाई को टाल दिया गया. कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार को 11 हज़ार बंदियों को जेल से छोड़ने के निर्देश दिए थे. लेकिन फिर भी 28 मार्च को आर्डर आने के बाद भी उनकी रिहाई नहीं हुई.  डॉक्टर कफील खान को गोरखपुर में हुई एन्सेफलीटीस से कई बच्चो की मौत के मामले में क्लीन चिट मिल चुकी है.