Home » Delhi Violence: मस्जिद पर हमला करने पहुंचे थे दंगाई, हिंदुओं ने बाल भी बांका न होने दिया

Delhi Violence: मस्जिद पर हमला करने पहुंचे थे दंगाई, हिंदुओं ने बाल भी बांका न होने दिया

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk

दिल्ली हिंसा में अब तक कई दर्दनाक दास्तान सामने आ चुकीं हैं वहीं इस बीच भाईचारे और साम्प्रदायिक सौहार्द के भी कई ऐसे किस्से सामने आ रहे हैं जो इंसानियत का दिल जीत ले। 25 फरवरी को उत्तर पूर्वी दिल्ली अशोक नगर में एक मस्जिद को जिस वक्त दंगाई फूंकने आए वहां ऐन मौके पर हिन्दू भाई सामने खड़े हो गए मस्जिद का बाल भी बांका न होने दिया।

मंगलवार दोपहर एक भीड़ इस मस्जिद और उसके आस-पास रहने वाले करीब 10 मुस्लिम परिवारों हमला बोलने आई थी। इसी बीच भाईचारे की मिसाल पेश करते हुए हिन्‍दुओं ने उन्हें अपने घर में पनाह दी और मस्जिद को भी जलाने नहीं दिया।

ALSO READ: Stories Of Unity Reveal How Hindus, Muslims Saved Each Other In Delhi Riots

हिन्दी न्यूज़ चैनल NDTV के संवाददाता एनडीटीवी के संवादाता से बातचीत में रहवासियों ने कहा दंगाई इलाके के बाहर के लोग थे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि दंगा करने वालों की उम्र 20 से 25 वर्ष थी। हालांकि, हिन्‍दू और मुस्लिम परिवारों ने यहां भाईचारे की मिसाल कायम करते हुए एक दूसरे की रक्षा की और दंगाइयों के नापाक मंसूबों को नाकाम कर दिया।

READ:  जिग्नेश मेवानी ने किन कारणों से जॉइन नहीं की कांग्रेस?

वहीं दूसरी ओर चांदबाग में हुई हिंसा के दौरान भी कुछ हिन्‍दू और मुस्लिम परिवारों ने भाईचारे की मिसाल पेश की। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस मुस्लिम बहुल इलाके में कुछ ही हिंदू परिवार रहते हैं। इस इलाके में तीन मंदिर हैं। हिंसा के दौरान यहां मंदिरों पर हमला करने पहुंचे दंगाइयों को मुस्लिमों ने रोक दिया और दुनिया भर में इंसनिया की एक अलग ही मिसाल पेश की।

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।