Delhi Election Results 2020 : क्या इस बार भी ज़ीरो पर क्लीन बोल्ड होगी कांग्रेस?

Ground Report News Desk | New Delhi

दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections 2020) के रुझान आने शुरू हो चुके हैं। ताज़ा रुझानों के मुताबिक, दिल्ली में आम आदमी पार्टी 50 से ज्यादा सीटों पर आगे चल रही है जबकी बीजेपी ने 20 सीटों पर बढ़त बनाई हुई है। वहीं कांग्रेस पिछले विधानसभा चुनाव की तरह इस बार भी खाता नहीं खोल पाई है। ताज़ा रुझानों में कांग्रेस अब तक ज़ीरो पर बरकरार है। ऐसे में बड़ा सवाल यह उठता है कि क्या कांग्रेस इस बार भी ज़ीरो पर क्लीन बोल्ड हो जाएगी। क्या दिल्ली विधानसभा चुनाव में दिल्ली की जनता ने कांग्रेस को एक बार फिर सिरे से नकार दिया है।

वहीं को पिछले विधनासभा चुनाव में 2 सीटों से संतुष्ट होना पड़ा था लेकिन उस बार की तुलना में देखा जाए तो बीजेपी इस बार दमदार वापसी करती नजर आर रही है। बीजेपी ने 20 सीटों पर बढ़त बनाई हुई है। जबकी आम आमदी पार्टी 50 सीटों पर आगे चल रही है। कुछ सीटों पर कांटे की टक्कर जैसी लड़ाई होती नजर आ रही है। कुछ सीटों पर बीजेपी और आम आमदी पार्टी के बीच बढ़त का अंतर 35 से 50 वोटों के बीच का है। वहीं चांदनी चौक से कांग्रेस प्रत्याशी अलका लांबा पीछे चल रही है।

वोटों की गिनती से 672 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला हो रहा है, इनमें से 593 पुरुष और 79 महिला प्रत्याशी हैं। 1.46 करोड़ मतदाताओं ने मताधिकार का इस्तेमाल किया। दिल्ली के 11 जिलों की 21 लोकेशन पर वोटों की गिनती की जा रही है। दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में 62.59% वोट डाले गए। यह पिछली बार के मुकाबले करीब 5% कम हैं। 2015 में चुनाव के दौरान 67.5% वोट डाले गए थे।

Also Read:  Who is Journalist Naresh Vats assaulted in Kejriwal's press conference?

रुझानों के समय ही विकासपुरी विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी मुकेश शर्मा ने अपनी हार मान ली। उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर कहा कि, ‘मैं अपनी हार स्वीकार करते हुए, विकासपुरी विधानसभा क्षेत्र के सभी मतदाताओं व कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आभार व्यक्त करता हूं और आशा करता हूं कि क्षेत्र का चौमुखी विकास होगा।

बता दें कि, दिल्ली विधानसभा में कुल 70 सीटें हैं। इन 70 सीटों में से 58 सामान्य वर्ग के लिए तो 12 सीटें अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित हैं। 14 जनवरी से 21 जनवरी तक नामांकन की तिथि नियत की गई थी जबकी नामांकन पत्रों की जांच परख 22 जनवरी को और नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 24 जनवरी तय की गई थी। वहीं इस चुनाव में करीब 1 लाख कर्मचारियों की तैनाती की गई थी। चुनाव आयोग से मिली जानकारी के मुताबिक, दिल्ली की कुल 70 विधानसभा सीटों के लिए 2689 जगहों पर वोटिंग हुई जिसके लिए कुल 13750 पोलिंग बूथ तैयार किए थे।