Delhi Election 2020 : पूर्वांचली संघर्ष समिति के माध्यम से संजय सिंह को आगे कर रही बीजेपी

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | New Delhi

दिल्ली के कई क्षेत्र ऐसे हैं जहाँ पूर्वांचल समाज के लोग अच्छी खासी तादाद में हैं इसीलिए दिल्ली के सभी राजनितिक दल पूर्वांचली मतदाताओं के लामबंद करने के लिए अपने अपने तरीके से योजनायें बना रहे हैं। इस समाज के लोग मुख्य तौर पर उत्तरी पश्चिमी, उत्तरी पूर्वी और दक्षिणी दिल्ली इलाकों में 40% से ज्यादा हैं।

ये लोग यहाँ पर अनधिकृत कालोनियों में रहते हैं। इसी के तोड़ के लिए शीतकालीन शत्र में  बीजेपी अनधिकृत कालोनियों को अधिकृत करने के लिए अध्यादेश लायी थी। वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के प्रचार में भी अनाधिकृत कालोनियों का जिक्र होता रहा है।

पूर्वांचल संघर्ष समिति के तत्वाधान में 12 जनवरी को विकास नगर के गोमती गार्डन में आयोजित नव वर्ष मंगल मिलन और मकर संक्रांति पर्व पर पूर्वांचली समाज को संजय सिंह नें एकजुट करने के लिए एक बड़े सभा का आयोजन किया गया।

हालंकि यह सभा हर साल होती रही है लेकिन इस बार इस सभा के माध्यम से बीजेपी कई बड़े राजनितिक संदेश दिए गए। इसके केंद्र बिंदु में पूर्वांचल के दिग्गज भाजपाई नेता संजय सिंह रहे।

गौरतलब है कि इस कार्यक्रम में विकासपुरी, नांगलोई, जनकपुरी, नजफगढ़, मटियाला, द्वारका और उत्तम नगर विधानसभाओं के पूर्वांचली समाज के ज्यादातर लोग व विकासपुरी विधानसभा के सभी धर्मों और जातियों के लोग एकत्रित हुए थे।

संजय सिंह दिल्ली में बीते लंबे अरसे से सामाजिक सेवा में सक्रिय रहे हैं और बीते सात सालों से भारतीय जनता पार्टी से जुड़कर पार्टी को मजबूती प्रदान कर रहे हैं। संजय सिंह के भाजपा में आने के बाद से ही  पार्टी का पूर्वांचल‌ियों के बीच जनाधार काफी बढ़ा है।

इस संदर्भ में महत्वपूर्ण बात ये है कि पिछले चुनाव में मात्र 19 दिन पूर्व टिकट मिलने के बाद भी उन्होंने अब तक विधानसभा में बीजेपी के द्वारा सबसे ज्यादा मत हासिल किया था। यहां तक कि वे पूरी दिल्ली में बीजेपी उम्मीदवारों की छठे सबसे ज्यादा वोट पाने वाले उम्मीदवार बनें।

हालांकि 2015 के आम आदमी पार्टी की लहर में वे विकासपुरी विधान सभा से 54,000 से ज्यादा मत हासिल करके भी चुनाव हार गए थे लेकिन इसके बाद भी वे लागातर विकासपुरी समेत पूर्वांचलियों के प्रभाव वाली सभी सात विधानसभाओं में एक मजबूत शख्‍सियत के तौर पर स्‍थापित हो चुके हैं।