कोरोनावायरस की चपेट में आ सकती है दुनिया की 60 फीसदी आबादी : प्रोफेसर लेउंग

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

चीन के वुहान प्रांत से फैले घातक कोरोनावायरस से अब तक 1,110 लोगों की मौत हो चुकी है और इसके अभी तक 44,653 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, हांगकांग के एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने दावा किया है कि अगर इस वायरस को रोका नहीं गया तो इससे दुनिया की 60 प्रतिशत आबादी चपेट में आ सकती है। इसके साथ ही दुनिया की अर्थव्यवस्था पर ख़तरा भी मंडरा सकता है। भारत जैसे देश अगर इसकी चपेट में आ गए तो इससे लड़ना बहुत ही मुश्किल होगा।

हालांकि, चीन में प्रत्येक दिन नए मामलों की संख्या घटने लगी है, जो पिछले आठ दिनों में गिरकर पांच पर आ गई है। इसका मतलब यह नहीं है कि दिसंबर से फैलने वाला यह वायरस अपने चरम पर नहीं है, लेकिन इस महामारी से निपटने वाले वैज्ञानिकों का कहना है कि यह एक उत्साहजनक संकेत है।

सार्वजनिक स्वास्थ्य चिकित्सा के प्रमुख प्रोफेसर गेब्रियल लेउंग ने कहा कि अगर कोरोनावायरस के रोकथाम के उपाय विफल हो गए तो इस जानलेवा वायरस से दुनिया की 60 फीसदी आबादी चपेट में आ सकती है। लेउंग ने कहा कि अभी तक इस वायरस से मृत्यु दर एक फीसदी है, इसके बावजूद भी यह लाखों को मार सकता है। 

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप  के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@gmail.com पर मेल कर सकते हैं।