UP : दलित महिला का नहीं होने दिया अंतिम संस्कार, चिता से हटवाया शव

UP : दलित महिला का नहीं होने दिया अंतिम संस्कार, चिता से हटवाया शव
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उत्तर प्रदेश की क़ानून व्यवस्था पूरी तरह से चौपट नज़र आ रही है। सूबे को ‘जंगलराज’ कहा जा रहा है। उत्तर प्रदेश के आगरा ज़िले के अछनेरा तहसील के रायभा गांव से इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली एक घटना सामने आई है। यहाँ एक दलित महिला की मौत के बाद सवर्णों ने शव को चिता पर से हटवा दिया और महिला का अन्तिम संस्कार नही होने दिया।

क्या है पूरा मामला ?

दरअसल, सोमवार सुबह गांव की नट समाज की महिला की मौत हो गई। दोपहर को परिवार और समाज के लोग उसके अंतिम संस्कार के लिए पास के श्मशान घाट में पहुंचे। इसके बाद श्मशान घाट में चिता बनाकर शव रख लिया। मुखाग्नि देने की तैयारी चल रही थी कि तभी गांव के कुछ लोग वहां आ गए।

यह भी पढ़ें : कोरोना के दौरान परीक्षा को लेकर छात्रों का विरोध और चिंता

गांव के सवर्णों ने श्मशान को अपने समाज का बताते हुए नट जाति की महिला का अंतिम संस्कार रुकवा दिया। इन लोगों ने मृत महिला के घरवालों से कहा कि उनके समाज का श्मशान घाट दूसरी जगह पर है। वे छोटी जाति के लोग हैं, इसलिए वे यहां अंतिम संस्कार नहीं कर सकते।

दूसरे श्मशान में हुआ दलित महिला का अंतिम संस्कार

कुछ देर बाद महिला के परिजन शव को दूसरी जगह ले जाने के लिए तैयार हो गए। चिता से शव निकाला गया। गांव नगला लालदास के श्मशान में महिला का अंतिम संस्कार हुआ।

यह भी पढ़ें : झाँसी में कोरोना खतरनाक स्तर पर, जिला जेल में 210 कैदी संक्रमित

मामला मीडिया में आने के बाद आज एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि उक्त प्रकरण की सीओ अछनेरा को जांच सौंपी गई है। जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ विधिक कार्रवाई की जाएगी।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।