Dalit Boy Killed: दावत में खाना छूने पर दलित युवक की पीट पीट कर हत्या

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Dalit Boy Killed: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल(Bhopal) से करीब 450 किलोमीटर दूर छतरपुर(Chatarpur) में एक दलित युवक की पीट पीट कर हत्या कर दी गई। यह क्षेत्र उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) की सीमा से सटा हुआ है और बुंदेलखंड(Bundelkhand) इलाके में आता है। यहां दलित युवक एक कार्यक्रम में साफ़ सफाई के लिए आया था जिस दौरान वहां रखा खाना छूने की कीमत उसे अपनी जान से चुकानी पड़ी। मृतक युवक का नाम देवराज अनुरागी बताया जा रहा है जिसकी उम्र करीब 25 वर्ष थी।

दलितों के बाल काटने पर सैलून मालिक को सुनाया गांव से निकालने का फरमान, 50,000 का जुर्माना भी ठोका

READ:  Dalit youth commits suicide in UP after false allegation,

दलित युवक को दावत के बाद साफ़ सफाई के लिए बुलाया गया था। तभी खाना छूने की वजह से नशे में धुत्त दो सवर्ण जाति के लोगों ने जातिगत टिप्पणी की और गालियां देते हुए उसे पीटना शुरू कर दिया। जिस कारण दलित युवक की मौत हो गयी। आरोपियों के नाम भूरा सोनी और संतोष पाल बताये जा रहे हैं।

उत्तर प्रदेश : अमेठी में दलित प्रधान के पति को जिंदा जलाया, हुई दर्दनाक मौत

नवभारत टाइम्स की एक ख़बर के अनुसार छत्तरपुर जिले के गौरिहार थाना प्रभारी जसवंत सिंह राजपूत ने बताया है कि ‘अनुरागी इस कार्यक्रम में जब खुद खाने के लिए गया तब आरोपी सोनी और पाल ने उसे गाली गलौज और पीटना शुरु कर दिया।’ टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक अन्य ख़बर के मुताबिक़ छतरपुर के एसपी सचिन शर्मा का कहना है ‘आरोपी भूरा सोनी और संतोष पाल हत्या के बाद से ही फरार हैं लेकिन उनपर हत्या और एससी एसटी एक्ट के अंतर्गत मामला दर्ज हो चुका है।वह दोनों जल्द ही पकड़े जायेंगे।’

READ:  UP : कानपुर देहात में भीमकथा कर रहे दलितों पर किया गया लाठी-डंडों से हमला, दर्जनों लोग हुए ज़ख्मी

उत्तर प्रदेश : दो दलित नाबालिग़ बहनों की हत्या कर तालाब में फेंका

Dalit Boy Killed: लगभग पूरे देश में दलितों पर हो रहे अत्याचार थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। सरकार के तमाम दावों और वादों के बीच यह घटना बहुत शर्मनाक है। स्वतंत्र भारत 74 साल बाद भी दलित सुरक्षित नहीं है। कभी जातिगत टिप्पणी कर उन्हें बेइज़्ज़त किया जाता है तो कभी डरा धमकाकर उनकी आवाज़ दबाने की कोशिश की जाती है। जाति हमारे देश में कोरोना वायरस से भी बड़ी बिमारी का रूप ले चुकी है जो कई सदियों से न जाने कितने निर्दोषों की जान ले चुकी है।

READ:  महामारी ने 'तोड़ी' जातीय रूढ़ियां लेकिन महामारी की जरूरत पड़ी ही क्यों?

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें [email protected] पर मेल कर सकते हैं।