बीते 15 सालों में बच्चों के साथ रेप के 1 लाख 53 हजार मामले दर्ज, मॉब लिंचिंग में 3000 मौत

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली, 8 जून। इन दिनों देश में अफवाह उड़ाकर लोगों की भीड़ द्वारा पीट-पीटकर हत्या करने यानी मॉब लिंचिग के मामले से देश भर के कई इलाकों में भय का माहौल है वहीं दूसरी ओर बच्चों के खिलाफ हो रही यौन हिंसा और रेप की घटनाए रुकने का नाम नहीं ले रही है। मध्य प्रदेश के मंदसौर में 8 साल की मासूम से हुई हैवानियत का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि बिहार, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश से यौन हिंसा और रेप के ताजा मामले सामने आए हैं।

ताजा मामला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले से सटे खजुराहो का है, जहां 14 साल की किशोरी के साथ तीन लोगों ने मिलकर गैंगरेप किया है। इससे पहले मध्य प्रदेश के ही मंदसौर में 7 साल की बच्ची के साथ बर्बर गैंगरेप के मामले ने देश प्रदेश में महिला सुरक्षा पर सवालिया निशान खड़े कर दिए थे।

इन सबसे इतर उत्तर प्रदेश के उन्नाव में एक महिला के साथ ज्यादती, जबरदस्ती करने और उसका वीडियो बनाने के मामले में पुलिस ने 6 लोगों पर गैंगरेप का मामला दर्ज किया है। जबकि जम्मू-कश्मीर के कठुआ में 8 साल की मासूम से हुई हैवानियत ने देश की अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर किरकिरी थी।

हांलाकि ऊपर दिए गए ये उदाहरण स्वरूप केस हमारे समाज की गंभीर स्थित और मनोदशा को बताने के लिए काफी है लेकिन हाल ही में आई एक रिपोर्ट आपको हैरान कर देगी। दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक बच्चों के खिलाफ यौन हिंसा और रेप की बीते 15 सालों में 1 लाख 53 हजार से भी ज्यादा घटनाएं हुई है। जबकि मॉब लिंचिग में अब तक कुल 3 हजार लोगों को भीड़ का शिकार होना पड़ा है।

इन आंकड़ो को देखें तो ये हमारे समाज की बीमार मनोदशा का परिचय देते हैं। साल 2001 से 2016 के बीच यानी बीते 15 सालों में देश भर में मासूमों से यौन हिंसा और बलात्कार के कुल 1 लाख 53 हजार 701 मामले दर्ज हुए हैं। दैनिक भास्कर में छपी खबर के मुताबिक, नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के मुताबिक देश में महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा के मामले तेजी से बढ़ें हैं।

एक रिपोर्ट के मुताबिक बीते 15 साल में बच्चियों से दुष्कर्म की घटनाओं में करीब 1700% का इजाफा हुआ है। इसमें ताजा मामला सतना में बच्ची से दुष्कर्म और मंदसौर रेप केस का मामला भी शामिल है। वहीं दूसरी ओर बच्चा चोरी के शक में होने वाली मॉब लिंचिंग में देश के अलग-अलग हिस्सों में अब तक करीब 99 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि बीते 15 सालों में करीब 3000 लोगों की हत्या कर दी गई है। गौहत्या, गौमांस के शक में दलितों और मुस्लिम को भी पीट-पीटकर मार दिए जानें के मामले इसमें शामिल हैं।

Comments are closed.