Home » इस कोरोना टीके का लागत मूल्य सिर्फ 14 रुपये, लेकिन कीमत 900 रुपये?

इस कोरोना टीके का लागत मूल्य सिर्फ 14 रुपये, लेकिन कीमत 900 रुपये?

Vaccination after 9 months covid19 recovery: Covishield Corona Vaccine Price: Serum Institute of India
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Serum Institute of India Covishield Corona Vaccine Price: वैक्सीन निर्माता कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) ने कोरोना के लिए कोविशील्ड वैक्सीन (Covishield Corona Vaccine Price) का निर्माण किया है। लेकिन कोरोना के इस टीके (Covishield Corona Vaccine Price) की कीमत मार्केट में 250 रुपये से 1500 रुपये तक है। कई नामी प्राइवेट अस्पताल कोरोना के टीके के लिए मोटी रकम ले रहे हैं। जबकि कोविशील्ड वैक्सीन (Covishield Corona Vaccine Price) का लागत मूल्य 14 रुपये है फिर भी इसका बिक्री मूल्य 900 रुपये तक है।

भारतीय जनसंचार संस्थान, नई दिल्ली में प्रोफेसर डॉ. आनंद प्रधान ने एक के बाद एक सिलसिलेवार तरीके से कई ट्विट कर बताया कि कैसे कोरोना वैक्सीन के नाम पर लूट मचा रखी है। डॉ. आनंद प्रधान ने अपने पहले ट्वीट में कहा, आपको पता है कि भारत की सबसे अधिक मुनाफ़ा कमानेवाली कंपनी कौन है? यानी जिसके मुनाफ़े का मार्जिन सबसे ज़्यादा है? रिलायंस, टाटा-टीसीएस, इंफ़ोसिस, विप्रो, आदित्य बिरला, आईसीआईसीआई, एचडीएफसी, भारती एयरटेल, हिंदुस्तान लीवर, जी नहीं! इनमें से कोई नहीं। यह एक वैक्सीन बनाने वाली कंपनी (Serum Institute of India)है।

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

READ:  आत्महत्या समस्या का समाधान नहीं है

अपने दूसरे ट्वीट बिजनेस अखबार मिंट का हवाला देते हुए बताया, इस कंपनी का नाम है- सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया। बिज़नेस अख़बार #मिंट की एक रिपोर्ट के मुताबिक़, वर्ष 2019-20 में सीरम का नेट सेल्स यानी कुल बिक्री 5446 करोड़ रूपए की थी और शुद्ध मुनाफ़ा था-2251 करोड़ रूपए। कुल बिक्री में शुद्ध मुनाफ़े का रेशियो था-41.3 प्रतिशत। #SerumInstitute

उन्होंने आगे समझाया, इसका अर्थ हुआ कि सीरम इंस्टीट्यूट 100 रूपये का सामान बेचती है तो उसपर 41 रूपये का शुद्ध मुनाफ़ा कमाती है। @livemint की रिपोर्ट के मुताबिक़ भारत की जिन 418 बड़ी कंपनियों ने 5000 करोड़ रूपए से अधिक की बिक्री की, उनमें सबसे अधिक मुनाफ़ा कमाने वाली टॉप कंपनी अदार पूनावाला की सीरम है।

READ:  Karwa Chouth 2021: पत्नी के व्रत को यूं बनाएं स्पेशल, प्यार में लगाएं रोमांस का तड़का!

मोदी सरकार के 5 बड़े घोटाले, जिनके सबूत मिटाने पर जुटी है सरकार

उन्होंने आगे ट्विट कर कहा, ठहरिए। कहानी अभी ख़त्म नहीं हुई है। सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन की हर सौ रूपए की बिक्री में मैटेरियल लागत सिर्फ़ 14 रूपए है और मुनाफ़ा है 41.3 रूपए। सचमुच, सीरम देश की भारी सेवा कर रही है। कोरोना महामारी की इस विपदा से बाहर निकालने की हमारी सारी उम्मीदें इसी कंपनी से है। क्यों?

वहीं आप वैक्सीन की एक रेट लिस्ट से समझ सकते हैं कि कोरोना वैक्सीन के अलग-अलग प्राइवेट अस्पताल में अलग-अलग प्राइज़ हैं जबकि आपदा के इस समय होना ये चाहिए कि सरकार पोलियो अभियान की तरह घर-घर जाकर फ्री में लोगों को कोरोना का टीका लगाए। इसके बावजूद भी लोग कोरोना के टीके के लिए भारी रकम देने को मजबूर हैं।

‘जनता को इतना निचोड़ दो की जिंदा रहने को ही विकास समझे’

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।