Home » नया डेल्टा प्लस वेरिएंट और भी ज्यादा खतरनाक, कभी भी आ सकती है कोविड कि तीसरी लहर

नया डेल्टा प्लस वेरिएंट और भी ज्यादा खतरनाक, कभी भी आ सकती है कोविड कि तीसरी लहर

Covid-19 delta plus Varian
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Covid-19 delta plus Variant: कोरोना महामारी की अब तीसरी लहर की भी शुरुआत हो चुकी है। बताया जा रहा है कि कोरोना वायरस का डेल्टा वेरिएंट पिछली बार से ज्यादा खतरनाक और जानलेवा है। इस नए वेरियंट का नाम डेल्टा प्लस वेरिएंट(Covid-19 delta plus Variant) है। आसार हैं कि कोरोना की तीसरी लहर का सबसे पहले प्रबगव महाराष्ट्र में हो सकता है। इस बात को लेकर महाराष्ट्र सरकार चिंतित है।

क्या है डेल्टा प्लस वेरियंट

एक रिपोर्ट के अनुसार वैज्ञानिकों ने बताया है कि कोरोना की डेल्टा वैरिएंट जिसे बी1.617.2 के नाम से भी जाना जाता है, पहले से ज्यादा खतरनाक वैरिएंट में बदल चुका है। तीसरी लहर आते आते इस वैरिएंट को डेल्टा प्लस या फिर एवाई.1 कहा जा रहा है। वैज्ञानिकों को आशंका है कि कोरोना मरीजों को दी जा रही मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज कॉकटेल का भी असर इस वैरिएंट पर नहीं होगा।

Pain killer During Covid-19: कोविड के दौरान कौन सा पेन किलर है सुरक्षित

मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज कॉकटेल क्या है?

मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज कॉकटेल एक दवा है, जो कोरोना के इलाज में इस्तेमाल की जाती है। इसका इलाज तब ही किया जाता है, जब मरीज की हालत बहुत क्रिटिकल स्टेज पर हो। इस दवा को फार्मा कंपनी सिप्ला और रोश इंडिया मिलकर बनाती है। भारत में इसे कोरोना के इलाज के इमरजेंसी यूज के लिए मई में मंजूरी मिली थी। इस दवा को अमेरिका और यूरोपियन यूनियन देशों में इमरजेंसी यूज के लिए सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड्स कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (सीडीएससीओ) से अप्रूवल मिला है।

READ:  Meet Jarnail ambulance driver who ferries Covid patients across India

तीसरी लहर से बढ़ सकते हैं केस

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने चेताया है कि अगर नियमों का पालन नहीं हुआ तो तीसरी लहर की संभावना बढ़ जाएगी। क्यंकि कोरोना वायरस का डेल्टा प्लस वेरिएंट इसे और भी भायवह बना सकता है। इस पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कोरोना की दूसरी लहर के ढलते पड़ाव के साथ ही नए वेरिएंट डेल्टा प्लस के खतरे को भांपते हुए राज्य के स्वास्थ्य विभाग को सतर्क करते हुआ कहा कि हमें इसकी तैयारी रखनी चाहिए।

फरवरी 2020 को समाप्त होने वाले गाड़ियों के परमिट की वैधता 30 सितम्बर तक बढ़ी

महाराष्ट्र के अधिकारियों ने जताई चिंता

राज्य के सीनियर स्वास्थ्य अधिकारियों ने भी कहा कि पहली लहर के मुकबले दूसरी लहर में मरीजों की संख्या दोगुनी हो गई है तो इस डेल्टा प्लस वेरिएंट के चलते अगर तीसरी लहर आती है तो इस बार से दोगुने लोगों के प्रभावित होने की पूरी संभावना है।

क्या कहना है राहुल पंडित का

महाराष्ट्र में महामारी की रोकथाम के लिए बनी टास्क फोर्स के मेंबर डॉ. राहुल पंडित का कहना है कि तीसरी लहर को कैसे नियंत्रित करना है ये हमें देखना होगा। यह हमारी जिम्मेदारी है। हमें भीड़ वाली जगहों से बचना चाहिए, और दो मास्क का इस्तेमाल करना चाहिए। अगर हमने आम सावधानियां नहीं बरती तो तीसरी लहर और भी बड़ी हो सकती है।

READ:  Teachers Inviting through loudspeakers : अनोखी पहल, ऑनलाइन क्लास के लिए टीचर्स स्टूडेंट को लाउडस्पीकर से बुला रहे 

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने क्या कहा

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने वैक्सीनेशन का दायरा बढ़ाने पर भी जोर दिया है। साथ उन्होंने ये भी कहा कि पहली लहर ने जब महाराष्ट्र को हिट किया तब इसे रोकने के लिए हमारे पास पर्याप्त सुविधाएं नहीं थीं, लेकिन हम आगे बढ़े और हमारी सुविधाएं काफी तेजी से बढ़ीं है।

मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि देश में हो रहे वैक्सीनेशन का फायदा यहां भी होगा। राज्य को अगस्त-सितंबर तक 42 करोड़ डोज़ मिलेंगी और इसका बड़े पैमाने पर महाराष्ट्र वासियों को फायदा होगा।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।