Home » Covid-19 की ‘लाइफ सेविंग’ दवा को मिली सरकार द्वारा मंज़ूरी

Covid-19 की ‘लाइफ सेविंग’ दवा को मिली सरकार द्वारा मंज़ूरी

covid 19 medicine
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश भर में तेज़ी से बढ़ते कोरोनावायरस (Covid-19) संक्रमण के बीच भारत सरकार ने शनिवार को लिया एक एहम फैसला। सरकार ने कोरोनावायरस के मरीज़ों के इलाज के लिए कम कीमत वाले स्टेरॉयड डेक्सामेथासोन (Dexamethasone) के प्रयोग को मंज़ूरी दे दी है। पूरे देश में आज हर एक वर्ग का व्यक्ति कोरोनावायरस (Covid-19) की चपेट में है, ऐसे में सरकार के कम कीमत वाली स्टेरॉयड (Steroid) के प्रयोग को मंज़ूरी देना एक एहम फैसला है।

कोरोना की ‘लाइफ सेविंग’ दवा

यह स्टेरॉयड मेथिलप्रेडनिसोलोन (Methylprednisolone) के विकल्प के तौर पर इस्तेमाल की जाएगी। इसका उपयोग मध्यम और गंभीर स्थिति वाले कोरोना वायरस के मरीज़ों पर किया जाएगा। ब्रिटेन में हुई एक क्लीनिकल ट्रायल में डेक्सामेथासोन को कोरोना की ‘लाइफ सेविंग’ दवा के रूप में पाया गया था। इस ट्रायल के बाद विश्व स्वास्थ संगठन (WHO) ने डेक्सामेथासोन के उत्पादन में तेज़ी लाने को कहा था।

ALSO READ: क्या है सेरोलॉजिकल सर्वे, दिल्ली में कैसे कम कर सकता है कोरोना का खतरा?

ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीज़ों पर हो सकता है इस स्टेरॉयड का प्रयोग

केंद्रीय स्वास्थ मंत्रालय (Ministry of Health) द्वारा जारी किये कोरोना वायरस के संशोधित संस्करण में कहा गया है कि डेक्सामेथासोन का प्रयोग उन मरीज़ों पर किया जा सकता है जिन्हे ऑक्सीजन सपोर्ट की ज़रुरत है और इस स्टेरॉयड का इस्तेमाल गठिया जैसे रोगों के मरीज़ों में सूजन को कम करने के लिए भी किया जा सकता है।

READ:  मध्यप्रदेश में टीकाकरण की सफलता के पीछे है इन युवाओं का हाथ

डेक्सामेथासोन 60 सालों से ज्यादा समय से बाजार में उपलब्ध

डेक्सामेथासोन स्टेरॉयड करीब 60 सालों से ज्यादा समय से बाजार में उपलब्ध है और आमतौर पर इसका प्रयोग सूजन को कम करने के लिए किया जाता है।

मौत का खतरा हो सकता है 35 प्रतिशत तक कम

हालही में ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी की टीम की अगुवाई में अनुसंधानकर्ताओं ने 2000 से ज्यादा गंभीर रूप से ग्रसित कोरोना वायरस के मरीज़ों पर डेक्सामेथासोन का प्रयोग किया था, जिसमे से 35 प्रतिशत लोगों में मौत का खतरा कम हुआ है। विश्व स्वास्थ संगठन ने ज़ोर दिया है की डेक्सामेथासोन का प्रयोग सिर्फ गंभीर रूप से बीमार लोगों पर ही किया जाए।

कोरोना वायरस का क्लीनिकल मैनेजमेंट

केंद्रीय स्वास्थ मंत्रालय ने क्लीनिकल मैनेजमेंट प्रोटोकॉल में जारी किया कोरोना वायरस का संशोधित संस्करण (Revised Edition)। मंत्रालय की ओर से जारी हुए इस दस्तावेज का उपयोग स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा रेफरेन्स के तौर पर किया जाता है। इस महीने की शुरुआत में केंद्रीय स्वास्थ मंत्रालय ने कोरोना के नए लक्षणों को सूची में शामिल किया था। बता दें ये लक्षण सूंघने और स्वाद महसूस करने की क्षमता को खोना हैं।

आपको बता दें कि, केंद्रीय स्वास्थ मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक़ देश भर में कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या 5 लाख के पार हो गई है और पिछले 24 घंटों में अब तक के सबसे ज्यादा 18,552 मामले सामने आए हैं। वहीं 2,95,880 लोग कोरोना मुक्त हो चुके हैं और 15,685 लोगों की कोरोना के कारण मौत हो चुकी है। भारत कोरोना संक्रमितों के लिहाज से दुनिया में सर्वाधिक प्रभावित दस देशों में चौथे स्थान पर है।

READ:  Shortness of breath can affect Covid patients for a year: Research

Written by Jyoti Dubey, She is a final year Post Graduation student of Journalism and News Media from GGSIPU, New Delhi.

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।