where most people live single

दुनिया का वो देश जहां अधिकतर लोग आजीवन सिंगल रहते हैं

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

where most people live single : जापान दुनिया के चुनिंदा उन देशों में शामिल है जहां बड़ी संख्या में लोग आजीवन सिंगल ही रहते हैं। न्यूज़ एजेंसी डीपीए की रिपोर्ट के मुताबिक, जापान में ऐसे लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है जो ज़िदगी भर सिंगल रहना चाहते हैं।

Amitabh Kant On Democracy: Truth Or Freudian Slip?

वहीं दूसरी ओर, जापान में शादी करने के बाद भी लोग सेक्स से दूरी बना रहे हैं। इन वजहों से जापान में बच्चों की जन्म दर में भी गिरावट आ रही है। यह स्थिति चिंताजनक है और इसे देश में अहम संकट के तौर पर देखा जा रहा है। इससे देश की इकोनॉमी पर भी बुरा असर पड़ रहा है। इसी वजह से जापान की आबादी में बूढ़े होते लोगों की संख्या तेज़ी से बढ़ रही है।

READ:  क्या अगरबत्ती और हवन का धुआं जानलेवा है? देखें क्या कहा डॉ. विक्रम जग्गी ने

Where most people live single : जापानियों के आजीवन सिंगल रहने के कुछ कारण

  • जापान में भी ऐसी परंपरा रही है कि महिलाएं घर का काम संभालें और पुरुष कमाए। लेकिन देश की इकोनॉमी अच्छी नहीं होने की वजह से महिलाओं को कमाने वाले अच्छे पार्टनर नहीं मिल पा रहे हैं। वहीं, देश में काफी लोग इसलिए भी सिंगल रहते हैं क्योंकि अधिक काम की वजह से उनके पास खाली वक्त ही नहीं रहता।
  • चुओ यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर मसाहिरो यामडा कहते हैं कि संभवत: जापान के 25 फीसदी युवा सिंगल ही रहेंगे और पूरी ज़िदगी शादी नहीं करेंगे। रिपोर्ट के मुताबिक, जापान में पिछले तीन दशक में सिंगल लोगों की आबादी काफी अधिक बढ़ गई है।
  • पांच साल पहले की एक स्टडी में यह भी पता चला था कि जापान की हर चार में से एक महिला और तीन में से एक पुरुष 30 साल से अधिक उम्र के होने के बावजूद सिंगल हैं। इनमें से आधे लोगों को रिश्ते में रुचि नहीं थी। देश में वर्जिन लोगों की संख्या भी बढ़ी है।
  • 2015 में यह भी पता चला था कि 1992 के मुकाबले, देश में 18 से 39 साल के युवाओं में, सिंगल महिलाओं की संख्या 22 लाख अधिक हो गई है और सिंगल पुरुषों की संख्या 17 लाख बढ़ गई है। बता दें कि फिलहाल जापान की कुल आबादी करीब साढ़े बारह करोड़ है।
READ:  VIDEO: क्या आपको भी सता रहा है कोरोना वायरस होने का डर, देखें इससे जुड़े सवालों के जवाब

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें [email protected] पर मेल कर सकते हैं।