Home » वैक्सीन नहीं लगाया तो गांव से निकाल देंगे, भोपाल के इन गांवों में जारी हुआ अजीबो-गरीब फरमान!

वैक्सीन नहीं लगाया तो गांव से निकाल देंगे, भोपाल के इन गांवों में जारी हुआ अजीबो-गरीब फरमान!

Corona Vaccination
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कई लोग वैक्सीन को लेकर फैली भ्रांतियों से बुरी तरह डरे हुए हैं तो कई उन लोगों को समझने के नए-नए पैतरें अपना रहे हैं। बचपन में एक बात सुनी थी कि अगर मम्मी पापा की बात नहीं मानोगे तो घर से बाहर निकाल दिए जाओगे। ऐसा ही कुछ आज कोरोना वायरस के चलते देखने को मिल रहा है। देश में कई इलाके ऐसे हैं जहां वैक्सीनेशन को लेकर अजीबो-गरीब फरमान सुनाए जा रहे हैं। ऐसा ही एक फरमान सामने आया है जिसमें कहा गया है कि अगर वैक्सीन नहीं लगवाया तो गांव से निकाल दिया जाएगा।

क्या है मामला

दरअसल वैक्सीन को लेकर बहुत से लोगों में भ्रम फैला हुआ है तो कुछ लोग डरे हुए भी हैं। लोगों ने अपने मन में धारणा बना ली है की अगर वो वैक्सीनेशन करा लेंगे तो उनकी मौत हो जाएगी। कुछ तो ये भी सोचने से पीछे न हटे की अगर वो वैक्सीनेशन करा लेंगे तो उनके प्रजनन अंगों में दिक्कत आने लगेगी और वो बच्चों को जन्म देने में असमर्थ हो जाएंगे।

READ:  Lockdown खुलना मुश्किल, कोविड के नए वेरिएंट से ब्रिटेन में बढ़ी मुश्किलें

भोपाल के गावों की अतरंगी पहल

जहां एक तरफ सारे लोग इन सभी वैक्सिनेशन के ढांढस को लेकर परेशान हैं वहीं दूरी ओर भोपाल के गांव रातीबड़, सरवर, सिकंदराबाद और मंडला में अलग ही वैक्सीन लगवाने का तरीका निकाला गया है। इन गावों के लोगों में ये भ्रम है कि वे वैक्सीनेशन के बाद मर जाएंगे। इसकी वजह से 17 हजार की आबादी वाले इन गावों ने वैक्सीन लगवाने से मना कर दिया था। टीका अभियान के तहत वैक्सीनेशन टीम आने पर वे सब घर पर ताला डालकर भाग जाते थे।

इन्हीं सब बातों को देखते हुए वहां के सरपंच ने ये जुगाड़ निकाला है कि अब अगर किसी ने कोरोना वायरस का वैक्सीन नहीं लगाया तो उसे गांव से निकाल दिया जाएगा। साथ ही उनके घर न तो कोई जाएगा और न ही वो किसी के घर जा सकेंगे। इस अभियान को वैक्सीन लगवाओ जान बचाओ नाम से चलाया जा रहा है। लोगों से आशा की जा रही है की वो भारी से भारी मात्रा में इस अभियान से जुड़कर इसे सफल बनाने का प्रयास करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग वैक्सीन लगवाए।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.