कोरोनावायरस बेरोज़गारी भत्ता

कोरोना में गई नौकरी तो सरकार देगी बेरोज़गारी भत्ता, जानें कैसे मिलेगा फायदा?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोनावायरस और लॉकडाउन की वजह से अपनी नौकरी खो चुके लोगों को मोदी सरकार बेरोज़गारी भत्ता देने जा रही है। करीब 40 लाख लोगों को मोदी सरकार यह राहत देने जा रही है। इसका फायदा केवल उन बेरोजगारों को मिलेगा, जो 24 मार्च से 31 दिसंबर 2020 के बीच अपनी नौकरी से हाथ धो बैठे हैं।

किसे मिलेगा बेरोज़गारी भत्ता

  • वर्कर्स एंप्लॉयी स्टेट इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन यानि ESIC के तहत रजिस्टर्ड लोग ही इस भत्ते का लाभ ले पाएंगे। ESIC द्वारा संचालित अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना तहत बेरोजगारी भत्ता मिलता है। इसे अब 30 जून 2021 तक के लिए बढ़ा दिया गया है। 
  • इसका फायदा उन कर्मचारियों को मिलेगा जो ईएसआई स्कीम के साथ कम से कम दो सालों से जुड़े हैं। यानि 1 अप्रैल 2018 से 31 मार्च 2020 तक इस स्कीम से जुड़े रहने वाले लोग इसके पात्र होंगे।
  • कर्मचारी ने 1 अक्टूबर 2019 से 31 मार्च 2020 के बीच कम से कम 78 दिनों तक कामकाज किया हो। 
  • मार्च से दिसंबर 2020 की अवधि में कुछ 41 लाख लोगों को लाभ होगा।
  •  बेरोज़गारी भत्ते का दावा सीधे ईएसआईसी शाखा कार्यालय में प्रस्तुत किया जा सकता है। नियोक्ता के साथ दावे का सत्यापन शाखा कार्यालय स्तर पर किया जाएगा।
  • बेरोज़गारी भत्ते का भुगतान सीधे आईपी के बैंक खाते में किया जाएगा।
  • यह भत्ता 90 दिनों (तीन महीने ) के लिए दिया जाएगा। तीन महीने के लिए औसत सैलरी का 50 फीसद क्लेम किया जा सकता है।
  • पहले यह सीमा 25 फीसद थी। पहले बेरोजगार होने के 90 दिनों के बाद इसका फायदा उठाया जा सकता था। अब इसे घटाकर अब 30 दिन कर दिया गया है।

कोरोना ने छीनी 1.89 करोड़ नौकरियां

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) के आंकड़ों के मुताबिक, कोरोना वायरस महामारी के बीच अप्रैल से अब तक 1.89 करोड़ नौकरियां चली गई हैं। सीएमआईई ने बताया है कि अप्रैल में 17.7 करोड़ वैतनिक नौकरियां गईं और इसके बाद मई में एक लाख नौकरियां चली गईं।

ALSO READ: आप राष्ट्र के नाम संबोधन सुनते रहे और अप्रैल से अब तक 1.89 करोड़ नौकरियां चली गईं

सीएमआईई ने कहा है कि नौकरीपेशा लोगों के लिए स्थिति लगातार खराब हुई है। गौरतलब है कि भारत में करीब 21 फीसदी लोग नौकरीपेशा हैं, जिन पर कोरोना की मार सबसे अधिक पड़ी है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।