Home » सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन, बिना दवाई के ठीक हो सकतें है कोरोना मरीज

सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन, बिना दवाई के ठीक हो सकतें है कोरोना मरीज

coronavirus new guideline
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Coronavirus New Guideline: कोरोना महामारी की तीसरी लहर के चलते देश की केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना गाइडलाइन (corona guideline) में कुछ बदलाव किए हैं। जिसके तहत जिन मरीजों में कोरोना के लक्षण नहीं दिख रहे या हल्के लक्षण हैं उन्हें दवाइयां लेने की जरूरत नहीं है। Coronavirus New Guideline : बाकी बीमारी में जो दवाई चल रही है वो लगातार खातें रहे लेकिन कोरोना की दवाई की जरूरत नहीं है। इसके अलावा अच्छी डाइट, अच्छा सोच और योग से वो बिल्कुल ठीक हो सकते हैं।

क्या है नई गाइडलाइन

डायरेक्टर जनरल ऑफ हेल्थ सर्विसेज (DGHS) ने बताया कि नई गाइडलाइन(new guidelines) के तहत एसिम्प्टोमेटिक मरीजों के इलाज में इस्तेमाल की जा रहीं सभी दवाओं को लिस्ट से हटा दिया गया है। इनमें बुखार और सर्दी-खांसी की दवाएं भी शामिल हैं। गाइडलाइन के अनुसार  ऐसे संक्रमितों को दूसरे टेस्ट करवाने की जरूरत भी नहीं है।

इससे पहले 27 मई को गाइडलाइन जारी की गई थी, जिसमें हल्के लक्षणों वाले मरीजों पर हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन, आइवरमेक्टिन, डॉक्सीसाइक्लिन, जिंक और मल्टीविटामिन के इस्तेमाल करने से मना कर दिया था।

Uttar Pradesh Coronavirus New guideline: यहां समझें कोरोना की नई गाइडलाइन, नियम तोड़ा तो होगा केस दर्ज

बेवजह न कराएं सिटी स्कैन

एसिम्प्टोमेटिक मरीजों को सीटी स्कैन कराने की जरूरत नहीं है। दो तिहाई बिना लक्षण वाले मरीजों की एचआरसीटी रिपोर्ट में समानता नहीं होती है और लक्षण आगे भी नहीं बढ़ते हैं। मगर बार बार एचआरसीटी टेस्ट करवाने से उससे निकलने वाले रेडिएशन का बहुत बुरा असर पड़ता है। भविष्य में उससे कैन्सर जैसी बीमारी भी हो सकती है।

READ:  Humans made pets sick with Covid: research

स्टेरॉयड का इस्तेमाल पहुँचा सकता है नुकसान

हल्के लक्षण वाले मरीजों के लिए स्टेरॉयड नुकसानदेह हो सकता है। जिनको बहुत ज्यादा गंभीर लक्षण हो उन्हें ही डॉक्टर की सलाह ले स्टेरॉयड लेना चाहिए। खुद की मर्जी से इसका इस्तेमाल न करें।

रेमडेसीवीर डॉक्टर की सलाह पर ही लगेगा

यह एक एंटी वायरल दवा है जिसका उपयोग गंभीर लक्षण वाले मरीज़ो के लिए ही किया जा सकता है। अगर अस्पताल में भर्ती मरीज को डॉक्टर ने इसका प्रयोग करने से मना किया है तो न लें। यह दवा सिर्फ अस्पताल से ही मिल सकती है।

84 दिन से पहले ले सकेंगे दूसरी डोज़

पढ़ाई और नौकरी के लिए विदेश जाने वाले लोग निर्धारित 84 दिन से पहले भी कोविडशील्ड की दूसरी डोज ले पाएंगे। जो टोक्यो में होने वाले ओलंपिक में भाग ले रहे हैं उनको भी यह सुविधा दी जाएगी। लेकिन इसमें दोनों डोज के बीच 28 दिन का अंतर होना चाहिए।

Coronavirus New Guidelines: छींकने पर दस मीटर फैलता है कोरोना

क्या कहतें हैं गाइडलाइन के नियम

• कोविड से ठीक होने के बाद अपना ब्लड शुगर लेवल चेक करते रहें और इसे नियंत्रित रखना जरूरी है।

• डॉक्टर की सलाह के बाद ही स्टेरॉयड का उपयोग करें।

• एंटीबायोटिक और एंटीफंगल दवाइयां का उपयोग कैसे करें इसपर डॉक्टर की सलाह लें।

• ऑक्सीजन ले रहे हैं तो ह्यूमिडिफायर में साफ पानी का ही इस्तेमाल करें।

• हाइपरग्लाइसीमिया को नियंत्रण में रखें।

READ:  Farmers plan daily protest outside Parliament during Monsoon Session

• इम्यूनिटी बूस्टर दवाइयों को बंद कर दें।

• एंटीफंगल प्रोफिलैक्सिस की जरूरत न हो तो इसे न लें।

• इसके इलाज के लिए अपने शरीर को हाइड्रेट रखें, पानी की कमी न होने दें।

अभी तक 13.98 मरीजों का चल रहा इलाज

देश में जितने लोग ठीक हुए हैं उतने ही लोगों की मौत भी हुई है। आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में 1लाख से भी ज्यादा मामले आये हैं, 1.73 मरीज सही हुए हैं और कुल 2,444 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना महामारी की शुरुआत से बात करें तो अभी तक 2.17 करोड़ मरीज ठीक हुए हैं। इसके अलावा 3.49 लोगों को मौत हो चुकी है। 13.98 लाख लोगों का इलाज अभी भी चल रहा है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।