कोरोना वायरस से मरने वाले इन लोगों के परिजनों को मिलेंगे 65-65 लाख रुपये!

corona virus delhi impact
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report News Desk | Mumbai

कोरोना का कहर दुनियाभर में जारी है। वहीं भारत में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 1 लाख के पार पहुंच चुकी है वहीं अब तक इससे करीब 3 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं महाराष्ट्र में मुंबई पुलिस ने बड़ा फैसला लेते हुए ऐलान किया है कि कोरोना वायरस से जान गंवाने वाले मुंबई पुलिस के कर्मचारियों के परिजनों को मुआवजे के तौर पर 65-65 लाख रुपये की सहयोग राशि प्रदान की जाएगी।

इस मामले में बुधवार को मुंबई पुलिस के अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि मृत पुलिसकर्मियों का परिवार महाराष्ट्र सरकार से 50 लाख रुपये और एक आश्रित के लिए नौकरी, मुंबई पुलिस फाउंडेशन (एमपीएफ) से 10 लाख रुपये और निजी बैंक बीमा कवर के माध्यम से पांच लाख रुपये पाने हकदार होगा।

न्यूज वेबसाइट इंडिया.कॉम की एक खबर के मुताबिक, मुंबई पुलिस के प्रवक्ता डीसीपी प्रणय अशोक ने प्रतिष्ठित न्यूज एजेंसी आईएएनस से इस मामले में हुई बातचीत में इस बात की पुष्टि की है कि इस आशय का निर्णय पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह द्वारा लिया गया है। कोरोना वायरस के चलते अब तक, मुंबई पुलिस के आठ कर्मियों की मौत हो चुकी है और शहर में 600 से अधिक कोरोना संक्रमित हैं।

गौरतलब है कि, व्यवसायिक समुदाय, पेशेवरों, सेलिब्रिटी और बॉलीवुड हस्तियों से दान स्वीकारने के लिए 2018 में धर्मार्थ ट्रस्ट एमपीएफ की स्थापना की गई थी। इस पंजीकृत ट्रस्ट को प्राप्त चंदे का इस्तेमाल पुलिसकर्मियों के कल्याण के लिए किया जाएगा।

ALSO READ:  From Dr Kotnis to Munna Bhai: How cinema portrayed health warriors

वहीं इस मामले में संयुक्त पुलिस आयुक्त नवल बजाज ने बताया कि यह पैसा शोक संतप्त परिवार के सदस्यों के बैंक खातों में 48 घंटे के भीतर ट्रांसफर किया जा रहा है। बता दें कि कोरोना के चलते मुंबई पुलिस ने अब तक चंद्रकांत जी. पेंडुरकर (57), संदीप एम. सुर्वे (53), शिवाजी एन. सोनवने (57), सुनील डी. कारगुटकर, मुरलीधर एस. वाघमारे (55), भगवान एस. पार्टे (46), मधुकर वाई. माने (57) और अमोल एच. कुलकर्णी (32) को खो दिया है।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.