Home » Covid Care Center: इन 10 बिंदुओं में जानें कैसा है देश का सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर

Covid Care Center: इन 10 बिंदुओं में जानें कैसा है देश का सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर

कानपुर और लखनऊ बने कोरोना के नए हॉटस्पॉट
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Largest covid19 care center: कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिए जगह-जगह कोरोना केयर सेंटर बनाए गए हैं। राजधानी दिल्ली में छतरपुर स्थित राधा स्वामी सत्संग व्यास को कोविड-19 सेंटर बनाया गया है जो देश का सबसे बड़ा कोरोना केयर सेंटर है। यह सेंटर 26 जून 2020 से शुरू हुआ है।

इस सेंटर की कुछ खास बातें:

(1) यह सेंटर करीब 300 एकड़ जमीन पर तैयार किया गया हैं। इसमें 12 लाख 50,000 वर्ग फुट वाला एक शेड है जिसमें 10,000 बेड लगाए गए हैं। इस शेड के अंदर तीन लाख लोग एक साथ बैठकर सत्संग सुन सकते हैं।

(2) सामान्य बेड के उपरांत इसमें गत्ते के बायोडिग्रेडेबल बेड लगाए गए हैं, इन बेडो की लागत भी कम है व बायोडिग्रेडेबल होने के कारण इन्हें सैनिटाइज करने की आवश्यकता भी नहीं होगी।

(3) देखभाल का इंतजाम देखें तो 10000 मरीजों के लिए 12 स्वास्थ्य कर्मी तैनात किए गए हैं जिनमें से 400 डॉक्टर और 800 नर्स होंगी।

READ:  List of Countries where Indians are allowed to travel after covid

(4) यहां 600 शौचालय, 70 मोबाइल शौचालय आदि यूरिनल स्नानघर है। यहां इंडो- तिब्बतन बॉर्डर पुलिस (ITBP) भी तैनात की गई है।

(5) सेटर को तीन भागों में विभाजित किया गया है- पहला व सबसे बड़ा मरीजों के लिए, दूसरा स्वास्थ्य कर्मी डॉक्टर और नर्सों के लिए और तीसरे में इसका नियंत्रण कक्ष होगा।

(6) कुछ बेडो के साथ ऑक्सीजन सिलेंडर भी होगा। पैथोलॉजी लैब भी तैयार की जा रही है जिससे जरूरी टेस्ट मौके पर ही किए जा सकेंगे।

(7) सत्संग के स्वयंसेवकों द्वारा लोगों को ट्रॉली की मदद से भोजन भी दिया जाएगा। 3 लाख लोगों के लिए भोजन बनाने की सुविधा भी है।

(8) हर एक बेड के साथ फोन व लैपटॉप चार्जर की सुविधा भी है। एमटीएनएल के लैंडलाइन फोन और इंटरनेट की गति के लिए टावर भी लगाए जा रहे हैं।

(9) हर एक बेड दूसरे बेड से 5 फीट की दूरी पर है। हर बेड के पास बैठने के लिए एक चेयर, पानी की बोतल, स्टूल, कूड़ेदान, साबुन आदि होगा।

READ:  Migrant Construction Workers and Covid-19 Pandemic

(10) 18000 टन की क्षमता वाला एसी व पंखे भी लगे हुए हैं। 1.7 लाख लीटर भूमिगत पानी का जलाशय भी है, जिसके पानी के नमूने जल बोर्ड हर दिन 5 बार जांचेगा।