Home » ऑक्सीजन की कमी से इन 9 अस्पतालोंं में अब तक 132 लोगों की मौत

ऑक्सीजन की कमी से इन 9 अस्पतालोंं में अब तक 132 लोगों की मौत

lack of oxygen, 132 people died in these 9 hospitals of India, So far Coronavirus second wave India
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

coronavirus lack of oxygen, 132 people died in these 9 hospitals of India, So far: कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बाद देश में अचानक कोरोना केस बढ़ गए हैं इसके चलते देश की स्वास्थ्य व्यवस्था की हकीकत सामने आई बल्कि ऑक्सीजन की भारी किल्लत के चलते कई लोगों की मौत हो गई है। (coronavirus lack of oxygen, 132 people died in these 9 hospitals of India, So far) दिल्ली के बत्रा अस्पताल से लेकर कर्नाटक के चामराजनगर स्थित सरकार अस्पताल में ऑक्सीजन समय पर न मिलने से लोगों ने तड़प-तड़प कर दम तोड़ दिया। इस स्टोरी के जरिये हम आपको बताएंगे कि ऑक्सीजन की कमी से किन-किन अस्पतालों में कोरोना मरीजों की मौत हुई है। (coronavirus lack of oxygen, 132 people died in these 9 hospitals of India, So far)

1. चामराजनगर सरकारी अस्पताल :- कर्नाटक के चामराजनगर सरकारी अस्पताल में हाल ही में ऑक्सीजन की कमी से 24 मरीजों की मौत हो गयी। ऑक्सीजन सप्लाई अचानक रुक जाने से मरीज तड़पने लगे। जिन कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन की जरूरत थी, वो सभी वेंटिलेटर पर थे। जब अस्पताल ने ऑक्सीजन के लिए प्रशासन से मदद मांगी तो उन्होंने 5 मिनट में टैंकर पहुँच जायेगे कहा। चामराजनगर अस्पताल को ऑक्सीजन बेल्लारी से मिलने वाला था लेकिन देरी के कारण पहुंच नहीं पाया। और लोगो की मौत हो गयी। इससे पिछले हफ़्ते भी कर्नाटक के कई अस्पताल में मौत हुई लेकिन यह सबसे बड़ा हादसा था।

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

2. बत्रा अस्पताल :- यह अस्पताल जहाँ 1 मई को ऑक्सीजन की कमी से मरीजों की मौत हो गयी। दिल्ली के बत्रा अस्पताल में दोपहर 12 बजे ऑक्सीजन खत्म होने की वजह से 8 मरीजों की मौत हो गयी। 12 बजे खत्म हुआ ऑक्सीजन डेढ़ बजे मिल पाया। डॉक्टर्स ने बताया कि जब उन्होंने दिल्ली सरकार के अस्पताल प्रतिनिधियों के व्हाट्सएप (Whatsapp) ग्रुप (group) पर मैसेज (message) रिक्वेस्ट किया तो जवाब में ” डिस्टर्ब न करें” बोला गया। बत्रा अस्पताल के पास बस 10मिनट की ऑक्सीजन बची थी। अस्पताल में 326 मरीज थे जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत थी लेकिन जब तक ऑक्सीजन पहुँचीं 8 मरीज जान गवां चुके थे। मरने वालों में गैस्ट्रोएंटोलॉजी सेक्शन के प्रमुख आर.के हिमतानी भी शामिल थे।

READ:  Coronavirus Covid19 infection time: संक्रमित व्यक्ति के साथ कितनी देर रहने में होगा कोरोना

3. अनंतपुर जनरल हॉस्पिटल :- यह दूसरा अस्पताल जहाँ 1 मई को ऑक्सीजन की कमी से जूझना पड़ा। एक ही दिन में देश के दो अलग शहरों में एक जैसी स्थिति बन गयी। आंध्रप्रदेश के अनंतपुर में ऑक्सीजन सप्लाई की वजह से 14 कोरोना मरीज की मौत हो गयी। अनंतपुर के इस गवर्नमेंट जनरल हॉस्पिटल में यह हादसा हुआ। बताया गया कि ऑक्सीजन पाइपलाइन में कुछ खराबी के कारण ऑक्सीजन मिलना बंद हो गयी। यहां 80 मरीज़ ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे जिनमें से 14 मरीजों ने अपनी जान गवाँ दी।

Corona Tool Kit: जानलेवा वायरस से आपको बचा सकती हैं ये 10 चीजें

4. ब्राइट स्टार हॉस्पिटल :- मुरादाबाद के ब्राइट स्टार हॉस्पिटल में गुरुवकर 29 अप्रैल को ऑक्सीजन की कमी से 6 मरीजों की मौत हो गयी। सुबह 3 बजे से 6 बजे तक उनको ऑक्सीजन नहीं मिल पाई। जिन मरीज़ों की मौत हुई सभी वेंटिलेटर पर थे। परिजनों ने बताया कि अस्पताल के स्टाफ ने ऑक्सीजन अर्रेंज करने के लिए कहा था मगर कुछ हुआ नहीं। मरीजों की मौत के बाद जब स्टाफ से पूछा गया तो स्टाफ इस बात से मुकर गया। मरने वालों में इसरो साइंटिस्ट के पिता भी शामिल थे।

5. जयपुर निजी अस्पताल :- राजस्थान में जयपुर के निजी अस्पताल में 28 अप्रैल को ऑक्सीजन की कमी का सामना करना पड़ा। ऑक्सीजन खत्म हो जाने की वजह से 4 मरीजों की मौत हो गयी। और 1 दर्जन से अधिक मरीजों की तबियत बिगड़ने लगी। उस वक़्त अचानक हुई मौत से अस्पताल के डॉक्टर घबरा गए और नर्सिंग स्टाफ फरार हो गया। ये हालात देख परिजनों ने पुलिस स्टेशन में शिकायत करी तब बाकी मरीजों को दूसरे अस्पताल में भर्ती कराया गया।

READ:  Nashik Hospital Oxygen Leak: टैंकर से लीक होती रही ऑक्सीजन, तड़प-तड़प के 22 कोरोना मरीजों की निकली जान

6. पारस हॉस्पिटल :- उत्तरप्रदेश में आगरा के पारस हॉस्पिटल में भी लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिला। ऑक्सीजन की कमी से 26 अप्रैल को 7 मरीजों की मौत हो गयी। सारे मरीजों का ऑक्सीजन हाई फ्लो पर चल रहा था ऐसे में अगर थोड़ी देर भी ऑक्सीजन न मिले तो क्या होगा। परिजनों ने प्रशासन की शिकायत भी करी पर कोई एक्शन नहीं लिया गया। प्रशासन पर आरोप लगा कि फ़ोन करने पर कोई फोन नहीं उठाता है। हेल्पलाइन नम्बर किसी काम के नहीं हैं।

7. सर गंगाराम अस्पताल :- दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में 23 मई को एक बड़ा हादसा हो गया। ऑक्सीजन की कमी की वजह से 25 मरीजों की मौत हो गयी। अस्पताल के चेयरमैन डॉ. डीएस राणा उस रात लगातार अधिकारियों से मदद माँगते रहे पर कुछ फायदा नहीं हुआ। ऑक्सीजन की कमी से पूरी रात जूझते रहे। “ऑक्सीजन कब आएगी, कब आएगी” कि राह तकते उनके 25 मरीज जान गवां बैठे और प्रशासन चुप्पी साधे रहा।

‘जनता को इतना निचोड़ दो की जिंदा रहने को ही विकास समझे’

8. जयपुर गोल्डन हॉस्पिटल :- दिल्ली के जयपुर गोल्डन हॉस्पिटल में शुक्रवार 23 अप्रैल रात को ऑक्सीजन की कमी से 20 मरीजों की मौत हो गयी। अस्पताल के डीके बलुजा ने शनिवार सुबह बताया कि हमारे पास सिर्फ आधे घंटे की ऑक्सीजन सप्लाई बची है। ऑक्सीजन की कमी से रात को ही वो अपने मरीजों को खो चुके हैं। उनके हॉस्पिटल में 200 मरीज़ भर्ती है अब उनकी भी जिंदगी दाँव पर लगी थी।

9. डॉ.जाकिर हुसैन अस्पताल :- एक तरफ जहाँ ऑक्सीजन की कमी से लोग अपनी जान गवाँ रहें हैं, वहीं दूसरी तरफ 21 मई को महाराष्ट्र के नासिक में डॉ. जाकिर हुसैन अस्पताल के बाहर ऑक्सीजन सप्लाई करने वाला ऑक्सीजन टैंकर लीक हो गया। जिससे 22 लोगों की मौत हो गयी। ऑक्सीजन का जो टैंकर मरीजों की जान बचाने के लिए लाया गया था उसी के लीक होने से ऑक्सीजन सप्लाई 30 मिनट तक बंद रही। ऑक्सीजन सप्लाई बंद होने से अस्पताल में 22 मरीजों की मौत हो गयी। टैंकर के वाल्व में खराबी आने से ऑक्सीजन लीक हो गयी जिससे उसका दवाब बढ़ गया। यह दवाब कई लोगो की जान ले गया।

READ:  उत्तर प्रदेश में Coronavirus और Lockdown की बदहाली बताते-बताते कैमरे पर रो पड़ा रिपोर्टर

मोदी सरकार के 5 बड़े घोटाले, जिनके सबूत मिटाने पर जुटी है सरकार

अपील:- जैसा कि आपको पता है हमारा देश कोरोना महामारी से निकलने की कोशिश कर रहा है, ऐसे में आपकी मदद भी जरूरी है। आपसे रिक्वेस्ट है कि आप मास्क लगाए, किसी चीज़ को छूने से पहले व बाद में सेनेटाइजर या साबुन से हाथ धोएं। बेवज़ह घर के बाहर न निकले। अपना और अपने परिवार का ध्यान रखें।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.