Home » घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

Coronavirus: covid1-9 cure Coronaviurs at home
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

(Coronavirus/Covid-19) कोरोना का डर लोगों में है लेकिन यह वायरस आमतौर पर ज्यादा खतरनाक साबित नहीं होता और ज्यादातर मामलों में घर में ही इलाज ((cure Coronaviurs at home)) मुमकिन है लेकिन इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

कोविड-19 की तीन स्टेज हैंः

पहली स्टेज – coronavirus in nose
सामान्य लक्षण- सर्दी-जुकाम आदि। मेडिकल साइंस के मुताबिक कोरोना वायरस सिर्फ नाक में है तो घबराने की जरूरत बिलकुल भी नहीं है। कुछ नहीं होगा। इसे रिकवर होने में अधिकतम एक दिन और कम-से-कम आधा दिन लगता है। मतलब आप एक ही दिन में मरीज ठीक हो जाता है। इसके लिए जरूरी है कि मरीज भाप यानी स्टीम ले और हां, विटामिन-सी की गोलियां खाना न भूलें। शोध में पाया गया है कि इस स्टेज में आमतौर पर बुखार नहीं होता।

दूसरी स्टेज – coronavirus in throat
गले में सूखापन, हल्का दर्द, खिचखिच, हल्का सर्दी-जुकाम आदि कोरोना वायरस की दूसरी स्टेज है। इसमें आपको बुखार भी हो सकता है। ऐसी कंडिशन में आप हल्का गर्म पानी ही पिएं। ठंडी चीजों से पूरी तरह परहेज करें। गर्म पानी से सुबह-शाम गरारे करें। बुखार होने पर पैरासिटामोल की गोली खाएं। इसके साथ विटामिन सी और बी कॉम्प्लेक्स की गोली सुबह-शाम लें। अगर लगता है कि कंडिशन खराब है तो साथ में एंटिबॉयोटिकक लें। हां, दवा लेने से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह ले लें।

READ:  Tamil Nadu में बना Corona Temple, यहां होती है कोरोना माता की पूजा

तीसरी स्टेज – coronavirus in lungs
4 से 5 दिन तक लगातार कफ, खराश, सांस लेने में दिक्कत, बुखार होना कोरोना की तीसरी स्टेज की निशानी हैं। ऐसी कंडिशन में आप गर्म पानी से गरारे करें। विटामिन सी, बी कॉप्म्पलेक्स, पैरासिटामोल खाएं। ज्यादा-से-ज्यादा तरल पदार्थ लें। भारी खाना अवॉइड करें। गर्म पानी ही पिएं। लंबी गहरी सांस लेने की कोशिश करते रहें और घर पर ही आराम करें।

इनके अलावा अगली स्टेज वो है, जब आपको लगता है कि सांस लेने में तकलीफ हो रही है। ऐसी कंडिशन में हॉस्पिटल रेफर किया जाता है, लेकिन अगर सोसायटी में या आपके आस-पड़ोस में किसी के पास ऑक्सिजन सिलेंडर हैं तो इसका उपयोग करें। इससे आपको हो सकता है अस्पताल जाने की नौबत ही न आए। अगर मरीज का ऑक्सिजन लेवल 43 है, तब एक्सटर्नल ऑक्सिजन सपोर्टर की जरूरत पड़ती है। ऑक्सिजन का सामान्य लेवल (98-100) है। लेकिन घर पर इलाज कराने के दौरान भी किसी अच्छे डॉक्टर के संपर्क में रहना और उसे स्थिति से लगातार अवगत कराना बहुत जरूरी है।

READ:  हंसराज बोले, निजीकरण आरक्षण को खत्म करने का एक साधन, #StopPrivatizingIndia

कोरोना के इलाज के लिए कुछ बातों का ध्यान जरूर रखें। जैसे कि बताई हुई दवाइयां ऐहतियातन घर पर ही रखें। मास्क लगाएं, सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करें और हां, इस पोस्ट को जनहित में शेयर करना न भूलें।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

ALSO READ: खुद को सुरक्षित रखते हुए कैसे करें कोरोना मरीज़ की घर में देखभाल

ALSO READ: अगर आपकी रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है तो यह आर्टिकल ज़रुर पढ़ें