Home » भारत में कोविड-19 के दौर की समाजिक असमानता

भारत में कोविड-19 के दौर की समाजिक असमानता

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

11 जुलाई को बॉलीवुड महानायक और भारत सरकार के कोविड-19 जागरूकता अभियान के मुख्य चेहरा अमिताभ बच्चन भी कोविड-19 से संक्रमित पाए गए। इसी के साथ उनके पुत्र अभिषेक बच्चन, बहू ऐश्वर्या राय और पोती आराध्या भी कोरोना संक्रमण से संक्रमित हैं। अमिताभ बच्चन और उनके पुत्र अभिषेक बच्चन को कोरोना के शुरूआती लक्षणों के दिखते ही नानावती अस्पताल में भर्ती कर दिया गया। जबकि उनकी बहू ऐश्वर्या राय और पोती को होम क्वांरटीन किया गया है।

अमिताभ बच्चन के कोविड-19 से संक्रमित होने की खबर आते ही उनके स्वस्थ होने के संदेशों से सोशल मीडिया भर गया। शिवसेना प्रवक्ता प्रियंका चतुवेर्दी, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना में ट्वीट किया। वहीं दूसरी ओर कोविड-19 के गंभीर लक्षण होने पर भी आम मरीज को ना ही अस्पताल में सुविधा मिल रही है और ना ही कोई नेता उनके स्वास्थ्य के लिए कामना करते हुए ट्वीट कर रहा है।

READ:  Health tips for Coronavirus: पालक के ये पांच फायदे, जो इसे 'सुपर पॉवर फूड' बनाते हैं

भारत में कोविड-19 के कम टेस्ट होने के कारण अभी भी इसके संक्रमण की वास्तविकता सामने नहीं आ पाई है तो वहीं एक साथ बच्चन परिवार के स्टॉफ के 30 सदस्यों के कोविड-19 टेस्ट के परिणामों का इंतजार किया जा रहा है।

यह कोई पहली घटना नहीं है जिसने भारत में कोरोना काल में सामाजिक असमानता को दिखाया है। इससे पहले जून के शुरुवाती दिनों में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कोविड-19 टेस्ट सरकारी अस्पताल से करवा कर, निजी अस्पताल में भर्ती हो गए थे। तो वहीं आम मरीज को कोविड-19 टेस्ट के लिए सरकारी अस्पतालों में हजारों की लाइन में लगना पड़ रहा है। भारत में निजी अस्पताल में एक साधारण बेड की कीमत 25,000 रूपये और आईसीयू में वेंटिलेटर के साथ बेड की कीमत 72,000 रूपये हैं, जो कि आम आदमी की हल्की जेब को भारी कर देती है। सरकार द्वारा लन्दन से अप्रवासी भारतीयों को वंदे मातरम मिशन के तहत लाया गया तो वहीं अपने ही देश में प्रवासी मजदूरों को अपने घर तक का सफर पैदल और साइकिल से करना पड़ा।

READ:  Corona Medicine 2-Deoxy-D-Glucose DRDO benefits: कोरोना में DRDO की दवा कितनी फायदेमंद?

विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के अनुसार, भारत सरकार ने 2016 में अपने 1.3 बिलियन लोगों के स्वास्थ्य सेवा पर प्रति व्यक्ति 63 डॉलर खर्च किए। तुलनात्मक रूप से, चीन ने 2016 में अपने 1.4 बिलियन लोगों में से प्रत्येक के लिए 398 डॉलर का खर्चा किया।

Written By Kirti Rawat, She is Journalism graduate from Indian Institute of Mass Communication New Delhi.

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।