Home » हिन्दू खतरे में मुसलमान भी खतरे में, कोरोना वायरस से हर इंसान खतरे में…

हिन्दू खतरे में मुसलमान भी खतरे में, कोरोना वायरस से हर इंसान खतरे में…

Coronavirus COVID-19
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पल्लव जैन | विचार

दिल्ली में हमने 3 दिन तक जो कत्लेआम देखा वह लंबे समय से लोगों के ज़हन में भरी जा रही नफरत का नतीजा था। आपने अपने Whatsapp ग्रुप में देखा होगा किस तरह आपको हिंदुओं से मुस्लिम और मुस्लिम से हिंदुओ को खतरा होने का पाठ पढ़ाया जाता है। आपको डराया जाता है, आपको नफरती संदेशों के ज़रिए यह बताया जाता है कि जाग जाओ अभी देर नहीं हुई है, वरना ऐसा होगा, वैसा होगा। क्या आपको चेतावनी देने वाले इन लोगों ने कोरोना वायरस के बारे में बताया है? क्या इन्होंने कोरोना वायरस से आपके धर्म के लोगों को बचाने का कोई उपाय बताया है? क्या इन्होंने आपको बताया कैसे यह वायरस देशों की बड़ी आबादी को निगलने के लिए तैयार बैठा है? नहीं बताया होगा! क्योंकि अभी तक इस गद्दार को मारने के लिए किसी गोली का आविष्कार ही नहीं हुआ है।

ईरान के उपराष्ट्रपति कोरोना पीड़ित

यह वायरस चीन से निकलकर दुनिया के तमाम देशों में तेज़ी से फैल रहा है। यह वायरस हिन्दू, मुस्लिम, ईसाई बौद्ध और नास्तिक में भेदभाव नहीं करता। यह इंसानों को उसी पैटर्न में खत्म करता है जिस पैटर्न में ईश्वर ने हमें बनाया था। यह वायरस राजा और रंक का लिहाज़ भी नहीं करता, ईरान के उपराष्ट्रपति कोरोना से पीड़ित बताए जा रहे हैं। कोरोना वायरस की वजह से सऊदी अरब इस साल होने वाली हज यात्रा भी रोकने जा रहा है।

दुनियाभर में 85 हज़ार से ज़्यादा मरीज़

जापान, कोरिया, स्पेन, पाकिस्तान, नीदरलैंड, कुवैत, अमेरिका में नए मरीज़ों की पुष्टि हुई है। दुनियाभर में 85000 से ज़्यादा लोग COVID-19 से पीड़ित हैं। 2941 जानें अब तक यह वायरस ले चुका है। 79 हज़ार 251 केस अकेले चीन में हैं। भारत में 3 मरीज़ों की अब तक पुष्टि हुई है। चीन के बाद कोरिया और ईरान में कोरोना तेज़ी से फैल रहा है। वायरस की उत्पत्ति, फैलने की वजह, इसके लक्षण अभी भी अज्ञात है। वैज्ञानिक दिन रात इसे समझने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अभी तक कोई सफलता नहीं मिली है। WHO इसे वैश्विक महामारी घोषित कर चुका है।

अर्थव्यवस्था पर कोरोना का असर

दुनियाभर की सरकारें कोरोना वायरस से चिंतित हैं। शुक्रवार को दुनिया भर के शेयर बाज़ार कोरोना की वजह से थर्रा गए। वैश्विक मंदी के बाद यह सबसे बड़ी गिरावट थी। अगर वायरस जल्द नहीं रूका तो बीमार अर्थव्यवस्था ICU में चली जाएगी।

READ:  Co Curricular Activities & Engineering Students

सरहद पार खड़े कोरोना पर कैसे होगी सर्जीकल स्ट्राइक?

आपको यह सब साम्प्रदायिक ज़हर फैलाने वाले नहीं बताएंगे। वे लोग आपको सिर्फ यही बताएंगे कि जब कोरोना हो जाए तो किसी मुस्लिम डॉक्टर से अपना इलाज मत करवाना। किसी हिन्दू मेडिकल स्टोर से दवा मत खरीदना। वो आपको यह नहीं बताएंगे कोरोना से लड़ने को सरकार कितनी तैयार है? हमारे बीमार स्वास्थ केंद्र इस महामारी से लड़ने में कितने सक्षम है? सरहद के मुहाने खड़े इस वायरस पर कैसे सर्जिकल स्ट्राइक की जाएगी? क्या CAA-NRC इस वायरस को भारत में घुसपैठ करने से रोक पाएंगे? वो आपको नहीं बताएंगे कैसे चिकन नेक काटकर इसे रोका जाएगा? कैसे 15 करोड़ लोग पुलिस हटाने पर इस वायरस को खत्म करेंगे? इसका मास्टर प्लान वो आपको नहीं बताएंगे।

READ:  Over Controlling Parents destroy children's future

शहर की खोई रौनक लौटाने को चीन बेताब

चीन इस वायरस से लड़ने में रात दिन लगा हुआ है। शहरों की सड़कें खाली हैं, मेट्रो में सन्नाटा है, स्कूल बंद हैं, दफ्तर बंद हैं, घर से निकलना लोग भूल गए हैं। अपने अपनों को खो रहे हैं। चेहरों पर मुस्कान नहीं एक अज्ञात बीमारी की दहशत है। TV पर रात दिन 24 घंटे, वुहान स्थित अस्पताल का सीधा प्रसारण किया जा रहा है। चीन एक लंबी जंग में कूद चुका है सिर्फ इस आस में की फिर लौटेगी उसके शहरों में रौनक…

यह विचार लेखक के निजी विचार हैं। इस लेख में दिए गए तथ्यों की ज़िम्मेदारी पूरी तरह लेखक की अपनी है।