congress priyanka gandhi cm yogi permission run buses migrant laborers BJP flags

बीजेपी चाहे तो कांग्रेस की दी हुई बसों पर अपना झंडा लगा लें लेकिन मजदूरों के लिए बसें शुरू करें: प्रियंका गांधी

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report News Desk | New Delhi

लॉकडाउन के चलते तपती धूप में सड़कों पर पैदल चलने वाले मजदूरों के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बसे उपलब्ध करवाई लेकिन इस पर अब राजनीति शुरू हो चुकी है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि यूपी सरकार अब भी अगर पैदल चल रहे प्रवासी मजदूरों के लिए बसों का इस्तेमाल करना चाहती है तो कर सकती है। बसें अभी भी खड़ी हुई हैं। इससे 82 हज़ार लोग घर आसानी से पहुंच सकते हैं। भले ही बीजेपी अपने झंडे बैनर लगाकर बसों को रवाना करें, लेकिन कर दें। हमें इसमें आपत्ति नहीं है। किसी तरह लोगों की मदद होनी चाहिए। ये समय राजनीति का नहीं था।

प्रियंका गांधी ने सोशल मीडिया पर लाइव कहा, ये जो लोग सड़कों पर हैं वह भारत की रीढ़ हैं। इन्हें मदद चाहिए, चाहें जो करे। इससे पहले हमें जहां जहां लगा हमने सकारात्मक भाव से सरकार को सुझाव दिए। जहां अच्छा काम किया तो हमने सरकार की तारीफ़ भी की। कुछ समय से हम कह रहे थे कि जो लोग पैदल चल रहे हैं उन्हें बसें मुहैया करा दें। इसी बीच हादसे होने शुरू हुए। इसके बाद भी रोडवेज बसें इतनी नहीं चली। इस पर हमने सोचा कि हम इनके लिए बस मुहैया करा देते हैं, ताकि दिल्ली एनसीआर से जो लोग चल रहे हैं, वो बसों में बैठ कर आराम से घर पहुंच जाएँ।

ALSO READ:  हाथरस गैंगरेप मामले में प्रधानमंत्री मोदी ने लिया संज्ञान, दिए कड़ी कार्रवाई के निर्देश

इसके बाद हमने पत्र लिखा- इस पर अगले दिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी ने कहा यूपी रोडवेज की 12 हज़ार बसें हैं, इन्हीं का इस्तेमाल होगा। आपकी ज़रूरत नहीं है। तो इस पर हमने 17 मई को जो 500 बसें गाजियाबाद में खड़ी थीं, उन्हें वापस कर दिया। फिर इसके बाद हमें अगले दिन पत्र मिला कि आप अपनी लिस्ट दीजिये, उसमें बसों की पूरी डिटेल होनी चाहिए। हमने इस पर धन्यवाद दिया और कुछ घंटे बाद लिस्ट दे दी। इसके बाद एक और पत्र मिला कि बसें लखनऊ पहुंचा दी जाए, इस पर हमने कहा कि बसें गाजियाबाद से लखनऊ तक वापस खाली जाएंगीं। तो सही नहीं रहेगा।

ALSO READ:  मध्य प्रदेश की 'प्यासी बस्ती', जल संकट ऐसा कि उत्तर प्रदेश से लाना पड़ रहा है पानी!

प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री योगी से कहा, जो नंबर गलत मिले हैं, उन्हें हटा देते, लेकिन ऐसा नहीं किया गया। हमनें 900 बसें राजस्थान की बॉर्डर पर और 300 बसें दिल्ली बॉर्डर पर भिजवाई। अगर ये बसें चलती तो कई हज़ार लोग घर पहुंच जाते, लेकिन हम राजनितिक उलझन में फंस गए। अगर बीजेपी अपना झंडा बैनर लगवाकर इन बसों को चलवा देती है तो भी हमें फर्क नहीं पड़ता। अब तक 82 हज़ार लोग घरों में पहुंच जाते। अगर यूपी सरकार को इन बसों को इस्तेमाल करना है तो करें। बसें खड़ी हैं। अगर ऐसा नहीं होगा तो हम बसें वापस भेज देंगे, जैसा कि एक बार पहले कर चुके हैं।

ALSO READ:  चुनाव के बाद भी क्यों होते हैं उपचुनाव, ये हैं 6 कारण

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि ये सिर्फ भारत के लोग नहीं हैं। ये भारत की रीढ़ हैं। इन्होंने देश बनाया है। इमारतें बनाई हैं। मुश्किल में इनकी मदद करना कोई एक पार्टी का काम नहीं, सभी दलों का है। जब से लॉकडाउन हुआ। तब से हम लोग लगे हुए हैं। लोगों को खाना दे रहे हैं। हम अब तक करीब 67 लाख लोगों की मदद कर चुके हैं। हमने सेन्ट्रल हेल्प लाइन भी बनाई। प्रियंका गांधी ने कहा कि मैं प्रवासी भाई बहनों से कहना चाहती हूं कि हम कांग्रेस के लोग। कांग्रेस के कार्यकर्ता उनके साथ खड़े हैं। वह जहाँ से भी गुजर रहे हैं, कांग्रेस के लोग उन्हें मिलेंगे। उनकी सेवा के लिए हाजिर हैं।