समीक्षा बैठक

कृषि बिल किसान विरोधी, ईस्ट इंडिया कंपनी की तरह काम कर रही बीजेपी सरकार: पीसी शर्मा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश के पूर्व जनसंपर्क मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा (Congress Leader PC Sharma) ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा है कि बीजेपी, मोदी सरकार और शिवराज सरकार (BJP, Modi Govt, Shivraj Sarkar) ये सब अंग्रेजों की ईस्ट इंडिया कंपनी (East India Company) की तरह किसानों को लूट रहे हैं। मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए पीसी शर्मा (PC Sharma) ने कहा कि मोदी सरकार का ये किसान बिल (Kisan Bill) किसान विरोधी है। एनडीए के हिस्सा रहे अकाली दल (Akali Dal) और शिवसेना (Shivsena) बीजेपी की असलियत जान चुके हैं इसलिए उन्होंने एनडीए (NDA) से नाता तोड़ दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) अडानी और अंबानी (Ambani-Adani) को फायदा पहुंचाने के लिए यह सब कर रहे हैं।

ALSO READ:  'अगर मुझे मंत्री नहीं बनाया गया तो इन 14 मंत्रियों को भी तत्काल मंत्री पद से हटाना चाहिए'

पीसी शर्मा ने कहा कि, प्रदेश की भाजपा सरकार बार-बार झूठ बोल रही है। फसल बीमा का पैसा कमलनाथ सरकार के समय जमा हुआ था। इसमें इस सरकार का कोई रोल नहीं है क्योंकि इस शिवराज सरकार के पास पैसा है ही नहीं। शिवराज सरकार हर महीने एक हजार करोड़ रुपये का लोन ले रहे हैं और भ्रष्टाचार कर के उन पैसों को निपटा देते हैं।


किसान बिल के विरोध में इंडिया गेट पर भी विरोध प्रदर्शन, ट्रेक्टर में लगाई आग

इतना ही नहीं उपचुनाव के लिए बीजेपी के वचनपत्र पर तंज कसते हुए पीसी शर्मा ने कहा कि भाजपा सिर्फ झूठ बोलकर आती है। बीजेपी ने बीते 15 वर्षों में जितने भी वादे किए हैं एक भी पूरे नहीं हुए है। प्रदेश में रोज ट्रांसफर हो रहे हैं चुनाव आयोग को इस पर भी रोक लगानी चाहिए। पीसी शर्मा ने काह कि, भोपाल स्थित मंत्रालय भवन पर चुनाव आयोग को आचार संहिता लगा देना चाहिए क्योंकि यहां से ही पूरे राज्य में ट्रांसफर हो रहे हैं।

ALSO READ:  मध्य प्रदेश उपचुनाव में किस सीट से कौन चल रहा आगे, देखें लेटेस्ट अपडेट

बता दें कि मोदी सरकार लाए गए किसान बिल का देश भर में विरोध है। किसान संगठन सहित तमाम विपक्षी दल किसान बिल का विरोध कर रहे हैं। बीते दिनों कांग्रेस लीडर राहुल गांधी ने भी पंजाब में एक किसान सभा को संबोधित कर इस किसान बिल को किसान विरोधी बताया था। वहीं इस बिल के विरोध में अकाली दल ने एनडीए से गठबंधन तोड़ लिया था।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।