congress Leader ashok gehlot to be new chief minister of rajasthan deputy CM sachin pilot

क्या आप राजस्थान के नए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बारे में ये 10 बातें जानते हैं…

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोमल बड़ोदेकर

जयपुर, 14 दिसंबर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत एक बार फिर बतौर मुख्यमंत्री राजस्थान की कमान संभालेंगे। यह तीसरा मौका होगा जब अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री बन रहे हैं। विधानसभा चुनाव के नतीजों में बुहमत हासिल करने के बाद से ही कांग्रेस पार्टी के लिए बड़ी चुनौती राज्य में मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा करना था। क्योंकि युवा चेहरा सचिन पायलट और अनुभवी नेता अशोक गहलोत दोनों के नामों की चर्चा काफी हो रही थी। हांलाकि केन्द्रीय समीति ने अशोक गहलोत के नाम पर मुहर लगा दी है। लेकिन बड़ा सवाल यह है कि क्या आप राजस्थान के नए मुख्यमंत्री के बारे में ये 10 बातें जानते हैं…

1)   अशोक गहलोत का जन्‍म 3 मई 1951 को राजस्थान के जोधपुरमें हुआ था। 67 वर्षीय गहलोत के पिता का नाम है। वे उन पढ़े लिखे नेताओं में से एक हैं जिनके पास विज्ञान और कानून के साथ ही अर्थशास्‍त्र की डिग्री है।

READ:  किसान कर्ज माफी पर बोले कमलनाथ, शिवराज जी इतना झूठ मत बोलो कि झूठ भी शर्मा जाये

2) 27 नवम्‍बर, 1977 को गहलोत का विवाह सुनीता गहलोत से हुआ। उनका एक बेटा और बेटी है। जिनका नाम वैभव गहलोत और सोनिया गहलोत हैं। करीबियों की मानें तो घूमने फिरने के शोकिन गहलोत को जादू भी बहुत पसंद है।

3) अशोक गहलोत इससे पहले भी राजस्थान के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। साल 1998 से 2003 और 2008 से 2013 तक गहलतो दो बार बतौर मुख्यमंत्री राजस्थान की कमान संभाल चुके हैं। यह तीसरा मौका है जब अशोक गहलोत एक मुख्यमंत्री के रूप में राजस्थान की कमान संभालेंगे।

4) अशोक गहलोत इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और पीवी नरसिम्हा राव की केंद्र सरकार में गहलोत पर्यटन, खेल और नागरिक उड्डयन, और कपड़ा मंत्रालय जैसे अहल मंत्रालयों का जिम्मा संभाल चुके हैं।

READ:  आज़मगढ़ में CAA के विरोध में प्रदर्शन कर रहीं महिलाओं पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज

यह भी पढ़ें: इन 10 बिंदुओं में जानें आखिर कौन हैं मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री कमलनाथ

5) साल 1977 में अशोक गहलोत ने सरदारपुरा विधानसभा से पहली बार विधायक का चुनाव लड़ा। लेकिन गहलोत अपना पहला चुनाव हार गए थे। इसके बाद साल 1980 में हुए मध्यावधी आम चुनाव में गहलोत ने जोधपुर से दावेदारी की और बतौर सांसद पहली बार लोकसभा में कदम रखने के साथ ही राष्ट्रीय राजनीति में भी बिगुल बजाया।

6) अशोक गहलोत कांग्रेस के उन नेताओं में से हैं जो संगठन चलाने की दक्ष हैं। यही कारण था कि साल 1985 में महज 34 साल की उम्र में गहलोत को बतौर प्रदेश अध्यक्ष कांग्रेस की कमान सौंपी गई।

7) अशोक गहलोत संजय गांधी के जिगरी दोस्तों में से एक थे। यही कारण है कि वे आज भी गांधी परिवार के सबसे करीबी और विश्वसनीय लोगों में से एक हैं।

READ:  मध्य प्रदेश उपचुनाव के लिए ये हैं कांग्रेस के स्टार प्रचारक, एक क्लिक में देखें पूरी लिस्ट

8) समाजसेवा में रुचि रखने वाले गहलोत राजस्थान सरकार में दो बार मंत्री भी रह चुके हैं। 
गहलोत एक बार राजस्थान के गृह और एक बार जन स्‍वास्‍थ्‍य अभियां‍त्रिकी विभाग के मंत्री रहे हैं।

9) अशोक गहलोत की वेरीफाइड फेसबुक आईडी को देखें तो उन्हें फेसबुक 
1,830,399 लोग फॉलो करते हैं। वहीं ट्विटर पर उनके 4,85, 113 फॉलोवर्स हैं जबकी वे खुद 74 लोगों को फॉलो करते हैं।

10) इस विधानसभा सचिन पायलट के साथ अशोक गहलोत चुनाव में प्रचार और चुनाव प्रभार की अहम भूमिका निभा रहे थे। पोस्टर्स में भी राहुल गांधी के साथ अशोक गहलोत और सचिन पायलट ही साथ थे।